दुनिया के ब्लॉगरो, एक हो

अगर आप समझ रहे हैं कि मैं, दुनिया के ब्लॉगरों की कोई यूनियन बना रहा हूँ तो गलत हैं। वैसे गलती तो अधिकांश ब्लॉगर कर ही रहे हैं। इस गलती को देखकर अक्सर झुंझलाहट होती है, भले ही अनूप शुक्ल जी मासूमियत से पूछें कि गुस्सा क्यों आता है!? दो दिन पहले तो हद ही हो गयी। ब्लॉगरों के जनमदिन वाली पोस्ट के सिलसिले में एक साथी ने मुझे एक लिंक भेजी थी। उसे देखते ही माथा ठनका। उन जाने माने हिंदी ब्लॉगर ने अपने जनमदिन वाले दिन, सुबह-सुबह प्राप्त…

Read More