आ गया, आ गया, आ गया! गूगल एडसेंस आ गया!!

इंटरनेट से आमदनी

अपने इस ब्लॉग की 1000वीं पोस्ट पर एक ऐसी खबर दे रहा हूँ कि आप खुशी से उछल पड़ेंगें। पिछले कई दिनों से गूगल की सेवायों में आ रही दिक्कतों से आभास तो हो गया था कि कोई शुभ समाचार मिलने वाला है। आज एकाएक ही नज़र पड़ी तो लगा कि बस वह घड़ी आने ही वाली है। 

आप भी देख सकते हैं अपने ब्लॉगर खाते में जाकर! लेआऊट के पास ही चमक रहा है ‘धनार्जन/ Monetize’ !! 
नीचे के स्नैपशॉट से पूरी तस्वीर साफ हो रही है।

आपको करना क्या है? उस धनार्जन/ Monetize पर क्लिक करें। एक पेज खुलेगा, जिसमें अपने विज्ञापनों की रूपरेखा तय कीजिये और आगे क्लिक कर खुद ही देख लें।
इसे कर के देखें और बतायें कि मैंने खबर सच्ची दी है या नहीं! बाकी बातें बाद में!!
अपडेट@19:17 -ये सुविधा कुछ नये ब्लॉगों पर नहीं दिख रही है, क्योंकि गूगल की नीति अब तक रही है कि वेबसाईट/ ब्लॉग, कम से कम 6 माह पुराने हों।

ऐसी ही नयी पोस्ट अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

आ गया, आ गया, आ गया! गूगल एडसेंस आ गया!!
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

24 thoughts on “आ गया, आ गया, आ गया! गूगल एडसेंस आ गया!!

  1. बधाई हो! बधाई हो! बधाई हो!

  2. वाह वाह ! हम भी लगते हैं लाइन में चाहे सबसे पीछे से हि अव्वल नंबर क्युं न हो

  3. पर इसके लिए गूगल एडसेंस खाता होना ज़रूरी है. और गूगल एडसेंस हिंदी ब्लोग्स के आवेदनों को सामान्यतः रिजेक्ट कर देता है. मैं कई बार आवेदन कर चुका हूँ.

  4. वाह पाबला जी, बहुत अच्छी खबर सुनाई! बधाई!!

  5. बधाई हो पर यह बधाई है आपकी १०००वीं पोस्ट – अरे वाह।

  6. हजारवीं पोस्ट की बधाई ! कैसा संयोग है -लगता है इसी का इंतज़ार कर रहे थे !

  7. बधाई हो हजारवीम पोस्ट के लिये और इस सूचना के लिये भी । पर सतीश जी सही कह् रहे हैं, हिन्दी ब्लोग्स के लिये आवेदन सामान्यतः रिजेक्ट कर दिया जाता है ।

  8. हजारवीं पोस्‍ट की बहुत बहुत बधाई … लेकिन अभी मेरे में नहीं आ रहा … छह महीने हो गए हैं इसके … हो सकता है कुछ दिन में शुरू करे।

  9. बधाई हो !

    हिन्दी का प्रचार-प्रसार; हिन्दी में विचार-विनिमय और हिन्दी में ज्ञान-विज्ञान का सृजन चलता रहे।

  10. हज़ारवी पोस्ट की बधाई। लक्ष्मीजी मोनेटाइज़ के माध्यम से आप पर प्रसन्न हो:)

  11. यह MONETIZE तो गत १ माह व कुछ दिन से आ रहा है, हिन्दी के ब्लॊग्स पर।

    सूचना के लिए आभार।

    यह भी ध्यान देना अनिवार्य है कि गूगल ने अपनी एडसेन्स की नीति में कुछ परिवर्तन भी किए हैं,मेरे पास उनका ईमेल से आया सन्देश इसकी पुष्टि कर चुका है।

  12. अभी तो एक अप्रैल दूर है
    और पाबला जी ब्‍लागरों को

    बावला बनाने में अभी से जुट गए हैं

    तीन दिन अग्रिम ही

    जबकि यह तय हुआ था कि

    पूर्व संध्‍या पर यह क्रियाकर्म

    पेश करेंगे।
    पर आप उन्‍हें मत बतलाना कि

    यह किसने बतलाया हे।

  13. बधाई हो जी १०००वीं पोस्ट की!
    बाकी गूगल दिखा तो सार्वजनिक सेवा के विज्ञापन ही है!

