फेसबुक वालों की जानकारियाँ विज्ञापनदातायों को खुद बेच रहा फेसबुक

दीवाने ना तो किसी की सुनते हैं और ना ही किसी की परवाह करते हैं भले ही कोई कितना भी चीखता चिल्लाता रहे। फेसबुक के दीवानों का भी वही हाल है अब भले ही यूरोपीय आयोग अपनी ताज़ा रिपोर्ट में कहता फिरे कि फेसबुक अपने उपयोगकर्तायों के राजनीतिक विचार, लैंगिक पहचान, धार्मिक आस्थाएं और यहां तक कि उनका अता-पता भी जमा कर रही है तो कौन परवाह करेगा!

 

लेकिन यह एक कड़वी सच्चाई है कि इंटरनेट आधारित लोकप्रिय सोशल नेटवर्किग साइट फेसबुक विवादों में घिर गई है। उस पर अपने सदस्यों की निजी सूचनाएँ विज्ञापनदाताओं को बेचने का आरोप लगा है। ब्रिटिश अखबार द संडे टेलीग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक, यूरोपीय आयोग इस मुद्दे पर फेसबुक के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी में है।

 

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि लोग चाहे अपनी प्राइवेसी सेटिंग कुछ भी रखें, फेसबुक अत्याधुनिक सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर लोगों की सूचनाएं जमा कर,  उसे विज्ञापनदाताओं को उपलब्ध करा रही है। इसके चलते यूरोपीय आयोग अगले साल जनवरी में नया दिशा-निर्देश जारी करने वाला है। इसमें इस तरह के हरकतों पर प्रतिबंध लगाने का प्रावधान होगा।

 

इसके अलावा नियमों का पालन न करने पर फेसबुक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। यूरोपीय आयोग के उपाध्यक्ष विविएन रीडिंग ने कहा कि वर्तमान यूरोपीय दस्तावेज संरक्षण कानून में संशोधन करके नए दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि हमने सेवा प्रदाताओं, खासकर सोशल मीडिया साइटों से कामकाज को लेकर पारदर्शिता बरतने को कहा है। फेसबुक सदस्यों को यह तो पता होना चाहिए कि आंकड़ों का संग्रह क्यों किया जा रहा है। इनका भविष्य में कहां इस्तेमाल होगा।

 

faceboo advertisers

मज़े की बात यह है कि फेसबुक ने घुमा फिरा कर स्वीकार भी किया है

 “We can show relevant ads in a way that respects individual privacy because our system only provides advertisers with anonymous and aggregate information for the purpose of targeting ads.”

 

लेकिन दीवाने तो दीवाने हैं! वो तो गुनगुनाते रहेंगे

हम तो मुहब्बत करेगा , दुनिया से नहीं डरेगा।

फेसबुक वालों की जानकारियाँ विज्ञापनदातायों को खुद बेच रहा फेसबुक
5 (100%) 1 vote
Print Friendly

Related posts

25 Thoughts to “फेसबुक वालों की जानकारियाँ विज्ञापनदातायों को खुद बेच रहा फेसबुक”

  1. काजल कुमार

    मुझे तो आजतक समझ ही नहीं आया कि ‘अटेंशन-सीकरों’ की तरह इतनी जानकारी इस तरह की वेबसाइटों पर देकर हीरो बनने की ज़रूरत ही क्या है

    1. Thinking

      यही तो मैं भी सोचता हूँ!

  2. निजी चीजें निजी ही रखी जायें।
    टिप्पणीकर्ता प्रवीण पाण्डेय ने हाल ही में लिखा है: कुम्भकर्ण का श्रापMy Profile

  3. क्या ख्याल था, इस्तेमाल नहीं करेगा?

    1. Ssshh

      कहीं कम कहीं ज़्यादा
      लेकिन
      हर जगह यही हाल है

  4. सही कहते हैं आप, पर छुटती नहीं है काफिर फेसबुक कीबोर्ड से लगी हुयी।
    टिप्पणीकर्ता ePandit ने हाल ही में लिखा है: ISO (सीडी, डीवीडी, बीडी इमेज) फाइलें क्या होती हैंMy Profile

    1. Smile

      हम नहीं कहते ज़माना कहता है

  5. मैं तो अब यदा-कदा ही प्रकट होता हूँ !
    टिप्पणीकर्ता संतोष त्रिवेदी ने हाल ही में लिखा है: ब्लॉगिंग के साइड-इफेक्ट !My Profile

    1. Pleasure

      तभी दर्शन लाभ कम होते हैं

  6. धंधा है भाई धंधा है
    गंदा है पर धंधा है
    कौन यहां पर चंगा है
    सबका अपना धंधा है
    जो ना देखे अंधा है
    धंधा है भाई धंधा है।

    1. Wink

      कौन यहां पर चंगा है1

  7. फ्री का चन्दन घिसने का किसी तरह तो मूल्य चुकाना ही पड़ेगा ना !!

    Gyan Darpan
    .
    टिप्पणीकर्ता रतन सिंह शेखावत ने हाल ही में लिखा है: वर्डप्रेस ब्लॉग में पोस्ट लिखनाMy Profile

  8. आज फेसबुक सूचनाएं बेच रहा है कल ब्लॉगस्पोट भी बेचना शुरू करेगा आखिर फ्री में सुविधाएँ देने वाला कहीं न कहीं कैसे न कैसे वसूली तो करेगा ही|

    Gyan Darpan
    .
    टिप्पणीकर्ता रतन सिंह शेखावत ने हाल ही में लिखा है: वर्डप्रेस ब्लॉग में पोस्ट लिखनाMy Profile

  9. इससे नुकसान क्या हो सकता है?
    टिप्पणीकर्ता मनोज कुमार ने हाल ही में लिखा है: कुछ बेतरतीब विचार … अभिव्यक्तिMy Profile

    1. Amazed

      सारी कथा बांच ली और आप हैं कि..

  10. मुफ्त में लोगों को एकाउंट बनाने, दोस्‍ती करने, चैटिंग और दुनिया भर के मनोरंजन का साधन जुटाने दे रहा है तो कुछ तो कमाई करेगा ही…….
    टिप्पणीकर्ता अतुल श्रीवास्‍तव ने हाल ही में लिखा है: अध्‍ययन यात्रा बनाम दारू पार्टी…. !!!!!My Profile

    1. Tired

      मेहनत करे मुर्गी
      अंडा खाए फकीर

  11. Praveen ji Baat Bilkul Sahi hai…..
    टिप्पणीकर्ता Dr. Monika Sharma ने हाल ही में लिखा है: अब मैं माँ को समझती हूँ…..!My Profile

  12. पाबला जी ,नमस्कार !
    एक समाधान करें! पोस्ट पर आने वाली टिप्पणी की सुचना इ-मेल पर तो दिखती है ..पर आज-कल कोई-कोई टिप्पणी पोस्ट पर नही दिखती ऐसा क्यों ? समाधान बताएं !
    आभार होगा !
    खुश रहें !

    1. Geek
      अशोक जी सति श्री अकाल
      आपके द्वारा बताई गई समस्या का समाधान इस लिंक पर मौजूद है
      http://www.blogmanch.com/viewtopic.php?f=7&t=25

  13. तो फिर, फ़ेसबुक के कमेंट का प्रावधान भी ब्लाग से निकाल देना चाहिए! क्या विचार है प्राजी 🙂
    टिप्पणीकर्ता चंद्र मौलेश्वर ने हाल ही में लिखा है: एक पुराना लेखMy Profile

    1. Pleasure

      माध्यम और निर्भरता, दो अलग अलग बातें हैं सर जी

  14. आपका प्रयाश काफी अच्छा है और मैं अपने मित्रों को आपके बारे में बताता भी रहता हूँ, आपका प्रयास सफल हो ऐसी आशा है

Leave a Comment

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons