बधाई ब्लॉगरों को मिलनी चाहिए कि बंद होने जा रहे इस अनोखे ब्लॉग को!?

यह न तो किसी तरह की प्रतियोगिता है और न ही कोई पहेली! इसके बावज़ूद मैं यह यह कहना चाहूँगा कि क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आज ऐसी कौन सी खास बात हो रही है ? मुझे मालूम है कि भले ही आप इसे कितना भी चाह्ते हों या इसकी चर्चा करते हों किंतु शायद ही कोई बूझ पाए सही सही उत्तर! इसलिए अब बता ही देता हूँ कि आप सबके दुलारे हिन्दी ब्लॉगरों के जनमदिन ने 500 बधाईओं का आँकड़ा छू लिया है। 500वीं बधाई मिली है…

Read More

निकल पड़ा हूँ यात्रा पर, कहीं आपके शहर में तो नहीं पहुँच गया!?

आज यह लगभग एक तरह की माईक्रो-पोस्ट ही होगी। पिछले कुछ सप्ताहों से, सड़क मार्ग द्वारा, उत्तर-पश्चिम भारत भ्रमण की योजना बन रही थी। जिसमें जबलपुर – इलाहाबाद – लखनऊ – नैनीताल – दिल्ली – अमृतसर – जयपुर – अहमदाबाद – सूरत – मुम्बई – पूणे – नागपुर का मार्ग शामिल था। तैयारी थी 18 जून को प्रारंभ करने की। संबंधित शहरों के कुछ ब्लॉगर साथियों को सूचना भी थी। ऐन वक्त पर एक अनचाहा चिकित्सीय कार्य आ पड़ा। उससे पहले सलाहें मिल चुकी थीं कि बरसात के मौसम में…

Read More

ऑनलाईन फोरम www.blogmanch.com : चिंतन बैठक से निकला एक और निर्णय

दो सप्ताह पूर्व हिन्दी ब्लॉगरों की एक आकस्मिक चिंतन बैठक में सभी ने अपने अपने तरीके से ब्लॉग जगत की अच्छाईयों बुराईयों की जम कर चर्चा की थी। जहाँ एक ओर कथित गुटबाजी को चंद व्यक्तियों का शोशा ही माना गया तो इस विधा से बन रहे ई-रिश्तों की भूरि भूरि प्रशंसा भी हुई। दोपहर का भोजन सत्र देर से शुरू हुया, सो समाप्त होते होते अंधेरा घिर चुका था। बालकृष्ण अय्यर के अनुरोध को देखते हुए अनिल पुसदकर जब अप्रत्याशित रूप से भिलाई आ पहुँचे तो दोनों पुराने मित्रों…

Read More

रचना जी की चाहत, मेरी उलझन, आपकी भावनाएँ: क्या करूँ?

आज दोपहर नारी ब्लॉग की सूत्रधार व हिंदी ब्लॉगिंग की देन वाली रचना सिंह की ईमेल मुझे आई है। इस ईमेल में उन्होंने एक अप्रत्याशित आग्रह किया है, जिसे लेकर मैं दुविधा में पड़ गया हूँ। दरअसल रचना जी ने अपरिहार्य कारणों से, हिंदी ब्लॉगरों के जन्मदिन वाले ब्लॉग पर अपने जनमदिन की बधाईनुमा पोस्ट को हटा देने की इच्छा जताई है। मेरी दुविधा यह है कि संगीता पुरी, दिनेशराय द्विवेदी, डॉ. मनोज मिश्र, उड़न तश्तरी, रंजना (रंजू भाटिया), एम वर्मा, सैयद, सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी, सुरेश शर्मा (कार्टूनिस्ट), अनिल कान्त,…

Read More

हिंदी ब्लॉगरों के जनमदिन एक ही जगह मिल सकेंगे!

18 मार्च को अनिता कुमार जी के जनमदिन के पहले, 12 मार्च को लवली कुमारी का जनमदिन था। प्रशांत की एक पोस्ट के जरिये देर से पता चला। दिन भर किसी के भी द्वारा कोई शुभकामना संदेश न पाने की उनकी उदासी ने, मुझे कहीं छू लिया। ऐसे मौकों पर मुझमें बड़ा उत्साह रहता है। क्योंकि आजकल के सामाजिक परिवर्तन के दौर में, कम से कम, साल के एक दिन तो किसी को शुभकामनाये देने का मौका/ बहाना मिल पाता है। इसी उत्साह और लवली के शब्द पढ़ उन्हें, देर…

Read More