GMail की नयी सुविधा, भुल्लकड़ व्यक्तियों के लिये!

ज़िंदगी के मेले

लगता है वह समय आने ही वाला है जब मशीने समझदार होंगीं और इंसान मूर्ख्। एक झलक आज दिखाई दी, जब जी मेल का नया उपाय देखा। संपर्कों की अपनी लंबी सूची से, अनेकों व्यक्तियों को मेल भेजते हुए कई बार हड़बड़ी में या भूल जाने से, ऐसा होता है कि कोई महत्वपूर्ण व्यक्ति छूट जाता है, बाद में याद आता है और उसे अलग से फिर मेल भेजनी पड़ती है।

जीमेल टीम ने आपके इस कथित दर्द को महसूस कर Gmail Labs पर एक सुविधा जोड़ी है। मेल भेजते हुए, आपके द्वारा कुछ प्राप्तकर्ता चुन लेने के बाद Gmail आपको सुझाव देता है कि आप कुछ और लोग शामिल कर सकते हैं और इसका आधार उन लोगों का समूह होता है जिन्हें आप अक्सर ईमेल भेजते हैं.

एक बार जब इस सुविधा को, सेटिंग्स के तहत, लैब से सक्रिय कर दिया जाता है तो जब आप एक नयी मेल लिखते हुए, प्राप्तकर्तायों का ईमेल लिख रहे होते हैं, जीमेल आपको कुछ लोगों के समूह को भेजी जाने वाली ईमेल के आधार पर शामिल करने के लिए अन्य लोगों का सुझाव देगा. एक उदाहरण है कि आप हमेशा, अपनी माँ, पिताजी और बहन को एक साथ मेल भेजते हैं। एक बार माँ और पिताजी को संदेश भेजते समय, उनका ईमेल लिखना शुरू करते हैं तो यह, आपको अपनी बहन का ईमेल जोड़ने का सुझाव देगा! इस सुझाव पर बहन के नाम वाली लिंक पर क्लिक करते ही, उसका  ईमेल पता प्राप्तकर्तायों की ईमेल सूची में जोड़ दिया जायेगा।

इसके लिए कम से कम दो प्राप्तकर्ताओं का ईमेल लिखा जाना ज़रूरी है तभी यह सुझाव देने की स्थिति में होगा।

अधिक जानकारी यहाँ पायी जा सकती है। वैसे यह एक मशीनी प्रक्रिया है। हमेशा आपके मन मुताबिक काम करे, कोई ज़रूरी नहीं।
आप क्या सोचते हैं? यह सुविधा है या …?

ऐसी ही नयी पोस्ट अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

ब्लॉग पसंद आया हो तो इसके चाहने वाले बनें, यहाँ क्लिक करें

GMail की नयी सुविधा, भुल्लकड़ व्यक्तियों के लिये!
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

4 thoughts on “GMail की नयी सुविधा, भुल्लकड़ व्यक्तियों के लिये!

  1. अच्छी जानकारी, तकनीति ने हर आदमी को भुल्‍लकड बना दिया है।

  2. भईया ला जय जोहार, बने काम के बात बताये हावव भईया अब संगी मल ला जुरिया के मेलियाना असान हो जाही।

  3. bhayee pabla sahab aap kee dee huyee jankariyon se main bhee ‘gyanee’ banta ja raha hoon . shukriya !

    padhte rahte hain . samajh badh rahee hai .

  4. आप बहुत सरल तरीके से तकनीकी जानकारी देते है..बहुत बहुत शुक्रिया..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons