मेरे ब्लॉग कंटेंट को चुराने वाले का पता-ठिकाना मिला, अब क्या करुँ, आप बताइये

जब मैंने सतीश पंचम जी की एक पोस्ट पर टिप्पणी छोडी थी तो अंदेशा नहीं था कि ऐसा कुछ मेरे साथ भी हो जायेगा। आज शाम एकाएक ही जब मुझे ईमेल में संदेश मिला ‘बल्ले बल्ले आपने सतीश जी के ब्लॉग कंटेंट चोरी होने पर बल्ले बल्ले की थी तभी मई चोरी कर रहा हु’ तो थोडा चौंका, क्योंकि यह था कोई अनाम जिसे Anonymous के नाम से लोग ज़्यादा जानते हैं। संदेश के साथ ही मेरी GMail के सर्वर वाली पोस्ट के प्रारम्भिक अंश थे। उस वक्त इतनी फुरसत नहीं थी कि ज़्यादा खोजबीन करुँ। अभी थोड़ी देर पहले आंकडों की नियमित जांच के दौरान, निगाह पड़ी तो पूरा मामला स्पष्ट हो गया.

(ईमेल, लॉगिन आंकड़े और ब्लॉग टिप्पणियों का सम्मिलित चित्र)

इन सज्ज़न (हम भारतीय होने के नाते सभी को सज्ज़न ही कहते हैं) ने क्या कुछ किया, ये आप ऊपर दिए गए चित्र में देख सकते हैं। जैसा तकनीकी विश्लेषण बतलाता है, वे आए 213.31.11.96 के IP पते से, लन्दन से, eur-info96.infonet.com से और मेरी पोस्ट पर 4:34 बजे कमेन्ट किया ‘balle balle’ फिर अपना ब्लॉग पता भी लिख दिया http://ramkhelawan.blogspot.com/ अगली टिप्पणी में, 4:35 बजे। पता नहीं क्या सूझा , उन दोनों टिप्पणियों को हटा दिया और फिर चोरी करने का कारण बताते हुए एक और टिप्पणी की 4:36 बजे। देखिये ऊपर दिए गए चित्र को, जिसे तीन स्नैपशॉट को मिला कर बनाया गया है, एक मेरी ईमेल का, एक टिप्पणियों का, एक तकनीकी आंकडों का। सब पर तारीखें स्पष्टतया मेल खा रहीं ही। एड्रेस एक ही है, लगातार। वे सज्ज़न है कोई राम खिलावन।


(मेरे ब्लॉग पर आने वाले इन सज्जन का संभावित स्थान, IP पते के अनुसार)

थोड़ी देर बाद 4:38 बजे एक और अनामी टिप्पणी आ टपकी, किरण बेदी जी को संबोधित करते हुए कि who is kiran bedi eak natak karane wala किरन बेदी ! आईपी एड्रेस वही, जगह वही!

जब उस GMail के सर्वर ध्वस्त होने वाले अंश वाली, उन महाशय की पोस्ट को लिंक करने लगा तो पता चला कि वह पोस्ट ही हटा दी गयी है! वो तो भला हो चिट्ठाजगत का और गूगल का, जिन पर अभी भी इस गुनाह के छींटे मौजूद है। देखिये चिट्ठाजगत पर और गूगल पर। इन्ही राम खिलावन जी ने अपने कथित ब्लॉग पर विवेक जी, मिश्रा जी, ई-गुरु के लिए क्या क्या लिखा है ख़ुद ही देख लें।

(चिट्ठाजगत का स्नैपशॉट )

अरे रुकिए, अभी कुछ मत कीजिए। अभी अभी एक टिप्पणी आयी है पंचम जी की उसी पोस्ट पर जिस पर मैंने टिप्पणी की थी उस सन्नी को बल्ले लगाने की। उसी ने सतीश पंचम जी को कहा है कि i get ur mail from this hindi_internet_love_making_stories@yahoogroups.com
yahoo group so i publish it on my post now i have deleted ur two post from my blog sorry for the hearing u

अब अगर सतीश पंचम जी सहयोग करते हुए, उन सनी जी का आई पी एड्रेस और जगह का खुलासा करें तो कुछ बात आगे बढ़ाई जाए, ऐसे चोरों के खिलाफ। मुझे तो लगता है यह राम खिलावन और सन्नी एक ही मानव हैं।

आपका क्या विचार है?

ताजा अपडेट: लो जी, पंचम जी ने जवाब भी दे दिया सन्नी को -You deleted my posts, thats the big relief for me But ….please don do such kinds of things again ….. Anyway, best wishes from me


मेरे ब्लॉग कंटेंट को चुराने वाले का पता-ठिकाना मिला, अब क्या करुँ, आप बताइये
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

9 Thoughts to “मेरे ब्लॉग कंटेंट को चुराने वाले का पता-ठिकाना मिला, अब क्या करुँ, आप बताइये”

  1. Anonymous

    जब ब्लॉगर के लिए भी कानून है तो बढ़िया है की पुलिस में रिपोर्ट कर दी जाये :)……..

  2. Anil Pusadkar

    अपने तो कुछ भी पल्ले नही पड़ा।

  3. Mired Mirage

    चोरी तो हमारी भी एक बार हुई थी। अन्त में भले मानस ने हटा दी।
    घुघूती बासूती

  4. Manvinder

    chori karna paap hai…use bat de…karna kya hai ….

  5. Suresh Chiplunkar

    भापा जी, ये सारे चित्र बनाकर चोर को ढूँढने का तकनीकी ज्ञान कैसे मिला, इसकी एक विस्तारित पोस्ट बनाई जाये, ताकि हम भी खोज सकें…

  6. Anonymous

    satish ji ne maf kar diya aap bhi maf kar do vaise usane appani blog delete kar diya hai

  7. neeshoo

    आकड़े आप ने अच्छे बनाये । अब चोरी का क्या ?

  8. Udan Tashtari

    काफी स्टेप बाई स्टेप पड़ताल की है. अच्छा लगा देख कर. ब्लॉग कंटेंट चोरी पर अंकुश लगाना-एक मुश्किल सा ही कर्य लगता है. देखिये, सुधीजन क्या राय देते हैं.

  9. Shastri

    किसी तरह फिकर करने की जरूरत नहीं है. बस उस व्यक्ति के चिट्ठे पर जाकर एक टिप्पणी दे दीजिये कि वह आपके आलेख को अपने चिट्ठे से हटा दे. उसके साथ साथ आप के इस आलेख का भी उल्लेख कर दीजिये. अपने एकाध चिट्ठामित्र से भी ऐसा ही टिपिया दीजिये.

    वह तुरंत हटा देगा.

    नहीं तो मिलेनियम डिजिटल एक्ट के अंतर्गत कार्रवाई की जा सकती है, लेकिन सामान्यतया उसकी जरूरत नहीं पडती

Leave a Comment


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons