भिलाई के युवकों द्वारा निर्मित विश्व रिकॉर्ड की रजत जयंती: विशेष लेख-माला

वैसे तो हर क्षेत्र में भिलाई अपने उद्भव के समय से ही विश्व कीर्तिमान बनाते आया है। कई कीर्तिमान टूट गए, कई कीर्तिमान आज भी अपने स्थान पर अटल हैं।

इन्हीं कीर्तिमानों में से एक है भिलाई के युवकों द्वारा बनाया गया वह रोमांचकारी विश्व कीर्तिमान, जिसे इस अप्रैल माह में 25 वर्ष होने जा रहे हैं। सिल्वर जुबली मनाने जा रहा, भिलाई को गौरान्वित करने वाला यह विश्व कीर्तिमान था ‘मोटर साइकिल पर विश्व भ्रमण’।

‘मोटर साइकिल पर विश्व भ्रमण’ का यह रोमांचकारी अभियान पूरा किया था भिलाई इस्पात संयत्र में तब कनिष्ठ प्रबंधक रहे अनिरुद्ध गुहा व सुनील थवानी ने।

अनौपचारिक तौर पर भिलाई से 18 मई 1984 को प्रारम्भ कर भिलाई में 17 अप्रैल 1985 को समाप्त हुए इस अभियान में कुल समय लगा था लगभग साढ़े ग्यारह माह का।

 

अनिरुद्ध गुहा - अनिल थवानी

(1984 का एक फाईल चित्र)

इस गर्वीले रिकॉर्ड को 2010 की 17 अप्रैल के दिन 25 वर्ष हो रहे हैं। ग्यारह माह से अधिक के इस अभियान की गाथा आने वाली ग्यारह पोस्टों में समेटे जाने का प्रयास किए जाने का इरादा है।

शनिवार-रविवार को छोड कर, संभवत: आप इसे पढ़ पाएंगे प्रतिदिन सायं: 4:30 पर

समाचारों में अनिरुद्ध गुहा - अनिल थवानी

विश्व भ्रमण अभियान की खबरें, तब के समाचार पत्रों में

 

आप रहेंगे ना इन रोमांचकारी क्षणों के साथ?

आइये पढ़ें इस अभियान के लिए सलाहें, योजना व तैयारी क्या रहीं.

 

भिलाई के युवकों द्वारा निर्मित विश्व रिकॉर्ड की रजत जयंती: विशेष लेख-माला
5 (100%) 1 vote

भिलाई के युवकों द्वारा निर्मित विश्व रिकॉर्ड की रजत जयंती: विशेष लेख-माला” पर 17 टिप्पणियाँ

  1. .. वाह अद्भुत , शानदार पढने की बेसब्री बढ गई है सर । मैं तो ये सोच कर ही रोमांचित हो रहा हूं कि अब से पच्चीस वर्ष पहले वो भी मोटर बाईक का चक्कर ..पूरी दुनिया का …एकदम कमाल है सर । इंतज़ार रहेगा । और उन्हें बहुत बहुत बधाई इस सफ़लता और रिकार्ड के लिए
    अजय कुमार झा

  2. रोमांचक होगा यात्रा विवरण। हम इंतजार करेंगे।

  3. सचमुच बड़े गर्व की बात है।
    अग्रिम आभार इसे प्रस्तुत करने के लिए ।

  4. ऐसी ही एक यात्रा अनूप जी भी निपटा चुके हैं मगर साईकिल से होने के कारण वो केवल भारत का ही चक्कर काटे थे 🙂
    उन्हें पढ़ कर मजा आया था
    आपको पढ़ कर भी आयेगा
    पोस्ट का इन्तजार रहेगा

  5. इस नयी श्रृंखला के लिए आपको बधायी !

  6. याद है जी हमें भी,
    हमने भी कई प्रोग्राम बनाए
    लेकिन पुरा समय देने वाले साथी नही मिले।
    एक बार फ़िर याद दिलाने के लिए आभार।

  7. २५ साल बाद आपके साथ मोटर साईकिल से दुनिया घुमेंगे . और विश्व रिकार्ड कैसे बना पढेंगे

  8. shandar, bilkul saheb, har post ke sakshi rahenge ham…
    ek baat aur, agar in dono sajjan se aaj ki taareekh me matlab ki 25 sal hone ke mauke par batchit agar aap laa sakein to bahut hi shandar

  9. अनिरुद्धजी और सुनील जी ने जो विश्व रिकोर्ड बनाया है उसके लिए भिलईई वाले ही क्यों हम सभी भारतीय भी उन पर गर्व महसूस कर रहे हैं क्या आपके आर्टिकल में उनके इस सफर के खट्टे मिट्ठे अनुभव भी पढ़ने को मिलेंगे?
    इन्तजार रहेगा सब कुछ पढ़ने का .
    दोनों शेरो को पूरे राजस्थान के निवासियों की और से हार्दिक बधाई .
    भिलाई के अन्य कीर्तिमानों के बारे में भी बताइयेगा,कीर्तिमान क्यों न बांये भिलाई आखिर अपना शेर वीर कि कर्म भूमि भी कहाँ है?
    'भिलाई'.

  10. वाह बधाई हो जी बधाई
    इंतजार विवरण का

  11. वाह! बधाई इन दोनों को। इंतजार रहेगा इन दोनों के अनुभवों का, इनके बारे में ताजा जानकारी का, क्या अब भी उसी इस्पात प्लांट में कार्यरत हैं?

  12. वाकई ये तो अपने आप में बडा रोमांचकारी अनुभव रहा होगा कि मोटर साईकल पे दुनिया की सैर…..
    समूचे विवरण की प्रतीक्षा रहेगी…

  13. पाबला जी,
    दो दिन मेरठ गया होने की वजह से देर से इस पोस्ट पर आ सका हूं, इसलिए माफ़ी चाहता हूं…
    अनिरूद्ध गुहा और सुनील थवानी के साहस को उनकी उपलब्धि की रजत जयंती पर सलाम…
    बाकी इस यात्रा के रोमांच से रू-ब-रू होने के लिए आपकी पोस्टों का इंतज़ार रहेगा…

    जय हिंद…

  14. यहाँ आपके ब्लॉग पर इस कीर्तिमान का नियमित विवरण पढ़ने का रोमांच ही अलग होगा ! अत्यन्त प्रतीक्षित !

  15. बहुत शानदार रिकार्ड….अपनी पोस्‍टों की जानकारी मेल से देते रहने का शुक्रिया…दरअसल आपकी फीड में कोई दिक्‍कत है

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons