धधकती आग में घिरी मारूति वैन से कूद कर जान बचाई हमने

चलती मारूति वैन में लगी आग के हादसे में अपनी जान बचाने वाला लोमहर्षक संस्मरण

Read More

वर्षों पुरानी तमन्ना पूरी हुई, गुरूद्वारों के शहर नांदेड़ में

पुलिस वालों के साथ कारों की दौड़ सरीखे फिल्मी अंदाज़ के बाद दूसरे ग्रह की सैर का आनंद लेने से वंचित हो हम परभनी शहर से रवाना हो 15 जुलाई की सुबह 8 बजे दाखिल हुए गुरूद्वारों का शहर कहलाते नांदेड़ शहर में। पिछले कई वर्षों से यह इच्छा मन में थी कि नांदेड़ के विश्व प्रसिद्ध (सचखंड) हुजूर साहिब गुरूद्वारे के दर्शन किए जाए। परिवार के सभी सदस्य यहाँ अपना शीश नवा चुके थे, केवल मैं ही बचा हुआ था। सबसे पहले हम पहुँचे यात्री निवास। जहाँ रजिस्टर में…

Read More

किसी दूसरे ग्रह की सैर करने से चूके हम!

उन पुलिस वालों के साथ कारों की दौड़ सरीखे फिल्मी अंदाज़ में रुमाल एक हाथ से दूसरे हाथ में लेते हुए मैं परभनी शहर में दाखिल हुआ। बमुश्किल साढ़े तीन बजे थे सुबह के। सामने ही दिखा एक पेट्रोल पम्प। पुलिस वालों की हिदायत पर हमें रूकना ही है और मारूति वैन में पेट्रोल भी डलवाना ज़रूरी लग रहा। वहाँ लिखा हुया था कि ‘पम्प 24 घंटे खुला रहता है’ लेकिन सब के सब टीवी पर फिल्म देखते हुए सो गए थे। मुझे हैरानी हुई अब उस काँच से बने…

Read More

आधी रात को पुलिस गश्ती जीप ने पीछा करते हुए दौड़ाया

सड़क मार्ग से महाराष्ट्र घूमने के बाद लौटते हुए ऐसा कुछ हुआ कि आधी रात पुलिस की जीप हमारा पीछा करती रही

Read More

नीरज गोस्वामी का सत्यानाश, Kshama की निराशा और शेरे-पंजाब में पैंट खींचती वो दोनों…

तीन ब्लॉगरों वाले परिवार में एक शाम बिताने के बाद 13 जुलाई की अलसुबह आँख लगी तो विवेक रस्तोगी जी से मुलाकात की योजना बन चुकी थी। लेकिन नींद खुली 11 बजे और उठते ही मामाजी के परिवार में कुछ अफ़रातफ़री का माहौल दिखा। बताया गया कि मामीजी के जो बड़े भाई सा’ब, जो एक गंभीर व्याधि से जूझते हुए मुलुंड के वोक्हार्ट अस्पताल में दाखिल थे, की तबीयत कुछ ज़्यादा ही बिगड़ गई है। वे सब वहीं जा रहे। मुझे निर्देश मिला कि उनके लौटने तक घर पर उपस्थित…

Read More

‘बिग बॉस’ से आमना-सामना, ममता जी की हड़बड़ाहट, आधी रात की माफ़ी और ‘जादू’गिरी हुई छू-मंतर

बिग बॉस धारावाहिक के बिग बॉस, विविध भारती के युनुस खान, ममता सिंह और जादू से हुई मुलाक़ात, मुंबई में

Read More

घुघूती बासूती जी से मुलाकात

11 जुलाई को मुम्बई की सड़कों पर 145 किलोमीटर घूमने के बाद अब बारी थी यथासंभव कुछ ब्लॉगरों से मिलने की। विवेक रस्तोगी जी, युनूस खान जी, घुघूती बासूती जी सूची में थे। Kshama जी से भी इरादा था मिलने का लेकिन पता चला कि वे मुम्बई में नहीं हैं। बताया किसी को नहीं क्योंकि कई बार बताने के बावज़ूद जा नहीं पाए थे सो झेंप लग रही थी। दोपहर को साढ़े बारह बजे हम पिता-पुत्री मौज़ूद थे कोपरखैरणे के इंदिरा गांधी कॉलेज के पास। पिछले दिनों अनिता कुमार जी…

Read More

लुढ़कती मारूति वैन और ये बदमाशी नहीं चलेगी, कहाँ हो डार्लिंग?

एक बार फिर गोवा की मशहूर वास्तविक रंगीनी देखने का इरादा लिए 10 जुलाई की रात मैं पहुँच गया वापस, खारघर, नवी मुम्बई में मामाजी के घर। 11 जुलाई को था रविवार। बिटिया ने पहले ही चेतावनी दे दी थी कि बहुत हो गया अब! रविवार को, दो बच्चों वाला ममेरे भाई का परिवार छुट्टी के मूड में रहता है सो उनके साथ मुम्बई का एक चक्कर लगाना ही है। सबसे पहले तो मारूति वैन की वो बैटरी लाई गई जिसे गोवा जाने के पहले चार्जिंग के लिए दिया गया…

Read More

सुनहरी बीयर, खूबसूरत चेहरे, मोटर साईकिल टैक्सियाँ और गोवा की रंगीनी

ब्रिटेन में जनमी-पली उस युवती की सहायता कर हम चल पड़े रात्रि विश्राम के लिए शहर की ओर। दूसरे दिन, 10 जुलाई को समुद्र-तट की ओर आना होगा कि नहीं, इस ख्याल को छोड़ हम ‘मार्केट’ इलाके में KTC बस स्टैण्ड के पहले ही उतर गए बस से। चमचमाती बहुमंजिला दुकानों व मल्टीप्लेक्स पर नज़रें डालते हुए जब हम पिता-पुत्री, मिडास टच बिल्डिंग स्थित, होटल एवेन्यू के पास पहुँचे तो पता चला कि प्रवेश का रास्ता तो दूसरी ओरहै! अंधेरे में आँखें अभ्यस्त हुईं तो पास ही की लम्बी-चौड़ी निर्माणाधीन…

Read More

बैतूल की गाड़ी, विश्व की पहली स्काई-बस, घर छोड़ आई पंजाबिन युवती और गोवा समुद्री तट

गोवा भ्रमण में मिले दिखे दिलचस्प नज़ारे

Read More

कोंकण रेल्वे की अविस्मरणीय यात्रा और रत्नागिरि के आम

कोंकण रेल्वे द्वारा संचालित रेलगाड़ी की सवारी करते गोवा पहुँचने का रोचक चित्रमय वर्णन

Read More

चूहों ने दिखाई अपनी ताकत भारत बंद के बाद, कच्छे भी दिखे बेहिसाब

घुघूती बासूती जी से मुलाकात की सोच रखी थी सतीश पंचम जी से मुलाकात के बाद। यह भी मन में था कि समय रहा तो विवेक रस्तोगी जी से भी मुलाकात कर ली जाए। लेकिन कहा जाता है ना कि जो सोचो वह कभी होता है क्या? उस सोमवार 5 जुलाई को जब तैयार होने लगा तो मामाजी का प्रश्न उछला -कहाँ की तैयारी है? मैंने बताया तो मुस्कुराते हुए उन्होंने कहा कि टीवी नहीं देखते ना इसलिए जानते नहीं हो कि आज तो भारत बंद है और यूँ अनजान…

Read More