मेरे शहर का संगीतमय फ़व्वारा Musical Fountain

पिछले दिनों मीनाक्षी जी ने दुबई के मशहूर संगीतमय फ़व्वारे की चर्चा में नीर क्रीड़ा, जल नर्तक जैसे नाम सोचते हुये एक वीडियो दिखाया था। तभी ख्याल आया था कि मेरे शहर भिलाई में भी तो वर्षों से एक म्यूज़िकल फ़व्वारा चल रहा है।असल में, अपने जमाने में मध्य भारत के सबसे खूबसूरत, व्यवस्थित, लगभग 200 एकड़ में फैले, भारत-रूस की मैत्री के प्रतीक मैत्री बाग में सौन्दर्यीकरण के तहत एक फ़व्वारा बनवाया गया था। तारीफें बहुत सुनी थी, किन्तु अपने निवास से बमुश्किल 2 किलोमीटर की दूरी वाले इस मैत्री बाग में कई वर्षों से जा नहीं पाया।

कल बिटिया ने जिद कर ली कि आज तो आपको जाना ही होगा। जरा कम्प्यूटर के सामने से हटो, तबीयत खराब हो जायेगी। मैं पहले भी कह चुका हूँ कि भले ही कोई मुझे टस से मस ना कर पाये, अपनी इस दादी अम्मा के सामने सिर झुका ही देता हूँ। शाम के 7:30 बजे शुरू हो जाता है इसका पहला शो। आनन-फानन में तैयार हुये, वैन में सरपट भगे।

प्रवेश टिकट लेने लगे तो पता चला कि मैत्री बाग का टिकट अब 5 रूपये कर दिया गया है। पहले मुफ्त में प्रवेश मिलता था। फिर 10 पैसे से शुरू हुया टिकट अब 5 रूपये का!! अब यह अलग बात है कि पहले चिड़ियाघर का टिकट अलग से अंदर जा कर लेना पड़ता था और नौकायन का भी। अब सब कुछ समाहित कर 5 रूपये है।

समय हो ही चला था। जनता पूरी तैयारी के साथ जमी बैठी थी। अभी हमें जगह तलाश कर बैठे 2 मिनट ही हुये थे कि तमाम बत्तियाँ बंद कर दी गयीं। नज़र दौड़ायी तो दसियों की तादाद में बड़े-बड़े जुगनुयों की मानिंद कैमरों की लाल-नीली बत्तियां चमकने लगीं। हमने भी कैमरा निकाला और दन्न से आगे बढ़ कर एक पेड़ का सहारा ले वीडियो उतारने लगे। बस तीन गाने ही बजे होंगे कि शो खत्म और घोषणा हो गयी कि आज और कोई शो नहीं होगा। जो कुछ हमने देखा आपके सामने है। ऊब ना लगे इसलिये थोड़ा संपादन कर दिया है।



कैसा लगा हमारे भिलाई जैसे छोटे से शहर का संगीतमय फ़व्वारा?

ऐसी ही नयी पोस्ट अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मेरे शहर का संगीतमय फ़व्वारा Musical Fountain
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

मेरे शहर का संगीतमय फ़व्वारा Musical Fountain” पर 10 टिप्पणियाँ

  1. आपके लेख से याद ताज़ा हो आई, जनक पुरी, दिल्ली में, मेरे घर के सामने भी ऐसा ही musical fountain था. जब ये शुरू हुआ था तो इसका पानी, दलेर मेहंदी के पहले पहल हिट हुए गाने पर थिरका करता था.

  2. बहुत बहुत सुंदर!

  3. अच्छी याद दिलाई मैत्री बाग की. आभार.

  4. बहुत सुन्दर…. इसे देखने के लिए ५ रुपये कुछ ज्यादा नहीं है.

  5. नहीं मनीश जी, ये तो मैत्री बाग में है। OPII के रास्ते में गुलाब उद्यान की बात कर रहें हैं शायद आप?

  6. फोटूओं में तो दो लोग ही नजर आ रहे थे एक आप और दूसरे अनिल जी और तीसरी चीज नीचे वाले गिलास (हा-हा-हा)

  7. पाबला साहब जी आप का फ़ोब्बारा बहुत सुंदर लगा, ओर आप का स्वागत कक्ष भी बहुत सुंदर लगा, लेकिन यह तो सिर्फ़ झटका है, आप तो बहुत जानते है इस बारे मै, अगर आप को मालुम ना हो तो आप यहा Google Analytics रजिस्ट्रर करवा कर सब आने जाने वालो का रिकार्ड देख सकते है, यानि IP ओर फ़िर अपने इस प्रोगराम मै जा कर IP के मालिक का पता चला सकते है.
    धन्यवास

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons