क्या हिन्दी के लिए गूगल एडसेंस वापस आ रहा!?

हिंदी ब्लॉगिंग में कभी कभी कुछ ऐसा नज़र आ जाता है कि दिल की धड़कने बढ़ जाती हैं, आंखों पर भरोसा नहीं होता, कल्पना के घोड़े दौड़ने लग जाते हैं, मन शेखचिल्ली जैसा हो जाता है।

ऐसा ही अभी कुछ देर पहले हुया। आज संध्या जब दीपावली पर एक पोस्ट लिखने की मंशा से ब्लॉगस्पॉट पर मैंने लॉग इन किया तो कुछ खटका निगाह में।

मामला यह था कि डैश बोर्ड की भाषा को मैं अक्सर बदलता रहता हूँ। पिछले दो सप्ताह से इसे मैंने हिंदी में किया हुया है। भाषा जब हिंदी हो तब भी इसमें पोस्ट्स के सामने लिखी तारीखें अब तक अंग्रेजी के अंको में लिखी हुई दिखती थीं जैसे 16-07-09 किन्तु आज संध्या से यह देवनागरी के अंकों में १६-७-०९ जैसे दिखनी शुरू हो गई है। अब सावन के अंधे को हरा ही हरा नज़र आयेगा ना?

अब मन शेखचिल्ली बना यही सोच रहा कि हिंदी के लिए गूगल एडसेन्स वापस आ रहा क्या दीपावली उपहार के रूप में? वैसे मेरे हिंदी ब्लॉगों पर एडसेंस के विज्ञापन कई सप्ताह से अक्सर दिखाई दे रहे हैं। देखें क्या होता है कल। शायद कोई घोषणा कर दे गूगल!
दीपावली पर्व की आप सभी को बधाई।
क्या हिन्दी के लिए गूगल एडसेंस वापस आ रहा!?
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

क्या हिन्दी के लिए गूगल एडसेंस वापस आ रहा!?” पर 17 टिप्पणियाँ

  1. आप के मुहँ में घी शक्कर!

  2. लड्डू खाईये जनाब ऐसी खबर लाने के लिए.

    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल ’समीर’

  3. खुशखबरी सुनाने के लिए धन्‍यवाद .. वैसे दीपावली के मौके पर मनपकवान खाने में भी हर्ज नहीं है .. पूरे परिवार सहित आपको दीपावली की शुभकामनाएं !!

  4. अरे वाह दिवाली शुरू ..पटाखे और बम फ़ूटने लगे.।
    बधाई हो सर …यानि जश्न शुरू करें फ़िर..।

  5. इस खबर को सुनकर तो मन करता है कि…

    पंछी बनूँ उड़ता फिरूँ ब्लॉगजगत में …

  6. बहुत सुंदर खबर जी, मजे दार खबर,
    दीपावली के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिवार को शुभकामनाएं

  7. हमारे जैसे बेरोज़गारो के लिये अच्छी खबर ।

  8. ऐसा हमको भी लगा जब हमारी बार बार ADSENSE खाते को हर बार के विपरीत केवल एक ही वजह से स्वीकार नहीं किया गया!!
    और वह वजह हर बार की तरह भाषा नहीं बल्कि पेज टाइप था!!

    सो आपकी उमीदों को हमारे भी पंख लग जाएँ!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

    —————————————————————-
    दीपावली पर्व पर आपको मेरी मंगलकामनाएं!!!
    —————————————————————-
    स्नेह अपना दो ना दो,
    दीप बन जलता रहूँगा|
    हर अंधेरी रात में,… अधिक पढ़ें
    जब अकेले ही चलोगे
    तुम्हारी राह का तम
    दूर मैं करता रहूँगा|
    स्नेह अपना दो ना दो,
    दीप बन जलता रहूँगा|
    —————————————————————————
    "प्राइमरी का मास्टर" की ओर से आपको दीपावली की हार्दिक मंगल कामनाएं !!
    —————————————————————————-

  9. ईश्वर करे कि आपका अंदाजा सही निकले! आपके मुँह में घी-शक्कर!!

    दीपोत्सव का यह पावन पर्व आपके जीवन को धन धान्य सुख समृद्धि से परिपूर्ण करे!!!

  10. क्यों मजाक कर रहे हैं। अफवाह फैलाकर ब्लॉगर बंधुओं की भावनाओं स‌े खेल रहे हैं। जब पूरी तरह क्लियर हो जाए तब भी लिखना था ना 🙂

  11. बहुत अच्छा । सुदर प्रयास है। जारी रखिये ।

    अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानियां, नाटक मुफ्त डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर से डाउनलोड करें । इसका पता है:

    http://Kitabghar.tk

  12. पाबला जी;
    मेरे पोस्ट पर आने और टिप्पणी देने के लिए धन्यवाद. मै तो कभी कभी खफा होकर हिन्दी-ब्लोग की दुनियाँ को छोड़ देता हूँ. फिर आप जैसे ब्लोगरोँ का अदम्य साहस, उत्साह और योगदान देखकर मन करता है, हमारा ठिकाना यही है. इधर उधर भटकने का कोई जरूरत नही.

    आशा है, आप हमारा बकवास सुनते रहेँगे.

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons