2 मिनट में, अपना ब्लॉग गूगल के चंगुल से बचाएँ

आजकल जो हाहाकार मचा हुआ है गूगल खाता बंद होते जाने के कारण, उसी कड़ी में दो दिन पहले गुरूवार की रात ढाई बजे मोबाइल द्वारा हुई एक पुकार पर मुझे गहरी नींद से उठना पड़ा। बड़ी मुश्किल से आँखे खोल कर नाम देखने की कोशिश की पर सब धुंधला नज़र आ रहा था, आखिर बिस्तर पर गया ही 1 बजे जो था। नहीं समझ आया तो, हार कर कान से लगा ही लिया मोबाईल। उधर से पहले तो सॉरी कहा गया इत्ती रात फोन करने के लिए और फिर…

Read More