फेसबुक पर फैला नापसंदगी का खेल, नुकसान हुआ ब्लॉगरों को भी

लगता है कुछ अरसा पहले ब्लॉगिंग में फैला नापसंदगी पर क्लिक करने का खेल कुछ और विध्वंसकारियों को पसंद आ गया है तभी तो इन दिनों फेसबुक पर “Activate Dislike Button” के संदेश बड़ी तेजी से पाँव पसार रहे हैं जबकि हकीकत में अभी तक फेसबुक द्वारा ऎसी कोई ‘सुविधा’ नहीं दी गई है। लेकिन देखने में यह सब इतना मासूमदिखता है कि इसके चक्कर में हजारों लोग हड़बड़ी में इस लिंक पर क्लिक कर बैठते है और अपने साथ-साथ अपने मित्रों को भी समस्याओं से घेर देते हैं

दो दिन पहले मुझे भी ऐसा संदेश फेसबुक ईमेल की मार्फ़त मिला कि

Facebook now has a dislike button! Click ‘Enable Dislike Button’ to turn on the new feature!

चूँकि मैंने अपने कम्प्यूटर पर पहरा देने के लिए कई ‘सैनिक’ तैनात कर रखे हैं सो धड़ल्ले से क्लिक कर दिया उस लिंक पर! फिर क्या था वे सब भाले बरछी लेकर तैनात हो गए यह बताते हुए कि कोई बदमाश जावा स्क्रिप्ट, कम्प्यूटर के अन्दर आने की कोशिश कर रही!!

फेसबुक नापसंदगी
होता यह है कि दी गई लिंक पर क्लिक किए जाने पर ऊपर दिए गए चित्र जैसी स्क्रीन आती है जिसमे दिए गए कोड की नकल ले कर उसे ब्राऊज़र के एड्रेस बार में चिपका कर एंटर बटन दबाने को कहा जाता है। जहाँ आपने ऐसा कुछ किया कि यह एक पोस्ट के रूप में आपकी वाल पर पोस्ट हो जाएगा और फिर ई-मेल द्वारा भी फैल जाएगा।

साथ ही साथ यह Share बटन/ लिंक का नाम बदल कर Activate Dislike Button कर देता है वही काम करता है जो ब्राऊज़र के एड्रेस बार में चिपकाने से होता है।

मूल रूप से यह एक वायरस है जो ठीक-ठाक सक्रिय हो जाए तो आपके फेसबुक, हॉटमेल, याहू, पेपाल आदि के पासवर्ड हैकर तक पहुंचा देगा।

नुक्कड़ वाल़े अविनाश वाचस्पति ने तो अपनी इस व्यथा को जाहिर भी किया है।

हालांकि अब ऎसी किसी लिंक पर क्लिक किये जाने पर फेसबुक बताता है कि ‘जिस पेज के लिए आपने अनुरोध किया है वह अभी नहीं दिखाया जा सकता’। लेकिन सावधानी रखने में क्या बुराई है क्योंकि पहले भी ऐसा ही एक कारनामा हैकर्स ने किया था जिसका विषय था Dad Catches Daughter on Webcam और लोग उस लिंक पर क्लिक कर पछताए थे। क्या पता अगली बार किस मानवीय कमजोरी को निशाना बनाए ये विध्वंसकारी?

लेकिन क्या आप जानते हैं कि फेसबुक खुद आपके प्रोफाईल से भारी भरकम कमाई कर रहा है?

क्या इस पर भी कुछ लिखा जाए?

फेसबुक पर फैला नापसंदगी का खेल, नुकसान हुआ ब्लॉगरों को भी
5 (100%) 1 vote
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

15 Thoughts to “फेसबुक पर फैला नापसंदगी का खेल, नुकसान हुआ ब्लॉगरों को भी”

  1. Arunesh c dave

    पाबला जी आपके पास तो कई अत्याधुनिक सैनिक हैं पर हम सब के रक्षक आप ही हैं आपको कोटी कोटी धन्यवाद

  2. Udan Tashtari

    बस, सैनिक तैनात रखिये और सजग करते रहें.

  3. प्रवीण पाण्डेय

    जानता है कि कहाँ भागते हैं सब।

  4. ललित शर्मा

    लिखिए जी लिखिए
    और इन वायरसों को पकड़ के रखना
    इनकी छित्तर परेड करनी है………..:)

  5. rashmi ravija

    ओह!! लोगो के ऐसे मैसेज पाकर परेशान हो गयी हूँ…पर अपनी आदत नहीं , इस तरह के लिंक पर क्लिक करने की,इसलिए बची रही अब तक…अच्छा हुआ आपने विस्तार से बता दिया.

  6. मीनाक्षी

    बहुत पहले हड़बड़ी में हमने भी कुछ ऐसा किया कि अब दो नावों पर पैर हैं… शायद आपके सैनिक कुछ रास्ता निकालें…

  7. अजय कुमार झा

    बहुत ही अच्छी जानकारी , अब तो मैं भी सचेत रहता हूं और बिना आश्वस्त हुए किसी भी ऐसी एप्लीकेशन को नहीं छेडता । उम्मीद है कि मित्र सचेत हो गए होंगे ।

    हां सर अब वो फ़ेसबुक वाला नोट पेज भी हट गया है ..जिस पर इस पोस्ट को पूरा का पूरा डाला गया था

  8. Mukesh Kumar Sinha

    Pabla sir aap ho to dar kahe ka…:)
    waise iss baar maine koi galti nahi ki….

  9. DABBU MISHRA

    ओह … लगता है बिन लादेन के दुनिया नही चलना चाहती

  10. संगीता स्वरुप ( गीत )

    अच्छी जानकारी है ..कभी कभी अनजाने में ऐसा हो जाता है ..ध्यान दिलाने के लिए आभार

  11. संगीता स्वरुप ( गीत )

    अच्छी जानकारी है ..कभी कभी अनजाने में ऐसा हो जाता है ..ध्यान दिलाने के लिए आभार

  12. कविता रावत

    bahut upyogi jaankari… ham to bahut kuch nahi jaante bus kuch problem hoti hai to aap logon ko hi yaad kar samjh lete hain…

  13. शरद कोकास

    जी हाँ , इस पर भी कुछ लिखा जाए ( एक मासूम सा अनुरोध )

  14. हाल ही में अपने एक फेसबुक स्टेटस में मैंने फेसबुक पर डिसलाइक के लिए एक बटन की जरूरत पर बल देते हुए कहा था कि फेसबुक पर हमारी हालत चुनावों में मतदाता जैसी है।

    किसी का कोई स्टेटस पसंद न आने पर भी लाइक का बटन दबाना पड़ता है या फिर उसे छोड़ देना पड़ता है, जैसा कि एक मतदाता के तौर पर हमलोग आम तौर पर करते हैं।
    टिप्पणीकर्ता सृजन शिल्पी ने हाल ही में लिखा है: जो नैतिक है वह न्यासी हो सकता हैMy Profile

    1. Approve

      आधिकारिक विकल्प में किसे समस्या होगी!

Leave a Comment

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons