शाहरूख खान बनेंगे, पाबला परिवार के पड़ोसी !?

हमारे सुपुत्र कल शाम रवाना हुए थे भोपाल के लिए। डोंगरगढ़ के पास ट्रेन का इंजिन खराब हो गया। ज़नाब को देर हो गई दो घंटे की। सुबह पहुँचने की सूचना दी तो चहकने भी लगे कि शाहरूख खान मेरे घर के पास रहने का जुगाड़ कर रहे!मैं भी चकराया कि मज़ाक में भी सच […]
Continue reading…

 

आज मेरी अगली पीढ़ी, 23 वर्ष की हो गयी

सन 1986 के मई माह का वह एक रविवार था। शाम को दूरदर्शन पर फिल्म चल रही थी -हमराही। 9 बजे ही थे एकाएक ही रिमोट कंट्रोल बोल उठा ‘हॉस्पिटल’। हमने अपनी जावा मोटरसायकल उठायी और रिमोट कंट्रोल के साथ धीमे-धीमे चल पड़े अपने संस्थान के अस्पताल की ओर। ऑपरेशन थियेटर के दरवाज़े के सामने […]
Continue reading…

 

आज उस लड़की का जनमदिन है

अपनी मुंबई यात्रा के संस्मरण की आखिरी पोस्ट में जब मैंने कहा था कि अब अगली पोस्ट में बताउँगा, प्लेटफार्म पर हुई बातों के सन्दर्भ में, द्विवेदी जी के सौजन्य से, अब जिनसे अक्सर घंटों बात होती है, वो कौन थी! तो विष्णु बैरागी जी ने टिप्पणी की थी कि बातों वाली के बारे में […]
Continue reading…