शाहरूख खान बनेंगे, पाबला परिवार के पड़ोसी !?

हमारे सुपुत्र कल शाम रवाना हुए थे भोपाल के लिए। डोंगरगढ़ के पास ट्रेन का इंजिन खराब हो गया। ज़नाब को देर हो गई दो घंटे की। सुबह पहुँचने की सूचना दी तो चहकने भी लगे कि शाहरूख खान मेरे घर के पास रहने का जुगाड़ कर रहे!मैं भी चकराया कि मज़ाक में भी सच बोलने वाले को क्या हो गया? भोपाल की कौन सी हवा लग रही उसे? लेकिन जब बात खुली तो हम दोनों ही ठहाका मारने की होड़ में लग गए। हुया यह कि उसने किसी अखबार…

Read More

आज मेरी अगली पीढ़ी, 23 वर्ष की हो गयी

सन 1986 के मई माह का वह एक रविवार था। शाम को दूरदर्शन पर फिल्म चल रही थी -हमराही। 9 बजे ही थे एकाएक ही रिमोट कंट्रोल बोल उठा ‘हॉस्पिटल’। हमने अपनी जावा मोटरसायकल उठायी और रिमोट कंट्रोल के साथ धीमे-धीमे चल पड़े अपने संस्थान के अस्पताल की ओर। ऑपरेशन थियेटर के दरवाज़े के सामने अकेले खड़े-खड़े अनचाहा तनाव बढ़ते ही जा रहा था। 25-26 मई की मध्य रात्रि 12 बज कर 20 मिनट पर वह दरवाजा खुला। आधे लटके हुये मास्क के पीछे से एक मुस्कुराता सा चेहरा नज़र…

Read More

आज उस लड़की का जनमदिन है

अपनी मुंबई यात्रा के संस्मरण की आखिरी पोस्ट में जब मैंने कहा था कि अब अगली पोस्ट में बताउँगा, प्लेटफार्म पर हुई बातों के सन्दर्भ में, द्विवेदी जी के सौजन्य से, अब जिनसे अक्सर घंटों बात होती है, वो कौन थी! तो विष्णु बैरागी जी ने टिप्पणी की थी कि बातों वाली के बारे में जानने की जिज्ञासा आपने जगा दी है। जल्‍दी पूरी कीजिएगा। कई ऐसे कारण हुए कि देर होते चले गयी। अभी जब लिखने बैठा तो याद आया कि आज, 18 मार्च को उनका जन्मदिन है। जैसा…

Read More