भिलाई में हुई ब्लॉगर बैठक, दो नए ब्लॉगरों के साथ: चिट्ठाचर्चा डॉट कॉम की प्रगति पर भी चर्चा

मोबाईल की धुन बजी तो नाम चमकता दिखा नरेश सोनी! ठीक 6 बजे थे। वह समय जो तय किया गया था एक ब्लॉगर बैठक का। ‘मुझे मालूम था कि आप सबसे पहले पहुंचोगे’ मैंने हंसते हुए सोनी जी से कहा। आधे घंटे की मोहलत ली मैंने और कॉल खत्म होते ही संजीव तिवारी जी को संपर्क किया गया। पता चला कि वे बस पहुँचने ही वाले हैं तयशुदा स्थान, आकाशगंगा के इन्डियन कॉफी हॉउस में। इस ब्लॉगर बैठक की योजना दो दिन पहले ही बनाई गई थी। कुछ मुद्दों पर…

Read More

चिट्ठाचर्चा डॉट कॉम खरीदा गया तो अपराध की गर्त में चले गए!?

अपने सम्बोधन के पश्चात अनिल पुसदकर जी ने जब छत्तीसगढ़ की ब्लॉगर बैठक में मुझे मंच पर आमंत्रित किया तो मैंने, चिट्ठाचर्चा डॉट कॉम पर डेढ़ माह तक निस्वार्थ भाव से हो रहे कार्य के लगभग संपन्न हो चुकने के बाद, कुछ चुनिंदा ब्लॉगरों द्वारा इस प्रक्रिया पर नैतिकता व भावना का मुल्लमा चढ़ा कर इसकी नीयत पर प्रश्न उठाए जाने की बातों को साझा करना चाहा। मसिजीवी की पोस्ट पर चिट्ठाचर्चा डॉट कॉम खरीदे जाने को अपराध की गर्त में जाना बताए जाने के बाद, हिन्दी ब्लॉग जगत के…

Read More

चिट्ठाचर्चा डॉट कॉम से शुरू हो कर, वृहद ब्लॉगर सम्मेलन पर खत्म होती बैठक की बातें

मकर संक्राति के कुछ दिन पहले, लगभग सूख चुके लॉन पर धूप का आनंद ले रहा था कि राजकुमार ग्वालानी जी ने मोबाईल पर सम्पर्क किया। हमेशा की तरह गर्मजोशी से बातें शुरू करते हुए कहने लगे कि लगभग एक माह होने को आया, अपनी बैठक नहीं हुई अभी तक। तात्कालिक रूप से 17 जनवरी का दिन तय कर लिया गया। कुच्छेक ब्लॉगरों की सहमति पा कर रायपुर में मुलाकात का समय व स्थान भी तय कर लिया गया। इसी सिलसिले में राजकुमार जी ने एक सूचनात्मक पोस्ट भी लिख…

Read More

ऑनलाईन फोरम www.blogmanch.com : चिंतन बैठक से निकला एक और निर्णय

दो सप्ताह पूर्व हिन्दी ब्लॉगरों की एक आकस्मिक चिंतन बैठक में सभी ने अपने अपने तरीके से ब्लॉग जगत की अच्छाईयों बुराईयों की जम कर चर्चा की थी। जहाँ एक ओर कथित गुटबाजी को चंद व्यक्तियों का शोशा ही माना गया तो इस विधा से बन रहे ई-रिश्तों की भूरि भूरि प्रशंसा भी हुई। दोपहर का भोजन सत्र देर से शुरू हुया, सो समाप्त होते होते अंधेरा घिर चुका था। बालकृष्ण अय्यर के अनुरोध को देखते हुए अनिल पुसदकर जब अप्रत्याशित रूप से भिलाई आ पहुँचे तो दोनों पुराने मित्रों…

Read More

भिलाई में हुई ब्लॉगर चिन्तन बैठक के आरंभिक दो निर्णयों की घोषणा

आज से ठीक एक सप्ताह पहले, स्थानीय हिन्दी ब्लॉगरों की एक आकस्मिक बैठक भिलाई-दुर्ग में हुई थी, जिसे बाद में चिंतन बैठक का नाम दिया गया। पूर्वनियोजित बैठक न होने के कारण कई ब्लॉगरों को सूचना नहीं मिल पाई थी। मैराथन बैठक कही जा सकने वाली इस बैठक के दौरान, कई मह्त्वपूर्ण सकारात्मक निर्णय लिए गए हैं। जिनमें से एक का संकेत राजकुमार ग्वालानी अपनी पोस्ट में दे चुके हैं। लिए गए निर्णयों पर बैठक में शामिल न हो पाने वाले, ज्ञात सक्रिय ब्लॉगर साथियों की भी सहमति ले ली…

Read More