भाषा ऎसी चुंबकीय लिखें कि विज्ञापन दिखें

ऑनलाइन विज्ञापन कैसे खींचे जाएँ? इसके लिए भाषा नाम के की-वर्ड का उपयोग करते हुए लिखा गया रोचक लेख
Continue reading…

 

2 मिनट में, अपना ब्लॉग गूगल के चंगुल से बचाएँ

आजकल जो हाहाकार मचा हुआ है गूगल खाता बंद होते जाने के कारण, उसी कड़ी में दो दिन पहले गुरूवार की रात ढाई बजे मोबाइल द्वारा हुई एक पुकार पर मुझे गहरी नींद से उठना पड़ा। बड़ी मुश्किल से आँखे खोल कर नाम देखने की कोशिश की पर सब धुंधला नज़र आ रहा था, आखिर […]
Continue reading…

 

आधी सदी का सफ़र और एक नई शुरूआत

आज 21 सितंबर को, इस धरा पर मानव जीवन का सफ़र तय करते पाश्चात्य गणना पद्धति के हिसाब से आधी सदी का वक्त बीत गया। इस मौके पर कल रात माँ बहुत याद आई। सिर्फ़ कल्पना ही कर पाया कि वह कैसे बलैंय्या लेती अपने इस बच्चे की। इससे पहले मन कुछ और उदास होता, […]
Continue reading…

 

ब्लॉग पढ़ने के लिए एग्रीगेटर तलाश रहे हैं आप? इधर देख लीजिए

मेरे बहुत से मित्र ऐसे हैं जो ब्लॉगिंग नहीं करते लेकिन ब्लॉग पढ़ते ज़रूर हैं। उन्हें ब्लॉग पढ़ने का चस्का या तो मैंने लगाया या फिर समाचारपत्रों में ब्लॉग रचनाएँ देख हुया। आजकल कई मित्र परेशान हैं कि चर्चित एग्रीगेटर अपनी सेवायें नहीं दे रहें ब्लॉग कैसे पढ़ें? अब चालू भाषा में कहा जाए तो […]
Continue reading…

 

स्वतंत्रता दिवस पर एक अनूठा राष्ट्रीय ध्वज विज़ेट, आपके ब्लॉग के लिए

भारत के स्वतंत्रता दिवस की वर्षगांठ चंद दिन ही दूर रह गई है। याद करने का समय आया है राष्ट्रभक्त आजादी के दीवानों की कुर्बानियां, उनके द्वारा संजोये गए देश के स्वरुप की वो कल्पना, जिसके मूर्त रूप लेने में अभी भी वक्त लगेगा। इस मौके पर पिछले वर्ष की एक पोस्ट याद आ रही […]
Continue reading…

 

ब्लॉगवाणी की नीति और नीयत कोई बतला सकता है क्या!?

इस विषय पर मैं किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं देना चाह रहा था, किन्तु आज एक ब्लॉगर साथी की प्रतिक्रिया देख कर रहा नहीं गया। मामला कुछ यूँ है कि पिछले दिनों 4 मई 2010 को मैंने संबंधियों-सहयोगियों के आग्रह पर अपने अनुभवों को साझा करने के दृष्टिकोण से कम्प्यूटर सुरक्षा संबधित एक नया ब्लॉग […]
Continue reading…

 

ललित शर्मा की टाँगे खींच कर टंकी से उतारा गया: क्योंकि सीढ़ी वह साथ ले कर चढ़े थे :-)

उस दिन संगीता पुरी जी की वह पोस्ट पढ़ रहा था जिसमें उन्होंने बुद्धिजीवी ब्लॉगर भाइयों को प्रभावित करने में बुध ग्रह के एक प्रभाव की बात करते एक लेख लिखा था। ज्योतिष की अधिकतर शब्दावली तो अपने पल्ले नहीं पड़ती। सीधा सीधा जो कुछ समझ पाया उससे यह चिंतन करने बैठ गया कि अपने […]
Continue reading…

 

क्या आप ब्लॉगरों की खुशियाँ साझा करने वाले इस नन्हे-मुन्ने को बधाई नहीं देंगे!?

यह न तो कोई पहेली है और न ही किसी तरह की प्रतियोगिता। इसके बावज़ूद मैं यह यह कहना चाहूँगा कि क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आज किसका जनमदिन है? मुझे मालूम है कि शायद ही कोई बता पाए सही सही उत्तर! भले ही आप इसे कितना भी चाह्ते हों या इसकी चर्चा […]
Continue reading…

 

बिना चेतावनी गूगल द्वारा बंद किए गए ब्लॉग: वर्षों की मेहनत स्वाहा

आज दोपहर जरा सी फुरसत मिली तो ईमेल्स देखने बैठ गया। पिछली ढ़ेरों ईमेल्स से गुजरते हुए जब मेल बॉक्स बंद कर ही रहा था कि इनबॉक्स में एक गूगल एलर्ट आ टपका। खबर दी गई थी कि गूगल ने अपने ब्लॉगर प्लेटफॉर्म ब्लॉगस्पॉट का उपयोग कर रहे कम से कम छह ब्लॉग बिना चेतावनी […]
Continue reading…

 

8 दिन, 29 पोस्ट, 6000 टिप्पणियाँ, 3700 फॉलोअर: कौन है यह ब्लॉगर

क्रिकेट में मेरी दिलचस्पी बहुत पहले ही खतम हो चुकी। शायद कपिलदेव के दिनों के बाद से। आजकल इतना घालमेल हो गया है कि कोई यदि पूछ भी ले कि स्कोर क्या है तो पलट कर हमें पूछना पड़ता है कि मैच कहाँ चल रहा है और कौन सी टीमें खेल रही है। क्रिकेट की […]
Continue reading…

 

अब पौधे भी अपना ब्लॉग लिखने लगे!

आज के समय का हिसाब देखा जाए तो ख़बर पुरानी हो चुकी है, फिर भी आईये एक पौधे से मिलिए जो कि अपना ब्लॉग लिखता है। एक जापानी इंटरनेट कैफे में लगा मिदोरी-सेन नामक एक पौधा नियमित रूप से इंटरनेट पर ब्लॉग लिख रहा है। मिदोरी–सेन नाम का यह पौधा लिखता है कि आज का […]
Continue reading…