  14. सच कहूँ तो इसमें ऐसा कुछ भी नही है, ये सब लोग पहले भी उपयोग में लाते आये हैं। बस ये उन लोगों के लिये है जो तकनीकी में थोड़ा हाथ तंग रखते हैं, उनके लिये आसानी हो जायेगी। मुख्य बात है विज्ञापन आने की, फिलहाल तो हिंदी सार्वजनिक क्षेत्र का भला कर रही है।

  15. अच्छी जानकारी है। किन्तु कम्प्यूटर में कुछ नया करने में डरती हूँ। लिख रही हूँ वही बहुत है।
    घुघूती बासूती

  16. टेस्ट करने के लिए जो नया ब्लॉग बनाया वहां तो Monetize चमक रहा है और इस नए ब्लॉग को बनाते समय से ही है लेकिन जो पुराने ब्लॉग है वहां पर अभी भी यह सुविधा नहीं है

  17. पाबला जी,मेरी मानिए तो अब एक नयी तिजोरी ले ही लीजिए,भई अब जब ब्लाग की कमाई आऎगी तो कहीं संभालनी तो पडेगी ही..))

  18. बावला जी,

    फिर आपके ब्लॉग गूगल का सार्वजनिक विज्ञापन (Public Ad) क्यों दिख रहा है, जिससे कोई पैसा नहीं मिलता?

  19. नमस्‍ते बहुत बहुत बधाई, नई सूचना और 1000वे पोस्‍ट के लिये

  20. @ सतीश चंद्र जी
    मानता हूँ कि गूगल एडसेंस हिंदी ब्लोग्स के आवेदनों को सामान्यतः रिजेक्ट कर देता है। यह वर्तमान की बात है। कुछ समय पहले हिंदी भाषा चुनने का विकल्प रहता था, जो अब नहीं है।

    @ Tarun जी
    आप यह मान सकते हैं कि ये उन लोगों के लिये है जो तकनीकी में थोड़ा हाथ तंग रखते हैं। यह व्यक्ति विशेष पर निर्भर करता है, जैसे ब्लॉगर के सामान्य तथा ड्राफ्ट लॉगिन में आप देखते हैं।

    @ शैलेष भारतवासी जी
    मैं बावला नहीं, पाबला हूँ और मेरा ब्लॉग गूगल का सार्वजनिक विज्ञापन (Public Ad), विभिन्न भौगोलिक स्थिति/ तकनीक/ पोस्ट आदि के कारण दिखाता है।

    इसके अलावा मैंने लिखा है कि कोई शुभ समाचार मिलने वाला है … वह घड़ी आने ही वाली है। ऐसा कब कहा कि एडसेंस दिखना शुरू हो ही गया है।

    हालांकि अकसर व्यवसायिक विज्ञापन भी दिखते हैं। जैसे कि गूगल एडसेंस का दिन, भारतीय समयानुसार दोपहर 1 बजे के आसपास शुरू होता है और अब (3:35) तक मेरे ही ब्लॉग पर 32 page impressions के बदले 0.14 डॉलर मिले हैं और दिन भर इस खाते में औसतन 800 page impressions हो जाते हैं। हाँ, अंग्रेजी भाषा के ब्लॉगों और वेबसाईटों की बात ही कुछ और है।

    1000वीं पोस्ट की बधाई देने के लिए धन्यवाद्।

  21. पाबला जी बात अभी भी स्पष्ट नही हुइ क्यों कि मेरा एड सेंस खाता असक्षम किया हुआ बता रहा है । कारण समझ मे नही आ रहा है । क्या आप बता पायेगें मेरा ई मैल है । nareshbagar@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons