हैकर, 5 नवंबर को फेसबुक पर आक्रमण कर उसे बंद कर देंगे!

हैकरों के एक समूह ने फेसबुक की ‘करतूतों’ के विरोध में यह ऐलान किया है कि वे 5 नवंबर 2011 को फेसबुक पर ‘आक्रमण’ कर उसे बंद कर देंगे। इस हैकर समूह का कहना है कि फेसबुक,लोगोंकीज़िंदगीकेबारेमेंउनकेपरिवारसेभीज़्यादाजानताहैऔर यह सूचनाएँ सरकारों को दे कर अपना उल्लू सीधा करता है।

Facebook kill november

यह समूह आगे कहता है “कोई व्यक्ति अगर अपना फेसबुक खाता बंद भी कर दे तो भी साराव्यक्तिगतडाटामौज़ूद रहता है जिसे जब चाहे फेसबुक द्वारा देखा जा सकता है। प्राईवेसी की सेटिंग को कुछ और प्राईवेट करना भी अपनेआपकोधोखादेना ही है। सीधी सी बात है इंटरनेट पर मौज़ूद व्यक्ति वास्तविकता से मुँह नहीं मोड़ सकता। एक दिन जब वह पीछे मुड़ कर देखेगा तो पाएगा कि हैकरों की यह हरकत किसी हद तक आपको बचा ही रही है। याद रखिए, अगर फेसबुक जैसी चीज आपको मुफ़्त मिल रही है तो इसका मतलब वो आपसे, आपकेद्वारादीगईजानकारियोंसेपैसाबनारहा है।”

 

उनकी प्रेस विज्ञप्ति कुछ इस प्रकार है:

 

Operation Facebook

DATE: November 5, 2011.

TARGET: https://facebook.com

 

Press:

Twitter : https://twitter.com/OP_Facebook

http://piratepad.net/YCPcpwrl09Irc.Anonops.Li #OpFaceBook

Message:

Attention citizens of the world,

Facebook has been selling information to government agencies and giving clandestine access to information security firms so that they can spy on people from all around the world. Some of these so-called whitehat infosec firms are working for authoritarian governments, such as those of Egypt and Syria.

Everything you do on Facebook stays on Facebook regardless of your “privacy” settings, and deleting your account is impossible, even if you “delete” your account, all your personal info stays on Facebook and can be recovered at any time. Changing the privacy settings to make your Facebook account more “private” is also a delusion. Facebook knows more about you than your family.

http://www.physorg.com/news170614271.htmlhttp://itgrunts.com/2010/10/07/facebook-steals-numbers-and-data-from-your-iph….

You cannot hide from the reality in which you, the people of the internet, live in. Facebook is the opposite of the Antisec cause. You are not safe from them nor from any government. One day you will look back on this and realise what we have done here is right, you will thank the rulers of the internet, we are not harming you but saving you.

The riots are underway. It is not a battle over the future of privacy and publicity. It is a battle for choice and informed consent. It’s unfolding because people are being raped, tickled, molested, and confused into doing things where they don’t understand the consequences. Facebook keeps saying that it gives users choices, but that is completely false. It gives users the illusion of and hides the details away from them “for their own good” while they then make millions off of you. When a service is “free,” it really means they’re making money off of you and your information.

Think for a while and prepare for a day that will go down in history. November 5 2011, #opfacebook . Engaged.

This is our world now. We exist without nationality, without religious bias. We have the right to not be surveilled, not be stalked, and not be used for profit. We have the right to not live as slaves.

We are anonymous

We are legion

We do not forgive

We do not forget

Expect us

यह देखना दिलचस्प होगा कि यहयुद्धकिसतरहका होगा! अंदाज़ है कि 2009 के अंत तक फेसबुक 60,000 सर्वरों के भरोसे चल रहा है (एकसर्वरलगभग 3000 कम्पयूटरोंकेबराबरमानाजासकताहै) और इस हैकर समूह के नियंत्रण में भी हजारों की तादाद मे कम्प्यूटर हैं।

समाचार कुछ ऐसा है

हालांकि इस हैकर समूह की घोषणा पर इसी नाम से मिलते जुलते चर्चित हैकर समूह Anonymous ने इससे खुद से अलग बताया है किन्तु आगे क्या होगा किसको पता?

आप क्या सोच रहे हैं?

हैकर, 5 नवंबर को फेसबुक पर आक्रमण कर उसे बंद कर देंगे!
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

Related posts

5 Thoughts to “हैकर, 5 नवंबर को फेसबुक पर आक्रमण कर उसे बंद कर देंगे!”

  1. Ratan Singh Shekhawat

    देखतें है इस युद्ध को भी ,क्या परिणाम निकलते है ?
    way4host

  2. प्रवीण पाण्डेय

    मार्केटिंग कम्पनियों को यह जानकारी बेच कर बहुत पैसा बनाया जाता है।

  3. देखते हैं 5 नवम्‍बर को क्‍या होता है…

    वैसे आपकी बात में दम है… कि मुफ्त में सेवा देने के बदले फेसबुक जाने अनजाने में हमसे काफी कुछ हासिल कर लेता है।
    टिप्पणीकर्ता अतुल श्रीवास्‍तव ने हाल ही में लिखा है: अध्‍ययन यात्रा बनाम दारू पार्टी…. !!!!!My Profile

  4. 5 नवम्‍बर को क्‍या होता है…इसी का इंतजार हे
    टिप्पणीकर्ता vijaypal kurdiya ने हाल ही में लिखा है: यह मेरे "घर , गाँव" की "दिवाली" हे……["Diwali In "My Village"]My Profile

Leave a Comment

टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)

[+] Zaazu Emoticons