हम तुम एक कमरे में बंद हों तो क्या क्या खो सकता है?

जब से हमारे सुपुत्र गुरुप्रीत एक जानलेवा सड़क दुर्घटना से सकुशल बचे हैं तब से वाहन चलाते हुए सभी सुरक्षित मानकों का पालन करते चलते हैं। इसके बावज़ूद पिछले दिनों ट्रैफ़िक पुलिस ने किसी कारण उन्हें ‘पकड़’ लिया। मेरे मोबाईल पर उसकी आवाज़ गूँजी कि क्या करूँ? मैंने झट से अपना आजमाया फार्मूला बता दिया कि गाड़ी भी ले लेने दो उनको और लाईसेंस भी रखने दो केवल पावती माँग लेना! शायद मेरा फार्मूला काम नहीं आया या उसने आजमाया नहीं लेकिन अपने काम निपटा कर वह घंटे भर बाद…

Read More