महाराष्ट्र का वह बुद्धिमान रोबोट हमारा मन मोह गया

मई 2013 में सड़क मार्ग से पुणे जाते हुए, हमें अहमदनगर होते हुए जाना था. चचेरा भाई साथ ही था. अहमदनगर से पहले ही हमें ऐसा कुछ नज़ारा दिखा कि वर्षों पहले किसी काम से तौबा किये हुए मन ने आखिरकार वही काम करने का मन बना लिया 😀 एशियन हाईवे पर अपनी मारूती ईको दौड़ाते हम दोनों भाई भिलाई से 625 किलोमीटर दूर नांदेड पहुँच चुके थे जो हमारी इस यात्रा में एक पड़ाव था और सिक्ख धार्मिक स्थल भी. हमारे जीपीएस उपकरण ने संध्या 4 बजे जहाँ गाड़ी…

Read More

1984 – ए रोड स्टोरी

इस बार मई माह में गाँव जाना हुया एकदम अकेले. मार्च में चचेरी बहन के विवाह पर देश-विदेश से इकट्ठा हुए कुनबे वालों की गहमागहमी के बाद, मेरे सबसे छोटे चाचा का घर सुनसान पड़ा था. इधर, हमारे घर का ताला ही तब खुलता है जब भिलाई से कोई पारिवारिक सदस्य वहाँ पहुंचता है. अकेले ही था सो अरसे बाद लुधियाना रेल स्टेशन पर उतर सायकिल रिक्शा, बस, ऑटो-रिक्शा की सवारी करते गाँव पहुंचा तो कई पुरानी बातें याद हो आईं. उन्हीं में से एक है 1984 की यह सड़क…

Read More