जब हमने Golden Jubilee वर्ष में Silver Jubilee मनाई

पिछले दिनों जब आधिकारिक तौर पर, मुझे अपने नियोक्ता Steel Authority of India Limited के Bhilai Steel Plant से, संबंधित कार्मिक कार्यालय द्वारा जारी, एक औपचारिक पत्र प्राप्त हुआ तो क्षण भर के लिए मन उदास हो गया। लेकिन तुरंत ही चेहरे पर मुस्कुराहट तैर गयी और लगा कि ये तो अभी कल ही की बात थी, इतनी जल्दी वक्त गुजर गया? पता ही नहीं चला! दरअसल पत्र था 25 वर्षों की सेवावधि पूर्ण करने पर सम्मानित व पुरस्कृत किये जाने हेतु आमंत्रण का। वैसे तो 25 वर्षों की सेवावधि पिछले वर्ष, अप्रैल में ही पूर्ण हो चुकी थी, किन्तु कैलेंडर वर्ष की गणना व्यवहारिक तौर पर किए जाने के कारण अपना नंबर अभी लग पाया।

इस मौके पर बीते हुए कई खट्टे-मीठे अनुभव भी याद हो आये। इसके अलावा, जिस समय हमने Bhilai Steel Plant में सेवा प्रारम्भ की थी, उस समय तकरीबन 68000 अधिकारी-कर्मचारी हुआ करते थे और उत्पादन क्षमता थी 25 लाख टन वार्षिक की। आज कार्यबल है करीब 32000 का और उत्पादन क्षमता 70 लाख टन को पार कर रही है! दूरसंचार सहित अन्य विभागों में शोर मचाती Electromechanical प्रणालियों की जगह खामोश कम्प्यूटरीकृत प्रणालियां आ गयी हैं। पहले हमारे 235 सदस्यीय विभाग के विभाग प्रमुख, Manager हुआ करते थे, अब 160 विभागीय कर्मचारी दो Deputy General Manager की देखरेख में हैं। हालांकि सतत चलने वाली उत्पादन प्रक्रिया को बनाये रखने में, मेरे विभाग का बेहद महत्वपूर्ण सहयोग अब भी बरकरार है।
शुरूआती दिनों में हमने, रूस से आयातित, वाल्व आधारित 20 और 40 लाईनों वाले कथित मैन्युअल टेलीफोन एक्सचेज़ (जिन्हें KOCT-22 और DKZT-40 के नाम से जाना जाता था), भारी शोरगुल वाले स्थानों के लिए लाऊडस्पीकर वाले संचार साधनों (जिन्हें रूसी भाषा में ПГС कहा जाता था), बड़ी मिलों में भारी क्रेनों से संचार सम्पर्क के लिए उन्हें चलाने को दी जा रही उच्च दा्ब की विद्युत तारों के माध्यम से चलने वाले संचार यंत्रों (Power Line Carrier Communication) आदि पर कार्य किया। फिर दौर आया ट्रांज़िस्टर व स्वावलम्बन का, और शुरू हुआ भारतीय उपकरणों का उपयोग। चाहे वह Indian Telephone Industries का बना 20 लाईनों का मैन्युअल एक्सचेंज हो या 50/ 100 लाईनों का, या फिर Philips के Distributed Amplifier हों, या फिर KELTRON के closed circuit TV। सभी ने हाल ही तक बखूबी साथ दिया।

तकनीक परिवर्तन के दौर में अब लगभग सभी उत्पादन स्थलों पर आंतरिक संचार हेतु Siemens, Matrix, Copper Connection, BPL, Coral सहित अनेकों कम्पनियों के छोटे-छोटे EPABX लग चुके हैं। शोर भरी जगहों के लिए Philips के PROPAM (Programmable Plant Management Sytem), पाली कर्मियों के लिए WLL, अधिकारियों के लिए मोबाईल फोन, भारी भरकम क्रेनों से सम्पर्क के लिए VHF प्रणाली, मुख्यालय व अन्य संयत्र प्रमुखों की कॉंफ्रेंस हेतु वीडियो कॉंफ्रेंस प्रणाली, डाटा संचार हेतु Optical fibre cable का जाल, मिलकर उत्पादन लक्ष्य को नई ऊंचाईयां प्रदान करने में सहयोगी कारक बन चुके हैं।
इन सबके बीच, मुझे अपने विभागाध्यक्ष भी याद आते हैं (स्वर्गीय) खिचरिया, श्री मंडल, गुप्ता जी, श्री नरेन्द्र खुराना, (स्वर्गीय) रे साहब, उमाकांत जी व अभी दायित्व संभाले हुए श्री बेहरे। सभी ने कमान बखूबी संभाली है।
आज जब समारोह से लौट रहा था तो एक बात पर फिर मुस्कुराहट चेहरे पर आ गयी, जब याद आया कि Hindustan Steel Limited से बनी हमारी कम्पनी SAIL इस वर्ष, अपनी स्वर्ण जयंती मना रही है और मैं अपने सेवाकाल की रजत जयंती! मतलब स्वर्ण जयंती वर्ष में रजत जयंती मनाई जा रही!!
जब हमने Golden Jubilee वर्ष में Silver Jubilee मनाई
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

7 Thoughts to “जब हमने Golden Jubilee वर्ष में Silver Jubilee मनाई”

  1. Golden Jubilee वर्ष में Silver Jubilee चलिये आप को दोनो की ही बधाई,युही आप Jubilee मनाते रहे.
    धन्यवाद

  2. सब बढ़िया है, सदा ख़ुश रहें

    —आपका हार्दिक स्वागत है
    गुलाबी कोंपलें

  3. बहुत अच्छा पाबला जी, लोग आधे और उत्पादन तीन गुणा।
    पर यह भी है कि इस उत्पादन ने कितने स्तर पर कितने जॉब क्रियेट किये होंगे!
    अच्छा लगा यह जान कर।

  4. रजत और स्वर्ण जयन्तियों की बधाई!

    आप ने स्पष्ट कर दिया कि तकनीक का विकास मानव श्रम को कई गुना उत्पादक कर देता है।

    मेरी समझ है कि इस का लाभ पूरे मानव समाज को मिलना चाहिए। लेकिन मौजूदा व्यवस्था के चलते चंद लोगों तक सीमित हो जाता है।

  5. सबसे पहले तो आपको रजत और स्‍वर्ण जयन्‍ती के बधाइयां।
    आपकी पोस्‍ट से मिले जुले विचार मन में उठे। ज्‍यादा लोग मिल कर कम उत्‍पादन कर रहे थे और अब कम लोग मिल कर ज्‍यादा उत्‍पादन कर रहे हैं। मनुष्‍य मे यन्‍त्र बनाया और यन्‍त्र ने उसी का शिकार कर लिया। उधर उत्‍पादन बढ् रहा है और इध बेरोजगारों की संख्‍या।
    खुश हुआ जाए या दुखी-तय कर पाना कठिनर हो रहा है।
    बहरहाल,नाना प्रकार की प्रचुर जानकारियों वाली पोस्‍ट के लिए धन्‍यवाद।

  6. सेवाकाल की रजत जंयति पर आप को ढेर सारी शुभकामनाएं और बधाई।
    बहुत अच्छी और विस्तृत जानकारी दी आप ने । आप की कंपनी के बारे में पढ़ कर अच्छा लगा

  7. बहुत-बहुत बधाई आपको सिल्वर जुबिली की और गणतंत्र दिवस की।कभी रायपुर आयें तो मिलियेगा,अच्छा लगेगा।

Leave a Comment


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons