सावधान! अगले एक सप्ताह तक इंटरनेट सेवायें गड़बड़ा सकती हैं

लीजिए ज़नाब! एक मायूस कर देने वाली खबर आई है कि इस सप्ताह, इटली के करीब समुद्र के अंदर केबल नेटवर्क में खामी की वजह से, भारत में ब्राडबैंड कनेक्शन सेवा प्रभावित हो सकती है। तकनीकी रूप से कहा जाए तो दक्षिण एशिया और यूरोप को जोड़ने वाली केबल प्रणाली में खराबी आ जाने से देश में हाई-स्पीड इंटरनेट सेवा बाधित हो सकती है।

दरअसल, समुद्र के अंदर पड़ी दक्षिण पूर्व एशिया-मध्य एशिया-पश्चिमी यूरोप-4 South East Asia-Middle East-West Europe 4 (SEA-ME-WE 4) केबल प्रणाली के जरिए ही भारतीय उप महाद्वीप और पश्चिम एशिया में इंटरनेट की सुविधा मुहैया कराई जाती है तथा इटली के पास 14 अप्रैल 2010 को आई खराबी को ठीक करने के लिए समुद्र के अंदर केबल मरम्मत का काम अगले रविवार, 2 मई तक तक चलने की संभावना है।

(SEA-ME-WE 4 का केबल मानचित्र)
भारत की भारती एयरटेल और टाटा कम्युनिकेशंस सहित दुनिया की 16 अंतरराष्ट्रीय टेलीकाम कंपनियां मिलकर यह प्रोजेक्ट चला रही हैं। सूत्रों का कहना है कि कंपनियां इस प्रयास में लगी हैं कि मरम्मत के इस काम का इंटरनेट सेवा पर कम से कम असर पड़े।
सावधान! अगले एक सप्ताह तक इंटरनेट सेवायें गड़बड़ा सकती हैं
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

27 Thoughts to “सावधान! अगले एक सप्ताह तक इंटरनेट सेवायें गड़बड़ा सकती हैं”

  1. काजल कुमार Kajal Kumar

    जानकारी के लिए धन्यवाद. मुझे तो लगता है कि इसका प्रभाव शुरू भी हो चुका है. कल रात इंटरनेट की स्पीड डायल-अप जैसे दिनों की सी लगी.

  2. ललित शर्मा

    कुछ दिनों के लिए गर्मी का असर कम हो जाएगा:)

  3. महफूज़ अली

    अरे! हुण आप्पा दां की होवेगा….?

  4. नरेश सोनी

    वाकई चिंताजनक खबर है।

  5. पी.सी.गोदियाल

    BTW: बिजली की तरह ही इंटरनेट पर क्या कोई इनवर्टर जैसा औजार नहीं है ?

  6. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    इस बहामे कुछ दिन आराम ही कर लेंगे!

  7. zeal

    Shukriya Pabla saab

  8. नवीन प्रकाश

    तकलीफ तो होने ही लगी है BSNL ने बस अभी ही तो bandwidth दोगुनी की थी इस स्पीड का मज़ा बस कुछ दिन ही ले पाए अभी तो 5 से 25 केबीपीएस की ही स्पीड मिल रही है .
    शाम में कभी कभी स्पीड ठीक हो जाती है . इस अप्रैल ने बड़ा परेशान किया खैर कुछ दिन और सही …..

  9. दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

    तैय़ार न भी हों तो क्या फर्क पड़ता है।

  10. वन्दना

    आज सुबह ही ये खबर अखबार मे पढी थी …………………अब तो बस तैयार रहना है इस स्थिति के लिये।

  11. हिमांशु । Himanshu

    जानकारी का आभार !
    सजग होकर भी क्या कर लेंगे हम !
    बस देखते रहना है, और ठीक होने की प्रतीक्षा करनी है !

  12. राज भाटिय़ा

    कोई गल नही जी. धन्यवाद

  13. Gagan Sharma, Kuchh Alag sa

    जिंदगी के मेलों में झमेले भी कम नहीं हैं।

  14. जी.के. अवधिया

    जानकारी देने के लिये धन्यवाद पाबला जी!

  15. अविनाश वाचस्पति

    मैंने तो कल ही शेड्यूल की हैं एक सप्‍ताह की पोस्‍टें। अब तो वे पढ़ी भी न जायेंगी। हटाऊं या न हटाऊं, आगे बढ़ाऊं या न बढ़ाऊं। जो भी करा तो होगा उसका उल्‍टा ही, जैसा सोचा जाएगा, वैसा तो हो ही नहीं सकता। होने दो जी, जो होना है। हम कर ही क्‍या सकते हैं ? ना तो समुद्र अपने हाथ में है न इंटरनेट हमारा है।

  16. अजय कुमार झा

    सर वहां भी कुछ हिंदी ब्लोग्गर बनाएं क्या ,हो सकता है कि उनकी अनाम टिप्पणियों से तिलमिला कर जल्दी से कार्यवाही हो सके और सेवा बहाल हो जाए फ़टाफ़ट …….. 🙂 🙂 🙂

  17. पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

    जी हाँ, बोरिया-बिस्तर बाँध कर बिल्कुल तैयार बैठे हैं…इसी बहाने कुछ दिन बच्चों को कहीं घुमने को तो मिलेगा 🙂

  18. डा. अमर कुमार

    .
    अमाँ, आप इटली कब पहुँच गये ?
    खैर.. जल्दी ठीक करो, और सीधे घर आओ !
    और सुनो, ज़हाज़ की खिड़की से सिर निकालना तो दूर, फ़्राँस की तरफ़ झाँकना भी मत ।

  19. Udan Tashtari

    यह तो चिन्ता वाली बात बता रहे हैं आप.

  20. kshama

    Aagah to ho gaye! Kalse net jaise kachhua ho gaya hai..!

  21. मीनाक्षी

    अभी कल ही इस विषय पर चर्चा हो रही थी कि समुन्दर में पड़ी पड़ी केबल बार बार खराब हो जाती हैं जिससे इंटरनेट पर असर पड़ता है…यहाँ खबर मिल रही है कि टाटा ने केबल डालना शुरु भी कर दिया है…

  22. चन्द्र कुमार सोनी

    majburi hain ji,
    hamaare taiyaar hone naa hone se kya farak padtaa hain.
    hum to bas intazaar ki ghadiyaan hi gin sakte hain.
    aakhir majburi jo thahri.
    thanks.
    http://WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

  23. डॉ टी एस दराल

    हमारी तो पहले ही गड़बड़ा गई जी । आज ही ठीक हुआ है।

  24. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’

    सही बात, आजकल सभी जगह यही चर्चा है।
    ——–
    गुफा में रहते हैं आज भी इंसान।
    ए0एम0यू0 तक पहुंची ब्लॉगिंग की धमक।

  25. 'उदय'

    … बिलकुल सही जानकारी … हम तो दो-तीन दिनों से महसूस कर रहे हैं !!!

  26. शरद कोकास

    आज एक मई है अब तक तो सब ठीक चल ही रहा है ।

  27. सतीश कुमार चौहान

    बावला जी नमस्‍कार
    ज्‍यादा परेशान न करते हुऐ एक अनुरोध कभी भी फुरसत में इन्‍हे दैख कर कुछ सुधार व सजावट की उम्‍मीद तो कर ही सकता हूं,
    आशा हैं सहयोग मिलेगा… सतीश कुमार चौहान भिलाई
    satishkumarchouhan.blogspot.com
    satishchouhanbhilaicg.blogspot.com

Leave a Comment

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons