दीवारों से बात करता मैं दीवाना

बचपन से सुनते-पढ़ते आया हूँ कि जब दो व्यक्ति बात कर रहे हों और उनमें से एक व्यक्ति दूसरे की कतई न सुने, तो दूसरा कहता है, ‘क्या मैं दीवारों से बात कर रहा हूं?’ या फिर किसी कमरे में कोई अकेले ही अपने आप से बात करे तो भी देखने वाले कहते हैं ‘दीवाना हो गया है, दीवारों से बात कर रहा! कोई बिलकुल ही आपकी बात ना सुने, तो बंदा कहता है कि इससे बात करने से बेहतर है दीवार से सर फोड़ लिया जाए. दीवारों के कान होने…

Read More

टूटा हुआ खिलौना खुद ही मरहम पट्टी कर पहले जैसा जुड़ जाएगा

देखने सुनने में भले ही अविश्वसनीय लगे लेकिन कल्पना की जा सकने वाली बात को साकार कर दिखाया है विज्ञान ने. दरअसल वैज्ञानिकों ने अब एक ऎसी तकनीक विकसित कर ली है जिससे टूटे खिलौनों, चश्मों के टुकड़े जोड़ने के लिए किसी तरह के पदार्थ की ज़रुरत नहीं होगी. न कोई क्विक्फिक्स ना कोई एरलडाईट! अब इस नई तकनीक से प्लास्टिक के टूटे टुकड़े खुद ही अपने आप जुड़ जायेंगे. वैज्ञानिकों द्वारा विकसित इस अलग तरह का प्लास्टिक टूटने या कटने की स्थिति में स्वयं जुड़ जाएगा। गोया खुद ही…

Read More

रिमोट कंट्रोल गुम गया? कोई बात नहीं, अपना चेहरा इस्तेमाल करें

अमेरिका के एक कंप्यूटर विज्ञान विशेषझ ने अपने चेहरे को रिमोट कंट्रोल में बदलने में कामयाबी हासिल की है। फिलहाल इससे विडियो कीगति को कम या ज़्यादा किया जाना संभव है। यह तकनीक भविष्य में रोबॉट को, चेहरे के भाव पढ़ना और समझना सिखाने की विधि का एक हिस्सा है। जैकब वाइटहिल नाम के यह विशेषज्ञ, कंप्यूटर विज्ञान में पीएचडी कर रहे हैं। उन्होंने एक ऐसे, आकार में छोटे, डिटेक्टर को बनाने में कामयाबी हासिल की है, जो उनके चेहरे को रिमोट कंट्रोल में तब्दील कर सकता है। यह उपकरण,…

Read More

नंबर डायल करते ही होगी आपकी पहचान, आपके खानदान की पहचान

अगले चार साल बाद हिंदुस्तान में पहचान के लिए हर मानव का का एक नंबर होगा। नंबर ‘डायल’ करते ही नाम से लेकर खानदान तक का पूरा ब्यौरा सामने होगा। चाहे वह आईआईएम, आईआईटी या एम्स के पेशेवर हों या फिर रोजाना कमाने वाले मजदूर। सबका एक राष्ट्रीय नंबर होगा और एक पहचान पत्र, जिसमें उस शख्स के बारे में पूरी जानकारी होगी। बहुउद्देश्यीय राष्ट्रीय पहचान पत्र का पायलट प्रोजेक्ट मार्च में ही पूरा कर लिया गया है। अब सोचा जा रहा है कि 2011 में होने वाली जनगणना के…

Read More