कभी खुशी, कभी गम: रोबोट से साझा कीजिए

कल की दुनिया

कंप्यूटर आज के समय में इंसानों के सबसे बड़े मददगार और दोस्त बनकर सामने आए हैं। अब जल्द ही ऐसा कंप्यूटर आ जाएगा, जो आपसे बातचीत करने में भी सक्षम होगा। जी हां! वैज्ञानिक ऎसी नयी कंप्यूटर प्रणाली विकसित कर रहे हैं जिनके बारे में उनका दावा है कि वह इंसानों के बोलचाल के ढंग और चेहरे के हावभाव पर प्रतिक्रिया देकर उनसे बातचीत करने लगेगा।

बेलफास्ट स्थित क्वींस यूनिवर्सिटी की एक टीम ऎसी ही कंप्यूटर प्रणाली विकसित करने में जुटी हुई है जिसे Sensitive Artificial Listener (एसएएल) प्रणाली के नाम से जाना जाता है। यह शोध यूरोपीय प्रोजेक्ट सीमेन (SEMAINE) का एक हिस्सा है। एसएएल प्रणाली किसी व्यक्ति के चेहरे के भावों और आवाज को देख व सुनकर उसके साथ बातचीत में शामिल हो जाता है। किसी इंसान के साथ संवाद में शामिल होने के बाद यह अपने तरीके से कार्य करता है और उपयोगकर्ता के अशाब्दिक व्यवहार के आधार पर अलगअलग तरीके से प्रतिक्रिया देता है

इंसानों द्वारा स्थापित किए जाने वाले संवाद की एक मौलिक खूबी यह है कि यह भावनाओं से प्रेरित होती है। जब हम किसी दूसरे व्यक्ति से बात करते हैं, तो हमारे मुंह से निकलने वाले शब्द हमारे अंदर के भावों का संकेत देते हैं जो यह बताता है कि हमें क्या पसंद है और क्या नापसंद है। चूंकि अभी मौजूद कंप्यूटर प्रणाली ऐसा नहीं कर पाती, इसलिए उनके साथ परस्पर संवाद करना इंसानों से वार्तालाप करने से अलग होता है और हमें यह काम बोरियत भरा महसूस होता है। इसलिए अब वैज्ञानिक इस समस्या का हल ढूंढने में जुटे हुए हैं।

इस सम्बन्ध में प्रेस विज्ञप्ति देखी जा सकती है। भावनायों वाली मशीन के बारे में भी जाना जा सकता है, मानव -मशीन संवाद के बारे में जाना जा सकता है।

कभी खुशी, कभी गम: रोबोट से साझा कीजिए
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

1 thought on “कभी खुशी, कभी गम: रोबोट से साझा कीजिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons