महिला ब्लॉगर ने ब्लैकमेल किए जाने के बाद ब्लॉगिंग छोड़ी

पिछले वर्ष की गर्मियों की एक रात जब टहल कर लौटा तो ई-मेल में एक महिला ब्लॉगर का संदेश दिखा कि वह मुझसे कुछ व्यक्तिगत बातचीत करना चाहती है लेकिन फोन पर! मैंने पहले कभी उनसे बात नहीं की थी और अब तक ईमेल, चैट द्वारा ही सीमित औपचारिक संदेशों का आदान-प्रदान ही होता रहा था। ताज़ा मिले संदेश की भाषा देख मैंने तुरंत अपना मोबाईल नंबर ई-मेल पर भेजा।

ऐसा लगा जैसे वह मेरे उत्तर की ही प्रतीक्षा कर रही थीं। 5 मिनट में ही उनकी कॉल आ गई। औपचारिक अभिवादन के बाद आतंक से भरा उनका पहला वाक्य था “जो बात आपसे करने जा रही, वो आप किसी को बताएँगे तो नहीं?” मेरा उत्तर था कि यदि आपको मुझ पर भरोसा है तो अपनी बात नि:संकोच कहिए अन्यथा गुडनाईट मेरी ओर से! तब उनकी धीमी सी आवाज़ आई “पाबला जी, मुझे मेरा ही कोई जानने वाला ब्लैकमेल कर रहा।”

मैंने कंधे उचकाते हुए कहा कि इस मामले में मैं क्या कर सकता हूँ। पुलिस के पास जाइए, परिवार वालों से बात कीजिए। मेरी बात काटते हुए उन्होंने कहा कि पहले मेरी पूरी बात तो सुन लीजिए।

मामला यह था कि अपने घर पर अकेले होते हुए उनका ज़्यादातर समय कम्प्यूटर के सामने बीतता था जिसमें कामकाज के अलावा ब्लॉगिंग सहित दसियों लोगों से ऑडियो-वीडियो चैट, ईमेल द्वारा हल्की फुल्की बातचीत होती रहती है। अब तक तो कोई दिक्कत नहीं थी लेकिन दो महीनों से एक अनजान ई-मेल आई-डी से कोई उन्हें यह कह कर सता रहा था कि वह जिन लोगों से बतियाती हैं, उनके नाम और वह पूरी बातचीत उनके पति को बता देगा।

सबूत के तौर पर धमकाने वाले ने कई मौकों की बातचीत और कम्प्यूटर मॉनीटर पर उस समय दिख रहे चेहरे या अन्य चित्र भी हुबहू स्नैपशॉट के रूप में भेज दिए। उस महिला ब्लॉगर की काँपती आवाज़ आ रही थी “… मुझे लगता है कि मेरे कम्प्यूटर के अंदर कोई बैठा है जो मेरी हर बात को रिकॉर्ड कर रहा…”

मैंने हंसते हुए पूछ ही डाला कि कोई आपत्तिजनक बातें तो नहीं होतीं ना? और कोई गंभीर संबंध तो नहीं बना लिया किसी से? ज़वाब मिला कि बातचीत तो एकदम सामान्य होती है लेकिन पति महाराज को पता चलेगा कि ऐसा कुछ होता है पीठ पीछे तो बहुत हंगामा खड़ा कर देंगे वो। वह चाह रहीं थीं कि इस मामले में कम्प्यूटर सबंधी किसी बात को मैं सुलझा दूँ।

सारी तस्वीर मुझे साफ दिख रही थी। अब मैंने दो बातें पूछीं कि क्या कोई बाहरी व्यक्ति आपके कम्प्यूटर का इस्तेमाल करता है? और जब से आपको यह धमकी मिल रही तब से कम्प्यूटर धीरे तो नहीं चलना शुरू हो गया? बताया गया कि यह उनका व्यक्तिगत लैपटॉप है जिसे कभी कभी घर के अन्य सद्स्य भी उपयोग में लाते हैं लेकिन दो-तीन महीनों से वह लैपटॉप वही इस्तेमाल कर रहीं। हाँ, स्पीड कम हो गई है और कई बार चलते चलते ठिठक जाती है स्क्रीन, फिर अपने आप ठीक भी हो जाती है कुछ सेकंड के बाद। पूछे जाने पर पता चला कि हर जाने अनजाने ई-मेल संदेश में आई लिंक को बिना सोचे समझे क्लिक कर देना उनकी आदत है।

आईने की तरह साफ़ था अब कि उनके लैपटॉप पर कोई की-लॉगर (Keylogger) स्थापित हो चुका। की-लॉगर एक ऐसा सॉफ़्टवेयर होता है जिसे ईमेल में भेजे गए किसी लिंक पर क्लिक करने से या सामान्य सॉफ़्टवेयर की तरह किसी व्यक्ति द्वारा कम्प्यूटर पर स्थापित किया जा सकता है। स्थापित होने के बाद यह सॉफ़्ट्वेयर की-बोर्ड पर टाइप किए जा सकने वाले हर अक्षर को नोट करते जाता है। यदि विकल्प दिया जाए तो निश्चित अंतराल पर कम्प्यूटर स्क्रीन का स्नैपशॉट भी लेता रहता है। इन सब चीजों को इकट्ठा कर बताए गए समय पर यह अपने मालिक को खुद ही ई-मेल भी भेज देता है कि देख लो क्म्प्यूटर पर काम करने वाला बंदा क्या कुछ कर रहा था आपकी जानकारी में आए बिना।

आम तौर पर इस तरह के सॉफ़्टवेयर का प्रयोग नियोक्ता अपने कर्मचारियों के कामकाज की समीक्षा करने, माता-पिता द्वारा बच्चों पर निगाह रखने या प्रतिद्वंद्वी कंपनियाँ द्वारा दूसरी कंपनियों के क्रियाकलापों से वाकिफ़ होने के लिए किया जाता है। लेकिन जैसा कि हर सुविधा के साथ होता है इसका भी दुरूपयोग किया जाता है। जैसा उस महिला ब्लॉगर के साथ हुआ।

संयोगवश उस रात उनके पति किसी पार्टी में व्यस्त थे। सो मेरा काम आसान हो गया। तत्काल ही मैंने एक सॉफ़्टवेयर इंस्टाल करवा कर उनका लैपटॉप अपने नियंत्रण में ले लिया। अब की-बोर्ड, माऊस मेरा था लेकिन कंट्रोल कर रहा था सैकड़ों दूर रखा उनका लैपटॉप।

सबसे पहले मैंने उस की-लॉगर सॉफ़्टवेयर को बंद किया। फिर एडवांस्ड सिस्टम केयर (Advanced SystemCare) से लैपटॉप की साफ़-सफ़ाई कर डाली। अब बारी थी उस जासूसी सॉफ़्टवेयर को जड़ समेत निकाल बाहर करने की, जो अगली बार लैपटॉप शुरू होते ही फिर अपना काम करने लग जाता।

इस काम के लिए मुझे नौ वर्षों से लगातार कई सम्मान पाता रहा सॉफ़्टवेयर Spybot – Search & Destroy©® पसंद है। इसका ताज़ा संस्करण 1.6.2 जो कि 15.6 MB का है। इसे इस पृष्ठ पर दिए गए स्थानों से डाउनलोड किया जा सकता है। दो-तीन मिनट में ही यह स्थापित हो जाएगा

स्थापित करने के बाद जब इसे प्रारंभ किया जाएगा तो एक कानूनी चेतावनी दिखेगी जो किसी अन्य सॉफ़्टवेयर से संबंधित जासूसों को हटाए जाने पर उनके बंद हो जाने के बारे में होती है।

अगले चरण में रजिस्ट्री का बैक-अप लिया जाना आवश्यक होता है जिसके बाद अगला चरण चुन कर मुख्य मेन्यू तक जाना पड़ेगा।

अब सबसे पहला काम होना चाहिए इस Spybot – Search & Destroy©® का अपडेट।

जिसके लिए एक सर्वर चुनना होगा और फिर Continue

अपडेट डाउनलोड हो जाएँ तो फिर Exit

इस बीच कोई और सुझाव मिले तो स्वविवेक से काम लें वरना कुछ पलों में अपने आप हट भी जाएगा सुझाव

उसके बाद Check for Problems पर क्लिक करें और इसको अपना काम करता छोड़ कर आधे पौन घंटे का घर-ऑफ़िस का कोई दूसरा काम निपटा लीजिए या चाय-कॉफ़ी-सोमरस की चुस्कियाँ लेते आराम से बैठें।

लेकिन हम दोनों ने चैट पर अपनी बातचीत जारी रखी। उन्होंने बताया कि कैसे ब्लॉगिंग से उनका परिचय हुआ और कितने अच्छे दोस्त बने इसके सहारे, अभिव्यक्ति को कैसे पंख लगे और फिर आत्मविश्वास बढ़ा। मैंने पूछ ही लिया कि इस मामले में, मैं कोई सहायता कर सकता हूँ ये ख्याल कैसे आया? तो बेझिझक उन्होंने एक दूसरी महिला ब्लॉगर का नाम लिया कि उनके सुझाव पर आपसे कुछ कहने की हिम्मत हुई।

तब तक 40 मिनट बाद Spybot – Search & Destroy ने अपना काम ख़तम कर लिया था और उसमें कई तरह के ढीठ, बदमाश, विध्वंसक तत्वों के साथ दसियों जासूसों के दर्शन हो रहे थे। इस बारे में समझाने का ना तो कोई मतलब था और ना ही समय सो Fix selected problems पर क्लिक कर सारा किस्सा ही तमाम किया गया।

बात इसी सॉफ्टवेयर की हो तो इसके अन्य कई शानदार विकल्प उपयोग किए जा सकते हैं और अगर उस महिला ब्लॉगर की बात की जाए तो उन्हें धमकाने वाली एक मेल और आई फिर सब कुछ शांत हो गया।  हालांकि उनके अनुरोध पर व्यावसायिक उपाय कर उन्हें ई-मेल भेज कर धमकाने वाले की जानकारी उपलब्ध करवाई गई। उस जानकारी से उन्हें इतना आघात पहुंचा कि कुछ समय बाद सक्रिय ब्लॉगिंग से किनारा कर लिया और अब इस ओर झांकती भी नहीं

ज़रा ध्यान दीजिए, कहीं कोई आपकी जासूसी तो नहीं कर रहा?

महिला ब्लॉगर ने ब्लैकमेल किए जाने के बाद ब्लॉगिंग छोड़ी
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

97 Thoughts to “महिला ब्लॉगर ने ब्लैकमेल किए जाने के बाद ब्लॉगिंग छोड़ी”

  1. आपको मेरा नमन … मेरे ख्याल से शायद ही इस बात से कोई इनकार करेगा कि पता नहीं कितने ही बार , कितने ही लोगो के लिए आप हर बार संकट मोचन बन कर सामने आये है … और हाँ मैं भी उन लोगो में से एक हूँ !
    टिप्पणीकर्ता Shivam Misra ने हाल ही में लिखा है: १०५ वी जयंती पर विशेष – आवाज अलग, अंदाज अलग… – पृथ्वीराज कपूरMy Profile

      1. shiv kumar dewangan

        वाह बड़े भैय्या पाब्ला ji,
        सचमुच बहुत बड़ा कम्मल कित्ता. सुरेन्द्र मोहन पाठक के उपन्यास के किरदार सुनील कुमार चक्रवर्ती की तरह, जो मुसीबत में फँसी मोहतरमाॉ की ऐसे ही मदद किया करते हैं. अगर सचमुच में आपने ये किया है तो मेरा सलाम कुबूल कीजिये.

  2. शानदार जानकारी …जानदार काम !
    ब्लॉग सरदार की जय जय !

  3. Spybot – Search & Destroy©® सॉफ्टवेयर के बारे में जानकारी मिली .. आपका बहुत आभार !!
    टिप्पणीकर्ता संगीता पुरी ने हाल ही में लिखा है: इस वर्ष जल्‍द ही पडने लगेगी ठंड …..My Profile

  4. बहुत ही अच्छी जानकारी दी है सर आपने. कई नई बाते जानने को मिली. धन्यवाद.
    टिप्पणीकर्ता Manoj Kumar ने हाल ही में लिखा है: कार्टून- जोर का झटका…..!My Profile

      1. SATYANARAYAN YADAV

        महिला ब्लागर के साथ आप द्वारा दिए गए सहयोग के लिए आपकी सदाशयता के लिए आपको प्रणाम Spybot – Search & Destroy©® के बारे में जानकारी के भी मिली इसके लिए आपको एक बार और धन्यवाद

  5. खतरनाक है यह तो, आगाह करने का आभार..
    टिप्पणीकर्ता प्रवीण पाण्डेय ने हाल ही में लिखा है: ब्राउज़रMy Profile

    1. Devil

      सही है, ऑनलाईन ज़िंदगी इतनी आसान भी नहीं

  6. परसों से इस पोस्ट का इंतजार था| बहुत बढ़िया जानकारी दी आपने इस औजार को आज ही डाउनलोड कर सहेज लेते है|
    टिप्पणीकर्ता Ratan Singh Shekhawat ने हाल ही में लिखा है: भक्तों की मनसा पूर्ण करती – मनसा माताMy Profile

    1. Smile

      आम इंटरनेट उपयोगकर्ता के लिए, परिणाम बताइयेगा

  7. waah paabla ji……..

    dhnya hain ap aur aapke hath ka hunar

    jai hind !

    1. Pleasure

      करत करत अभ्यास के ……

  8. शीर्षक पढ़ कर आया यहाँ -तभी तो कहता हूँ शीर्षक धाँसू होना चाहिए ,रचना कैसी है यह पाठक खुद पता कर लेगें और कर ही रहे हैं …..जैसे यह एक जबरदस्त तकनीकी जानकारी है और कहानी भी बढियां बुनी गयी हैं! क्या उस नारी ब्लॉगर के बारे में कुछ हिंट देगें ? क्या जो काफी लम्बे समय से दिख नहीं रहीं उनमें से कोई है? नहीं तो घरेलू महिला होगीं कोई बिचारी ! आपके एस आलेख का सबसे बड़ा माईनस प्वाईंट यह है कि अब हिन्दी ब्लागजगत के टेक जानकारी अल्पग्य और डरपोक प्राणी खुल कर आपनी बातचीत नहीं कर पायेगें …यह कोई बात हुई भला ?
    मगर इसका एक उज्जवल पक्ष भी है कि लोग अब उत्तरदायित्व के साथ बातें करेगें ….और प्रेम वार्ता कोई गुनाह नहीं है ! हाँ उसके लिए ईमानदार होना पड़ेगा -कोई चौर्य मानसिकता नहीं रखनी होगी -जवान लोग प्रेम बतियाँ नहीं करेगें तो और कौन करेगा ? सो कम आन अडल्ट ब्यायज एंड गर्ल्स -मेक आनेस्ट रिलेशन्स आन नेट एंड हेल विद दीज सलाहें !

    1. Heart
      कहानी भी बढियां बुनी गयी हैं
      यह कहानी नहीं है सत्य घटना है

      क्या उस नारी ब्लॉगर के बारे में कुछ हिंट देगें ?
      वादा किया है सो उस नारी ब्लॉगर के बारे में हिंट भी ना दे सकूँगा

      खुल कर आपनी बातचीत नहीं कर पायेगें …यह कोई बात हुई भला ?
      गीता का ज्ञान किस दिन काम आएगा

  9. जय हो पाबला सर की !
    पर महान हिन्दी ब्लोगरी धर्म की परंपरा निभा सकूं ……बस इसी के लिए मेरी रूचि उन दोनों तीनों ब्लोग्गेर्स के नाम जानने की है?

    🙂

    हा हा …बढ़िया जानकारी दी आपने !!!
    टिप्पणीकर्ता प्राइमरी के मास्साब ने हाल ही में लिखा है: सबसे महत्वपूर्ण औजार : मौत का विचारMy Profile

    1. ई आपका सोफ्टवेयर हमकू from Sonipat, Haryāna, India पे काहे दिखा रहा है? इसको कोई उपाय ???
      टिप्पणीकर्ता प्राइमरी के मास्साब ने हाल ही में लिखा है: सबसे महत्वपूर्ण औजार : मौत का विचारMy Profile

      1. Wink

        एक उपाय है!
        सोनीपत शिफ़्ट कर जाईए

        1. PD

          हा हा हा… 😀

    2. Happy-Grin

      महान हिन्दी ब्लोगरी धर्म होता ही ऐसा है कि मक्खन मलाई को छोड़ छाछ पर ज़्यादा ध्यान देता है

  10. कैसे कैसे लोग होते हैं इस दुनिया में, और पता नहीं क्या समझते हैं कि उनसे होशियार कोई नहीं है, तकनीक का उपयोग करके यह कैसे सोच लेते हैं कि उनके चरण चिह्न अपने आप मिट जायेंगे।

    आपके टिप्पणी बक्से में अपने आप जो यह टिक है बाद में आने वाली टिप्पणियों की सूचना ईमेल में भेजी जाये। इसको हम कई बार हटाना भूल जाते हैं, तकलीफ़ देह हो जाता है, कृप्या इसे पाठकों के ऊपर छोड़ दें । कई लोग जिनको इस बारे मे पता नहीं होगा वो तो बहुत ही परेशान होंगे इससे । अगर आप मेरी बात से सहमत हों तो सोचियेगा अवश्य ।
    टिप्पणीकर्ता विवेक रस्तोगी ने हाल ही में लिखा है: माई फ़ाई वाई फ़ाई राऊटर डाटा कार्ड के लिये बेहतरीन उत्पाद (MiFi H1 wifi Router for Data Card review – an ultimate product)My Profile

    1. Approve

      एकाध कोई और प्रतिक्रिया आ जाए तो आपकी बात मान लेंगे

      1. विवेक जी सही कह रहे हैं … 🙁

        1. 🙂
          ब्लॉगर द्वय की फीडबैकानुसार
          विकल्प हटा दिया गया है

  11. बहुत अच्‍छी जानकारी है। यह भी पता लगा कि आप संकटमोचन हैं।
    टिप्पणीकर्ता ajit gupta ने हाल ही में लिखा है: इक वो भी दीवाली थी, इक यह भी दीवाली हैMy Profile

  12. ही मैंने एक सॉफ़्टवेयर इंस्टाल करवा कर उनका लैपटॉप अपने नियंत्रण में ले लिया।

    ये कौनसा सोफ्टवेयर है?

    1. इस काम के लिए मुझे http://www.teamviewer.com पसंद है

      1. Teamviewer एक अच्छा सॉफ्टवेर है…remote login के लिए .
        पढ़ के अच्छा लगा की आप अपने कंप्यूटर ज्ञान से जनकल्याण कर रहे है !!

        धन्यवाद्
        ज्ञानेंद्र
        टिप्पणीकर्ता Gyanendra ने हाल ही में लिखा है: Elgg a powerful ,robust ,open source social platformMy Profile

  13. bahut badhiyta jankari di hai aapne pabla ji…..dhanyawad

    1. जानकारी पसंद आई
      आभार आपका

  14. अवांछितों से बचने को तो शानदार जुगत है आपकी,पर यह मामला ज़रा अलग सा है.जिन्हें रिश्तों में बेइमानी का डर रहता है वे भला इस तरह के मंचों का उपयोग करते ही क्यों हैं ?
    इन सब बवालों से बचने का रास्ता क्या आपके पास पूरी तरह है? उस ब्लागरा के मन में जो चोर बैठ गया था वह तो किसी भी सॉफ्टवेयर से नहीं निकलेगा !

    वैसे शीर्षक इत्ता ज़बरदस्त है कि इसे पढकर टंकी में चढ़ने का मन होता है !

    अच्छी तकनीकी जानकारी का आभार !
    टिप्पणीकर्ता संतोष त्रिवेदी ने हाल ही में लिखा है: प्रभाष जोशी : एक सच्चा पत्रकार !My Profile

    1. Pleasure

      गनीमत है अपना मन नहीं किया टंकी चढ़ने का
      फिर तो ना टंकी बचती और ना ही हमारी कुछ हड्डियाँ

      1. आप तो वैसे ही छील रहे हो,टंकी पर चढ़ने की क्या ज़रूरत ?
        टिप्पणीकर्ता संतोष त्रिवेदी ने हाल ही में लिखा है: पन्ना मेरी किताब का !My Profile

  15. पाबला जी, नमन आपको।
    ऐसी अद्भुत जानकारियां देने के लिए।
    टिप्पणीकर्ता मनोज कुमार ने हाल ही में लिखा है: एम्बुलेंस कॉर्प्स बनाने की इज़ाज़त मिलीMy Profile

  16. हालांकि उनके अनुरोध पर व्यावसायिक उपाय कर उन्हें ई-मेल भेज कर धमकाने वाले की जानकारी उपलब्ध करवाई गई

    Ye kaise li jaankaari?

    ही मैंने एक सॉफ़्टवेयर इंस्टाल करवा कर उनका लैपटॉप अपने नियंत्रण में ले लिया।

    ये कौनसा सोफ्टवेयर है?
    @Ranjan : Checkout showmypc.com
    टिप्पणीकर्ता Yogesh Gandhi ने हाल ही में लिखा है: और मैंने समझा के मेरा जवाब आया हैMy Profile

    1. धमकाने वाले की जानकारी उपलब्ध कराने के लिए भुगतान ले कर अपनी सेवा देने वालों को ठेका दिया जाता है मेल भेजने वाले का सारा कच्चा चिट्ठा सामने रखने के लिए
      इस मामले में भुगतान किया गया था करीब 65 अमेरिकी डॉलर का

  17. वन्दना

    bahut badhiya jankari di………aabhar.

  18. Global Agrawal

    अच्छी पोस्ट …..
    एक छोटा सा सोफ्टवेयर भी आता है… शायद फ्रीवेयर हो , मैंने कईं बार कीलोगर्स डिटेक्ट करने के लिए इस्तेमाल किया है

    1. Approve

      ऐसे बहुत से सॉफ़्टवेयर हैं

  19. dr t s daral

    पाबला जी , अपने तो ऑंखें खोल दी । ब्लॉग भी हैक हो सकता है , यह तो अभी जाना ।
    पर शुक्र है , आप जैसे जानकर मौजूद हैं । इसलिए थोड़े बेफिक्र हैं ।

    1. Amazed

      होता है ऐसा भी होता है

  20. ऐसा भी होता है !!!!
    काम की जानकारी है !

  21. काजल कुमार

    Spybot – Search & Destroy वाक़ई एक उम्दा प्रोग्राम है, मैं भी इसे कई सालों से प्रयोग कर रहा हूं…

    1. Yes-Sir

      मैं भी हर जागरूक इंटरनेट उपयोगकर्ता को इसकी सलाह देता रहता हूँ

  22. बहुत ही उम्दा जानकारी…आप तो सबके ही तारणहार हैं…:)

  23. बढिया जानकारी।
    बेहतर ढंग से प्रस्‍तुतिकरण।
    जय हो पाबला जी की।

    1. Smile

      जय जनता जनार्दन की

  24. @ यारबाज़ पाबला १ ,
    वादा करना और निभाना…संकटमोचक पाबला द जबाब नहीं 🙂

    @ यारबाज़ पाबला २ ,
    पहले मेहमान बनाना फिर बूँद बूँद को तरसाना…ब्लागर पाबला 🙂

    1. Pleasure

      अली जी दा ज़वाब नहीं

  25. आदरणीय पाबला जी, आपका ब्लॉग बहुत बार पढ़ा है। और आपका स्वभाव हमेशा ही सबकी मदद करने वाला रहा है आज यह पोस्ट पढ़ कर बहुत अच्छा लगा। आपको साधुवाद।
    टिप्पणीकर्ता सुनीता शानू ने हाल ही में लिखा है: मन को मनाने के अंदाज निराले हैMy Profile

    1. Smile
      …. और आपको धन्यवाद

  26. यह सूचना टिप्पणी बटोरने हेतु नही है बस यह जरूरी लगा की आपको ज्ञात हो आपकी किसी पोस्ट का जिक्र यहाँ किया गया है कृपया अवश्य पढ़े आज की ताज़ा रंगों से सजीनई पुरानी हलचल

  27. babylon मेरे कम्प्युटर में भी है और डीलिट नही हो रहा, क्या यह गड़बड़ है?
    टिप्पणीकर्ता सुनीता शानू ने हाल ही में लिखा है: बच के रहना रे बाबा बच के रहना तुझ पे नज़र है…My Profile

    1. निश्चित तौर पर Babylon विज्ञापन प्रदान करने के लिए गुप्त सूचनाएं बटोरने वाला कुख्यात अड़ियल सॉफ्टवेयर है.
      यदि आप Spybot – Search & Destro से इसे हटाने की कोशिश कर रहीं तो मुझे ऐसा लगता है कि आपका कोई ब्राऊज़र खुला रहा होगा. सभी ब्राऊज़र बंद कर पुन: प्रयास करें.

      वैसे यदि बेबीलोन को विन्डोज़ के Add/ Remove से हटा कर या एडवांस्ड सिस्टम केयर (Advanced SystemCare) के Uninstall का प्रयोग कर हटा देंगे तो और भी आसानी होगी Spybot को

      सभी प्रयासों में बाउज़र बंद रखें

  28. कमाल है । ये सब भी चल रहा है अब ब्लॉगिंग में । चलिए ये तो तय हो गया फ़िर कि लडकपन से तो आगे निकल ही आया है और अब शातिराना हो रहा है । तकनीक के हम जैसे अल्पज्ञों के लिए बहुत ही काम की जानकारी है । शुक्रिया सर
    टिप्पणीकर्ता अजय कुमार झा ने हाल ही में लिखा है: जो तुम रिपब्लिक तो हम पब्लिक हैं बाबूMy Profile

    1. Overjoy
      आखिर कब तक शैशवास्था की बेचारगी जताते रहें!

  29. bahut hi kam ki jankari di apne….gyan ki kami ki vajah se aam blogron ko kai samasyaao ka samna karna pad jata hai….shukra hai aapne hal bata diya
    टिप्पणीकर्ता anamika ने हाल ही में लिखा है: कोयल की कूकMy Profile

  30. आप महान ब्लोगर हैं पाबला जी ! सबके संकट मोचक | मेरे लिए तो कंप्यूटर के चिकित्सक हैं | मेरा कंप्यूटर भी आपके बताये एडवांस सिस्टम केयर द्वारा नहा धो ले रहा है | आपकी अति कृपा |

    1. Smile
      स्नेह बनाए रखिएगा

  31. Global Agrawal

    अगर किसी को एंटी वाइरस सजेस्ट करना हो तो आप कौनसा एंटी वाइरस सजेस्ट करेंगे
    [संभव हो तो कृपया एक फ्री वेयर में से और एक कमर्शियल वाले में से बताएं]

    1. Heart
      आपने जैसा चाहा

      फ्री वेयर में से
      1- Avira
      2- AVG

      कमर्शियल वाले में
      1- ZoneAlarm Extreme Security
      2- Avira Premium

      1. Global Agrawal

        आभार आपका पाबला जी 🙂

  32. G Vishwanath

    पाबलाजी,

    प्रवीण पांडेजी के ब्लॉग पर मेरे प्रश्न का उत्तर देने के लिए धन्यवाद।
    वहाँ से सीधा यहाँ चला आया।
    आपने तो हमें डरा दिया भाइ!
    पर क्या मुझे डरना चाहिए?
    हम न अति सुन्दर महिला हैं और न ही कोई धनी पर भोला नौजवान जिसके पास जरूरत से ज्यादा पैसा है और आवश्यकता से कम आम समझ, जो किसी का निशाना बने।
    कौन है जो मेरे जैसे नाचीज़ के पीछे पडना चाहेगा?

    और वैसे भी हम पिछले कई साल से Kaspersky Total Internet Security का प्रयोग कर रहे हैं।
    क्या यह keyloggers से बचने के लिए काफ़ी नहीं है?
    हाँ, अब जब आप से परिचित हो गया हूँ यदि भविष्य में किसी कंप्यूटर ज्ञानी की मदद जरूरी हो जाएगी तब आप को याद करूँगा।
    शुभकामनएं
    जी विश्वनाथ

    1. Pleasure

      सर जी,
      आपकी बात पर एक गीत याद आ रहा

      दिल तो है दिल, दिल का ऐतबार क्या कीजै
      आ गया जो किसी पे प्यार, तो क्या कीजै

      अब खूबसूरती तो देखने वाले की आखों में होती है ना? तो आप भले ही अपने आप को नाचीज़ समझें …

      Kaspersky Total Internet Security के मामले में ऐसा है कि जो हिट है सो फिट है

      आपकी अपेक्षायों पर खरा उतर सकूँ, प्रयास रहेगा मेरा

  33. anitakumar

    अब तक सिर्फ़ इतना पता था कि कंप्युटर पर वायरस का खतरा होता है जो आप के कंप्युटर को काम नहीं करने देता,ठप्प कर देता है। लेकिन ऐसे ब्लैकमेल के लिए वायरस का इस्तेमाल किया जा सकता है जान कर हैरान हूँ अच्छा है समय रहते आप ने अगाह कर दिया आज ही इस सोफ़्ट वेअर को इंस्टाल करती हूँ। वैसे संकटमोचन वाली सही है…।:)लेकिन आप की इस पोस्ट के बाद वो ब्लैकमेल करने वाला अब कोई और सोफ़्टवेअर के बारे में सोचेगा जिस पर ये स्पाईबोट वाला सोफ़्ट्वेअर काम न करे और वो अपना ब्लैक मेल आराम से करता रहे। तब?

    1. THANK-YOU

      मैं सोच ही रहा था कि इस मामले के दूसरे भाग की भूमिका कैसे जुगाड़ी जाए
      आपकी इस टिप्पणी ने आसान कर दिया उसे

      शुक्रिया

      इसी सप्ताह इस बारे में एक लेख होगा सामने

  34. Dear Sir,
    What is your opinion about Net Protector Antivirus and C cleaner Software?

    1. Amazed

      यह एकाएक आपकी भाषा कैसे बदल गई?

      C cleaner भी बढ़िया सॉफ्टवेयर है
      Net Protector के बारे में कुछ कह ना सकूँगा क्योंकि उसका प्रयोग नहीं किया है

  35. इस पोस्ट को पढ़ कर कुछ प्रश्न
    प्रश्न हैं की अगर वो अनाम ब्लैक मेलर इनका पति ही हो तो क्या उसको पता नहीं चल जाएगा
    की कंप्यूटर पर सॉफ्टवेर डाला गया हैं और क्या उसकी वजह से इनकी परेशानी कम होने के
    बजाये बढ़ नहीं जाएगी
    प्रश्न क्या ये पोस्ट नारी ब्लॉग पर दुबारा पुब्लिश की जा सकती हैं आप का नाम देकर और कमेन्ट
    के लिये वहाँ ऑप्शन बंद करके पाठक को यही भेज ने का प्रावधान के साथ

    1. काल्पनिक प्रश्न का उत्तर भी काल्पनिक ही होगा ना!

      ये जानकारी नारी ब्लॉग पर दुबारा प्रकाशित की जा सकती हैं
      THANK-YOU

  36. प्रश्न क्या ये पोस्ट Hindi Blogging Guide के लिए अपने ब्लॉग ‘हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम इंटरनेशनल’ पर पर दुबारा पुब्लिश की जा सकती हैं आप का नाम देकर .

    1. ये जानकारी Hindi Blogging Guide के लिए ‘हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम इंटरनेशनल’ पर दुबारा प्रकाशित की जा सकती हैं
      THANK-YOU

    2. I-see-stars

      आपने कॉपी-पेस्ट किया तो हमनें भी अन्जाने में वह हरकत कर डाली
      अब पिछली टिप्पणी को सुधार दिया गया है

  37. फिर एक नई जानकारी भरी पोस्ट.वीरे ! आपके चरण कहाँ हैं? मुझे किसी बात का डर नही कभी आफत मे पड ही गई तो……आप है न हा हा हा
    आपने उस महिला ब्लोगर की पहचान छुपाये रखी.पूछने पर भी नही बताया यह आपका बडप्पन है.और……. होना भी चाहिए.
    वैसे एक बात समझ मे नही आती ऐसा क्यूँ कुछ किया जाए जिसे अपनों से ही छुपाना पड़े.अक्सर आदमी ऐसा करते है Zzzzzz (सब नही रे भाई,सब पीटोगे मुझे)किन्तु एक बार अहसास हो जाने के बाद कि.यहाँ यह सब नही चलने वाला. वे आपको सम्मान देने लग जाते हैं.फिर भी…दुनिया मे अच्छे लोगों की कोई कमी नही.सामने वाले से जरा सी बात करने पर ही उसकी मानसिकता और मानसिक स्तर का पता लग जाता है.एक मिनट मे किक आऊट कर देना चाहिए.मैं तो ब्लोक कर देती हूँ यदि कोई इंदु भी बोल दे तो Distort हा हा हा क्या करूं?ऐसिच हूँ मैं तो-सरकी हुई. जो भी हैं वो ……….है कोई स्टुपिड ,सीधी,भोली औरत ही. Thinking
    ब्लोगिंग के नाम पर अपनों को धोखा न देती तो इस आफत मे न फंसती.ये तो आप मिल गये वरना सामने वाला उनके पारिवारिक,वैवाहिक जीवन को खत्म कर सकता था.है न?
    आपकी पोस्ट महिला ब्लोगर्स को सतर्करहने का सन्देश भी देती है.थेंक्स वीर जी. मार्ग दर्शन देते रहना.

    1. Please
      मेरा मानना है कि उस महिला ब्लॉगर ने ऐसा कुछ नहीं किया था जिससे किसी तरह की शर्मिंदगी होती
      उनका डर केवल वाले अपने पति की प्रतिक्रिया को ले कर था ना कि किसी अपराधबोध को ले कर

  38. Koi meri bhi jasoosi kar sakta hai???

    1. Happy

      जहाँ चाह वहाँ राह

  39. बी.एस.पाबला जी, आप लोगों की इसी तरह अपने ज्ञान द्वारा मदद करते रहे. इन्ही मंगल कामनाओं के साथ आपका महिला ब्लॉगर की मदद करने का आभार.

  40. श्रीकांत सुखात्मे

    आपके द्वारा सुझाये उपकरण का उपयोग कर इसका प्रभाव क्या हुआ आपको सुचित करुंगा। धन्यवाद

  41. I go to see each day some web sites and sites to read articles, except this web site presents quality based content.
    टिप्पणीकर्ता déménagement ने हाल ही में लिखा है: déménagementMy Profile

  42. आज फिर पढ़ा . वैसे एक बात कहूँ सच्ची सच्ची. दोस्तों या अपनों के बीच सामान्य बातचीत में ऐसा क्या होता है जो उसे सबसे छुपाना पड़े ????
    अपुन का तो पासवर्ड पद्म से लेकर अपने बहुओं बच्चों सबको मालुम.
    आफत में वो ही फंसते हैं जो फंसने जैसे काम करते हैं. हाँ यदि सामने वाले ने आपसे कोई ‘बकवास’ की है तो सुनने का क्यों??? लात क्यों नही लगाने का?? बोलो बोलो .
    शुरू में एक दो ‘हरामियों’ ने बकवास करनी शुरू की मैंने. पलायन का रास्ता चुना. आपने और समीर लाल दादा ने अदृश्य रहकर काम करना सिखाया .
    वैसे इस सॉफ्टवेयर की जानकारी पहले होती तो मैं उनके ‘खूबसूरत’ शब्दों को हाइलाइट करती. बच गए स्साले.
    अब कोई डर नही
    आप हैं मुझे कोई चिंता नही.

  43. आपके स्कूल में एडमिशन लेना ही पड़ेगा.

  44. Nancy

    I’m really impressed with your writing skills as well as with the layout on your weblog.
    Is this a paid theme or did you customize it yourself?
    Either way keep up the nice quality writing, it is rare
    to see a nice blog like this one today.
    टिप्पणीकर्ता Nancy ने हाल ही में लिखा है: LieselotteMy Profile

  45. Gab

    This article is truly a good one it helps new internet visitors, who
    are wishing in favor of blogging.
    टिप्पणीकर्ता Gab ने हाल ही में लिखा है: comptoir granit ou quartz ville de QuebecMy Profile

Leave a Comment

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons