गूगल एडसेंस जैसों से ऑनलाईन आमदनी और मेरे अनुभव

ब्लॉग जगत में पुन: प्रवेश के बाद अनेक साथियों ने इस अंतराल की गतिविधियों की जानकारी ली तो वे चकित और रोमांचित थे। अपने सुपुत्र गुरूप्रीत की देखरेख में चल रहे वेब डिज़ाईनिंग के कार्य और गूगल एडसेंस जैसे ऑनलाईन विज्ञापन सेवायों से सुसज्जित वेबसाईटों के परिचालन से होने वाली आय की ओर देखते हुए, मेरे जैसे जिज्ञासु का इस ओर झुकना स्वभाविक ही था। हालांकि आजीविका के लिए सरकारी नौकरी ही काफी है, लेकिन दिमाग में कुलबुलाने वाले उस ‘कीड़े’ का एक ही इलाज़ नज़र आया कि इस तकनीक को कुछ और जाना जाये।

अब भी लगभग रोज़ाना कोई ना कोई ब्लॉगर साथी इस ऑनलाईन आय के संबंध में कुछ पूछ लेते हैं या बताने का आग्रह कर ही देते हैं।

मेरी हमेशा ही विनम्र सलाह रही है कि हिंदी में ही संतोषजनक स्तर पर बहुत कुछ लिखा गया है, इस बारे में। (सर्व जी) रवि रतलामी, जीतू, संजय बैंगाणी, जी के अवधिया, आर सी मिश्र जैसे अनेकों ब्लॉगर साथी बहुत कुछ उल्लेखनीय लिखते रहे हैं, लिख रहे हैं। वहाँ से पर्याप्त जानकारियाँ ली जा सकती हैं। गूगल खोजभी काफी कुछ बता देती है। किंतु जिज्ञासु साथियों ने ‘तेरा पी्छा ना छोड़ूंगा …’ का अंदाज बनाये रखा तो मैंने सोचा किसी एकाध को बताने से तो एक का ही भला होगा। अंग्रेजी जैसी इतर भाषायों में तो ऐसी जानकारियां देने वाले हजारों स्थल हैं। हिंदी में ही क्यों ना एक स्थान पर इसके बारे में बातें लिखी जांयें, जिससे किसी और को भी इसे पढ़ने का अवसर मिले, लाभ-हानि बाद की बात है। इसी सोच का परिणाम है ये श्रेणी ‘इंटरनेट से आमदनी’

अपनी वेबसाईट की इस श्रेणी में, मैं यह दावा नहीं कर रहा कि मुझे सब कुछ मालूम है और ना ही मेरी किसी से प्रतिस्पर्धा है। यहाँ तो बस, ऑनलाईन होने वाली आमदनी में अक्सर आने वाली जानकारी, पूछ्ताछ, दिक्कत, सहायता, सीख, रहस्य, रोमांच, हताशा, चर्चा को साझा करने की कोशिश होगी।
हो सकता है कि कतिपय स्थानों पर, किसी साथी को कुछ बातें, इसके पूर्व किसी अन्य जानकार की लिखी हुयी प्रतीत हों। उनको मैं यह विश्वास दिलाना चाहूँगा कि इस ब्लॉग पर लिखा गया, मेरा अपना व्यक्तिगत अनुभव है, किसी का चुराया हुया लेखन नहीं।
इस नयी कोशिश पर आप कुछ कहना नहीं चाहेंगे?
गूगल एडसेंस जैसों से ऑनलाईन आमदनी और मेरे अनुभव
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

17 Thoughts to “गूगल एडसेंस जैसों से ऑनलाईन आमदनी और मेरे अनुभव”

  1. RC Mishra

    पाबला जी लिन्क कर देते (जैसे हम आपको करते हैं) तो और अच्छा लगता, वैसे आपने शुरुआत बहुत अच्छी की है!
    धन्यवाद एवं शुभकामनायें।

  2. बी एस पाबला

    RC Mishra जी, गलती से मिस्टेक हो गयी। 🙂

    ऐसे मामलों में अतिरिक्त सतर्कता बरतता हूँ, लिंक देने के लिए (आप मेरे मूल ब्लॉग में देख सकते हैं) लेकिन इस नये वाले में, थोड़ी देर में करता हूँ सोच कर, बाकी कार्यों में उलझ गया।

    चूक हो गयी।

    क्षमा।

  3. mahashakti

    गूगल एडसेंस में मेरे अनुभव भी काफी सफल रहे है, किन्तु गूगल की नीतियो के कारण हिन्दी ब्लागरो को काफी नुकसान उठाना पड़ा है।

    http://pramendra.blogspot.com/search/label/%E0%A4%90%E0%A4%A1%20%E0%A4%B8%E0%A5%87%E0%A4%82%E0%A4%B8

  4. Udan Tashtari

    शुरु हो जाईये-इन्तजार करते है. अनेक शुभकामनाऐं.

  5. SWAPN

    swagat hai, main bhi kuchh jaankarian chahunga bhavishya mein.

  6. Vivek Rastogi

    बधाई हो आपको ।

  7. Abhishek Mishra

    Aapki posts ka intejar rahega.

  8. सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी

    मैं तो इस मामले में एकदम अनाड़ी हूँ। आपने बड़ा अच्छा किया जो ऐसा ब्लॉग खोला। शायद मैं भी कुछ सीख सकूँ। धन्यवाद।

  9. anitakumar

    ये जानकारी हम जैसे अनाड़ियों से बाँटने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्। आप की पोस्ट का इंतजार रहेगा।
    Word verification kyun lagaa diyaa? yeh toh musibat lagta hai

  10. दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

    पाबला जी, बधाई हो, आप का यह ब्लाग तो पहले दिन ही हिट हो रहा है।

  11. venus kesari

    आपकी पोस्ट का इंतज़ार रहेगा

    वीनस केसरी

  12. श्यामल सुमन

    मेरी भी है एक फरियाद।
    रखियेगा मुझको भी याद।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    http://www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

  13. Avtar Meher Baba

    Dear Sir,
    Please let me know how to put advertiesmetn on hindi blog beacause I am not able to do it. Ans also tell me how did you manage to get this template with Tabs on teh top.
    My email is chandar30@gmail.com
    Jai Baba and Regards
    Dr. Chandrajiit Singh

  14. pawankumarmall

    आप हिन्दी में लिखते हैं. अच्छा लगता है. मेरी शुभकामनाऐं आपके साथ हैं

  15. डा.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava)

    ॐ एग्रीगेटराय नमः तोलय तोलय सहस्त्रकोटि नमस्तुते
    मालपानी आने दो..
    शनिपीड़ा जाने दो….
    मेरी भक्ति गुरू की शक्ति सफ़ल बनाओ काज मैं हूं निर्बल शिष्य तुम्हारौ रकम दिलाओ आज॥
    अगर ब्लाग बनाते समय इस साबर मंत्र का एक हजार एक बार जाप कर लिया जाए तो गूगल का दिल आपके लिये पसीज जाता है और चेक की बजाए बोरों में भर कर रकम सीधे आपके घर पहुंचाई जाने लगती है। ये सब इस मंत्र का चमत्कार है
    सादर
    डा.रूपेश श्रीवास्तव

  16. संगीता पुरी

    बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

  17. रचना गौड़ ’भारती’

    जानकारियों के लिए धन्यवाद

Leave a Comment

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons