मेरी फौज़ के एक सैनिक का परिचय

कंप्यूटर और आई टी क्षेत्र से जुड़े होने के कारण मित्रों, परिचितों द्वारा अक्सर ही मुझसे इस संबंध में सलाहें मांगी जाती है, मुसीबत के समय याद किया जाता है. इंटरनेट की आभासी दुनिया के मित्र भी इस मामले में अपनी जिज्ञासाएं जाहिर करते रहते हैं.

इस बार स्कायप पर एक कॉल आई. बात करने वाले सज्जन पहली बार ही कॉल कर रहे थे. त्रिपुरा के पास के एक कस्बे से वे बड़ी मुश्किल से टूटी फूटी हिंदी में अपनी बात कह पा रहे थे. मैंने उन्हें अंग्रेजी में ही बात करने को कहा तो पहली चाहत सुनते ही चौंका. वे अपना कंप्यूटर फॉरमेट नहीं करना चाह रहे थे.

चौंका इसलिए था कि अक्सर तरह तरह के झंझटों से मुक्ति पाने के लिए साथी लोग कंप्यूटर फॉरमेट करना करवाना ज़्यादा ठीक मानते हैं. अब ऐसे साथियों को कोई सलाह देनी भी बंद कर दी है अपने राम ने!

फॉरमेट ना करने की चाहत के चलते, सारी बातें सुनने के पहले ही मैंने ठान लिया था कि इस बंदे की तो जितनी मदद हो सकेगी करूंगा.

कुल मिला कर यह पता चला कि उनका कंप्यूटर किसी शातिर वायरस की चपेट में है और उन्होंने तमाम उपाय अपना लिए लेकिन बात नहीं बन रही. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि खुरापाती तकनीकी दिमाग और रंगीन तबीयत के चलते अक्सर ही अनजानी वेबसाईट्स पर आना जाना लगा रहता है.

वे लगभग मेरी अधिकतर तकनीकी पोस्ट्स छान चुके थे और इतना जानते थे कि हलके फुल्के अंदाज़ में अपने कंप्यूटर के सुरक्षा उपायों को मैं, सैनिक कह पुकारता हूँ. उनकी पुकार थी कि ऐसे सैनिकों में से किसी का परिचय उनसे करवा दूं जिससे वे अपने कंप्यूटर के सहारे फिर स्वछंदता से इंटरनेट पर सुरक्षित भ्रमण कर सकें.

अपने भरोसेमंद सैनिक का परिचय देते देते मैं रूक गया. मुझे ऐसा लगा भाई सा’ब बिदक जायेंगे कि ये कौन सा नाम बताया जा रहा. क्योंकि वर्षों पहले जब हमारे पास HTC Desire मोबाइल फोन होता था तो उसका नाम सुनते पूछा जाता था कि ये कौन सा फोन है? नोकिया का है क्या? पहले कभी नाम नहीं सुना! दुकानों पर भी जब Android का फोन माँगते थे तो दुकानदार अजीब निगाहों से हम बाप बेटे को घूरता था.

सो, पहले तो मैंने उन्हें आम एंटी वायरस का नाम ले बहलाने की कोशिश की. BitDefender, Kaspersky, Norton, McAfee, Avast, Avira के नाम गिना दिए. ज़वाब मिला कि Norton छोड़कर सब आज़मा चुके, बात नहीं बनी. तब मैंने उन्हें सुझाया अपने सैनिक की सेवायों के बारे में. नाम बताया ESET NOD32 Antivirus . उनके मुँह से निकल ही पड़ा ये नाम तो पहले कभी सुना नहीं!

 

लेकिन दूसरे ही दिन उनकी खुशी के मारे हैरान हुए जा रही आवाज़ आई – माई डियर फ्रेंड! एवरीथिंग इज परफेक्ट नाऊ ऑन पीसी. ऍम हैप्पी एंड सो माय पीसी

आजकल मेरे पीसी पर इन ज़नाब का भी पहरा रहता है और गाहे बगाहे किसी वेबसाईट पर खतरनाक सामान पाए तो तुरंत उसको ब्लॉक कर सूचना देता है

एक वेबसाईट पर नुकसानदायक iframe पाए जाने पर उसे ब्लॉक करता मेरा सैनिक!

एक और वेबसाईट पर नुकसानदायक कोड

 

एक और उदाहरण देखिए. आज के सत्यमेव जयते की खबर देती इस हिंदी वेबसाईट की स्क्रिप्ट में एक ऐसा ट्रोजन कोड छुपा है जो आपके ब्राऊज़र -इंटरनेट एक्स्प्लोरर, गूगल क्रोम या फायरफ़ॉक्स को हाईजैक कर ऎसी वेबसाईट्स पर ले जाता है जो नकली, शातिर सुरक्षा उपाय के लिए ललचाते हैं, फंसाते हैं. यह भी कहा जाता है कि यह  JS/TrojanDownloader.Iframe.NKE may also download other malware infections to the affected computer user’s PC system and start them without their awareness and permission

लेकिन मेरा यह सैनिक उसे तुरंत दुत्कार देता है और मेरे पीसी पर फटकने भी नहीं देता 🙂

ब्राऊज़र हाइजैक होने से बचाता मेरा सैनिक 🙂

 

यही नहीं कम्प्यूटर पर खुलती बंद होती सभी फाइलों, सभी सॉफ्टवेयर्स की गतिविधियों और अन्य उछल कूद पर भी तीखी निगाह रहती है इनकी

ढेरों एवार्ड, सर्टीफिकेट, शाबाशी ले चुके इन महाशय का पता ठिकाना यहाँ है.आप चाहें तो बाक़ी सैनिकों से इनकी तुलना भी देख सकते हैं.

क्या आप भी आजमाना चाहेंगे इनकी सेवाएं?

मेरी फौज़ के एक सैनिक का परिचय
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

मेरी फौज़ के एक सैनिक का परिचय” पर 48 टिप्पणियाँ

  1. कमाल है आपका .. आप तो आप हैं. शुभकामनाये और बधाई..इसी तरह जन सेवा करते रहें.

  2. अच्छी जानकारी दी आपने। काम का लग रहा है, फिलहाल हम अवास्ट वापरते हैं, इसे भी आजमायेंगे जी।
    टिप्पणीकर्ता ePandit ने हाल ही में लिखा है: भारतीय साहित्य संग्रह के विशाल हिन्दी शब्दकोष को ऑफलाइन प्रयोग के लिये डाउनलोड करेंMy Profile

  3. पाबला जी , हमें भी कुछ तकनीकी ज्ञान दीजिये ,

  4. हम तो माईक्रोसॉफ़्ट का ही सैनिक वापरते हैं अपने निजी लेपटॉप पर और कंपनी वाले पर सीमेन्टेक का पहरा रहता है,कम से कम पिछले ५ वर्षों से हमें वायरस की कोई समस्या नहीं आई, केवल विस्टा अपडेट के कारण ब्लू स्क्रीन और ब्लैक स्र्कीन ऑफ़ डेथ की समस्या आई थी। जानकारी काम की है, देखते हैं ।

    • Thinking
      लेख में दी गई लिंक्स को रोके टोके तो टेस्ट में पास आपके सैनिक

  5. पाबला जी कभी quick-heal भी उपयोग करके देखिये

  6. आपके कहे अनुसार मै spybot use कर रहा हूँ. ये आपने एक और नया बता दिया. स्पाई-बोट चलने दूँ या उसे हटाकर ये नया वाला ड़ाल लूँ.??
    धन्यवाद.
    चन्द्र कुमार सोनी.

    • Heart
      स्पाईबोट चलता रहे कोई दिक्कत नहीं

  7. अच्छी जानकारी दी है …पतिदेव से शेयर करुँगी इस पोस्ट को , क्योंकि अनजान साईट पर जाने का जोखिम हम तो नहीं उठाते 🙂

  8. उतना भी अच्छा नहीं जैसा इसकी साईट में दावा किया गया है .
    खासकर Spyware और Malware के मामले में, और इसमें भी पेन ड्राइव से फैलने वाले वायरस/स्पाइवेयर में तो ये काफी निकम्मा है .
    कुछ महीने पहले Avira छः महीनो के लिए Avira Internet Security मुफ्त उपलब्ध करा रहा था हमने भी ले लिया
    अन्य एंटी वायरस की तुलना में कहीं बेहतर सुरक्षा है Firewall, Web Protection, Mail Protection के साथ Child protection भी है जो “रंगीन” साइट्स से दूर रखता है .
    पर अब ये सिर्फ एक महीने के लिए ही मुफ्त में उपयोग किया जा सकता है और खरीदना चाहें तो काफी महंगा है 🙁

    पर हम हैं की एक एक महीने करके ही इसे चलायें जा रहें है .

  9. ज़रूर आजमाना चाहेंगे।
    आपकी सलाह हो और न आजमाने का सवाल ही नहीं है। डाउन लोड शुरू हो गया है।
    टिप्पणीकर्ता मनोज कुमार ने हाल ही में लिखा है: बच्चों को मातृभाषा में अक्षर-ज्ञानMy Profile

  10. इस नए एंटीवायरस के बताने के लिए पाबला जी धन्यवाद………हम तो फिलहाल kespersky ही उपयोग कर रहे है……मेरे एक मित्र ने मुझसे कहा की quickheal एंटीवायरस का उपयोग करके देखो यह काफी बढ़िया है……बाकि एंटीवायरस से…..
    अभी 272 दिन और पड़े है हमारे kespersky antivirus को यह commercial वर्जन है ………फिलहाल अभी Kespersky ही रहने देंगे….. Delighted

  11. पाबला जी , नमस्कार .
    ये सॉफ्टवेर मेरी कंपनी में है और मेरे लैपटॉप पर भी loaded है .. पर घर में quick heal pro 13 :00 है ..
    लेकिन आपकी जानकारी बहुत अच्छी है .. बस एक बात जाना चाहूँगा , कि , मैं लैपटॉप घर में ले आता हूँ तो उस वक़्त चुकी ये कंपनी से connected नहीं रहता है तो क्या ये antivirous उस वक़्त काम कर रहा होता है ?

    धन्यवाद और हाँ उस दिन जो आपने मेरी समस्या सुलझाई थी , कमेन्ट वाली , उसके लिए और से धन्यवाद.

    मेरी तरफ से एक शेर specially आपके लिए ..!

    जब तक पाबला जी का ज्ञान रहेंगा ..
    हिंदी ब्लोग्गारो ,तुम्हारा कंप्यूटर on रहेंगा…..!!

    आपका विजय

    • Smile
      स्नेह बनाए रखिएगा

      लैपटॉप पर यह काम करता ही रहेगा, भले ही किसी नेटवर्क से ना जुड़ा हो

  12. जानकारी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद आपने जो सेनिको की लिस्ट दी है उसमे हमारे quick Heal सेनिक का तो कही नमो निशान ही नहीं है मैं पिछले 7 साल से Quick Heal Total सिक्यूरिटी का इस्तेमाल करता हु इसके बारे में अपने ब्लॉग पर भी बताया हुवा है जिसे आप यहाँ क्लीक करके पढ़ सकते है http://www.hinditechguru.com/2012/06/blog-post_19.html मुझे इस से बढ़िया कोई एंटी वायरस नहीं लगा आप भी इसका इस्तेमाल एक बार जरुर करके देखे एक बार इसका इस्तेमाल करने के बाद आप अपने सेनिक को भूल जाओगे आपको नया सेनिक जरुर पसंद आएगा

    • Delighted
      किसी एक से काम चल जाता तो इस धरती पर इत्ते सारे देवी देवता ना होते
      सबकी अपनी अपनी श्रद्धा है

  13. कमाल की जानकारी देते हैं आप .
    डॉक्टर्स को भी लोग मुसीबत में ही याद करते हैं . 🙂

  14. पाबला जी,
    शराफत से अपने ही गली मोहल्ले में टहलने वालों को भी तंग करते हैं क्या ये लोग ?
    या फिर अनजान गली मोहल्लों में छुप छुप कर घूमने वालों पर इनका खतरा ज्यादा होता है ?

    • Smile
      इसने हमें कई बार चेहरे की किताब वाले मित्रों के प्रोफाईल पर जाने से मना कर दिया
      एक बार तो स्थानीय दैनिक की वेबसाईट पर ख़बरें पढने ना दी

      और फिर जाने किस भेस में मिल जाए भगवान या शैतान

  15. हमने तो ओरिजिनल के सेवन ड्लवा रखा है तब से सही चल रहा है ्। आभार इस सूचना के लिये जरूरत पडी तो इसे भी आजमा लेंगे।

    • Tears
      वेबसाईट का सर्वर बदला गया तो फीड की सेटिंग रिसेट हो गई
      ध्यान ही नहीं गया

      शिकायत मिली तो सारे बंधन तोड़ बह निकली फीड धारा 🙂

  16. श्रीमान जी बहुत ही काम की जानकारी ,हम सभी से साझा करने के लिए बहुत बहुत साधुवाद
    टिप्पणीकर्ता lokesh singh ने हाल ही में लिखा है: चक्रव्यूहMy Profile

  17. साहब मैं पाकिस्तान से हूँ और मेरी हिंदी मैं आमतौर पर गूगल tanslater में अपने पदों का अनुवाद और इसे पढ़ने के लिए अच्छा नहीं है. अच्छा काम करते हैं साहब
    टिप्पणीकर्ता Jadu ने हाल ही में लिखा है: پروانے چراغ سے دور رہیں – ایک جادوئی ٹوٹکہMy Profile

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons