बहुत ज़हर उगल लिया लेकिन क्या अब कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार हैं?

पता नहीं कितनों को यह मालूम होगा कि पिछले दिनों एक युवक ने गुस्से के मारे, बदला लेने के इरादे से मुफ़्त के मंच पर ऑनलाईन ज़हर उगला था। उस पर ढ़ेरों लोग उमड़ पड़े और कईयों ने तो अपने कथित अनुभव भी लिख डाले। अब हालत यह है कि जिसके खिलाफ़ यह भड़ास निकाली गई थी उसने मानहानि का दावा ठोक दिया है।

बेशक फेसबुक, ट्विटर, ब्लॉग जैसे मुफ़्त के मंच, अपने उपयोगकर्तायों को शिकायतें उठाने का मंच दे रहे हैं। यह माना भी जा सकता है कि किसी अनुचित बात पर, संतुष्टि की तलाश में, किसी इंटरनेट मंच पर अन्य के विरूद्ध अपनी भड़ास निकाल ली जाए किन्तु ऐसे मामलों में उसे अदालत में घसीटा जा सकता है। कानूनी विशेषज्ञों का भी कहना है कि मानहानि के मामलों में उस मंच का उपयोग करने वाले के खिलाफ़ कानूनी कार्रवाई किया जाना तर्कसंगत है। कुछ कानूनी जानकार इसे मुकद्दमों की दशकों पुरानी उस कानूनी पैंतरेबाज़ी के नवीनतम अवतार का एक उदाहरण मान रहे हैं जिसे दुनिया भर में Strategic Lawsuit Against Public Participation या SLAPP के नाम से जाना जाता है।

मैं जिस मामले की बात कर रहा हूँ उसे मौखिक और लिखित झूठे दावों के आधार पर एक धर्मयुद्ध सा बनाया गया और साथ ही साथ इंटरनेट का दुरुपयोग, बेईमानी व बिना किसी योग्यता के किया गया। मेरा यह भी मानना है कि भले ही मुफ़्त के मंचों का सहारा ले, किसी के द्वारा अपनी अभिव्यक्ति व्यक्त की जा सकती है, लेकिन ध्यान रहे कि यह कानूनी पचड़ों और बदनामी में भी ढकेल सकता है।
यह ताज़ा बात हुई है उस मामले में जिसमें एक पार्टटाईम कार्य कर रहे नवयुवक के साथ, जिसकी कार को गलत पार्किंग के आरोप में क्रेन वाले उठा कर ले गए और युवक ने गुस्से में आकर फेसबुक पर अपनी भड़ास निकाली जिसमें अनेकों ने उसका साथ दिया। नतीज़तन, जिसके खिलाफ़ ज़हर उगला गया था उसने अदालत में एक मुकद्दमा ठोक दिया जिसमें उस नवयुवक से 3,52,61,785 रूपए (साढ़े सात लाख डॉलर) मुआवजा दिलवाने की माँग की गई है।
यदि आप अधिक जानकारी लेना चाहें तो यहाँ, यहाँ और यहाँ क्लिक कर संबंधित मामले की खोजबीन कर सकते हैं।

बहुत ज़हर उगल लिया लेकिन क्या अब कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार हैं?
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

36 Thoughts to “बहुत ज़हर उगल लिया लेकिन क्या अब कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार हैं?”

  1. जी.के. अवधिया

    बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी दी है आपने पाबला जी!

  2. डॉ टी एस दराल

    अभी किसी ऐक्ट्रेस की शिकायत पर एक १७ साल का लड़का भी पकड़ा गया है , नेट पर बदनाम करने के लिए । सभी को सावधान रहने की ज़रुरत है । इस सुविधा का दुरूपयोग ठीक नहीं ।

  3. पी.सी.गोदियाल

    बाप रे ,
    पाबला साहब, इसीलिए मैं न तीन में रहता हूँ और न तेरह में !

  4. फ़िरदौस ख़ान

    आपने बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी दी है…
    हमें लगता है, ब्लॉग गंभीर विषयों के लिए नहीं है…

  5. वन्दना

    badhiya jankari di.

  6. AlbelaKhatri.com

    जान कर अच्छा लगा

  7. honesty project democracy

    सही बात है किसी की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता इसलिए नहीं है की वह किसी के भी अपमान का कारण बने ,ऐसा करने वाले लोगों को सख्त से सख्त सजा दिया जाना चाहिए चाहे वो कोई भी हो |

  8. Mithilesh dubey

    बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी दी है आपने पाबला जी!

  9. निशांत मिश्र - Nishant Mishra

    अच्छी जानकारी.
    पहले तो मैं कुछ और ही समझा था.

  10. डॉ महेश सिन्हा

    अंदाजन कितने साल लगते हैं अपने देश में मानहानि के मुक़दमे निपटने में ?

  11. Anonymous

    @ डॉ महेश सिन्हा
    melody khayo khud jaan jaayo!

  12. डा० अमर कुमार


    आपका टेम्पलेट बहुत बढ़िया है,
    और यह मुझे पसँद भी है !

  13. ललित शर्मा

    बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी दी है आपने पाबला जी!

    आभार

  14. Gourav Agrawal

    महत्वपूर्ण जानकारी

  15. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    चेतावनी देती हुई पोस्ट बहुत उपयोगी है!

  16. ali

    यहां यहां यहां लिंक कहां देखें पाबला जी फिलहाल तो हम डाक्टर अमर कुमार के साथ सुर मिला रहे हैं 🙂

  17. पलक

    अनूप ले रहे हैं मौज : फुरसत में रहते हैं हर रोज : ति‍तलियां उड़ाते हैं http://pulkitpalak.blogspot.com/2010/06/blog-post.html सर आप भी एक पकड़ लीजिए नीशू तिवारी की विशेष फरमाइश पर।

  18. सूर्यकान्त गुप्ता

    बहुत ही महत्वपूर्ण और उपयोगी जानकारी। धन्यवाद! पाबला जी।

  19. राज भाटिय़ा

    इसी लिये हम मस्त है, ना किसी को कुछ गलत कहे ना सुने… यह यहां विदेशो मै आम है, एक छोटी सी गाली " मात्र पागल" गुस्से या नफ़रत से कहने से ही ५०० से ले कर १० हजार € तक का जुर्माना है.
    धन्यवाद

  20. पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

    आपको तो मिस्ट्री राईटर होना चाहिए था 🙂

  21. शिवम् मिश्रा

    सार्थक जानकारी से भरी पोस्ट के लिए आपका आभार !

  22. nilesh mathur

    सावधान, होशियार, महत्वपूर्ण जानकारी!

  23. दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

    आप हमारा हक छीन रहे हैं।

  24. Arvind Mishra

    "…ले पचास के ऊपर हो गए हैं फिर भी अपने को जवान कहते हैं ."….इस पर कानूनी कार्यवाही हो सकती है क्या ?

  25. 'उदय'

    …प्रसंशनीय पोस्ट … जरुरी है कानूनी कार्यवाही !!!

  26. vinay

    सावधान करती उपयोगी जानकारी ।

  27. आचार्य जी

    आईये जाने …. प्रतिभाएं ही ईश्वर हैं !

    आचार्य जी

  28. चन्द्र कुमार सोनी

    अच्छे-बुरे लोग हर जगह होते हैं, इसलिए बुराई की तरफ ध्यान ना देते हुए हमें हमेशा अच्छाई की तरफ ही ध्यान देना चाहिए.
    धन्यवाद.
    http://WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

  29. arvind

    बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी दी है आपने पाबला जी!

  30. सुनील दत्त

    हम सब को इस बात काध्यान रखना चाहिए कि हम कोई निराधार बात न लिखें वही लिखें जो प्रमाणिक हो व जिसे हम माननीय न्यायालय में सही साबित कर सकते हों

  31. डॉ महेश सिन्हा

    hmmmmmmm
    पता चला कौन है ये Anonymous 🙂

  32. महाशक्ति

    श्री पाबला जी मै आपसे यहाँ सहमत हूँ, नेट आज ऐसा माध्‍यम है कि सब इससे एक डोर से बधे हुये है, विचारों मे मतभेद हो सकता है किन्‍तु इसे मनभेद की स्थिति तक नही ले जाना चाहिये, जैसा कि श्री द्विवेदी जी ने कहा कि आप उनका(और मेरा भी) हक छीन रहे है तो आप और आप जैसे और लोग इसी प्रकार एक दूसरे के हक को छीनत हुये सार्थक लेखन की ओ आये तो निश्चित रूप से हिन्‍दी चिट्ठकारी उ‍न्‍नति करेगी।

    वैसे भी कानून के बल पर सुधार नही लाया जा सकता है समझदारी मे भला है।

  33. अन्तर सोहिल

    जानकारी देती पोस्ट के लिये आभार
    मुफ्त के प्लेटफार्म पर कार्य करते हुये हम भी सावधानी बरतेंगें जी

    प्रणाम

  34. बी एस पाबला

    @ बेनामी

    बेशक आपकी जानकारी सही है किन्तु संवेदनशील भी है। अपने ब्लॉग से किसी विवाद की शुरूआत करने की मेरी नीयत कभी भी नहीं रही है। अत: आपकी दोनों टिप्पणियाँ खेद सहित हटा रहा हूँ। आशा है अन्यथा नहीं लेंगे।

  35. DHEERAJ

    पहले तो ये कहना चाहूँगा कि 'बाबला सर' ने जो नाम दिया है 'मुफ्त का मंच' उसे पढ़कर चेहरे पर थोड़ी मुस्कान आ गयी।

    आपके द्वारा जानकारी बहुत अच्छी है मैंने तो इस बारे मे सोचा भी नहीं था! इस मंच पर हम अपनी भड़ास निकलने के लिए स्वतंत्र हैं पर हमे किसी व्यक्ति विशेष के नाम का जिक्र करने से बचना चाहिए, और संवेदनशील मुद्दे पर सावधानी पूर्वक लिखना चाहिए।

Leave a Comment

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons