… और कंकड़ी पर पहाड़ गिर पड़ा!!!

मुझे रोजाना दसियों लिंक ईमेल में मिलते हैं जिसे पढ़ने का और फिर टिप्पणी करने का निवेदन/ आग्रह होता है। निश्चित तौर पर अधिकतर साथी यही चाहते होंगे कि उनकी बात ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचे। जब भी कोई नया ब्लॉग मिलता है एक बार अवश्य उस पर ध्यान देता हूँ और अपनी रुचि के अनुसार पाए जाने पर आगे भी पढ़े जाने हेतु सुरक्षित कर लेता हूँ। दिक्कत तब शुरू होती है जब किसी ब्लॉग की लिंक बार बार ई–मेल में मिलने लगती है। दो- तीन बार ढके…

Read More

ब्लॉगिंग को अब पुन: समय, इस नए वर्ष में

अरे! अभी अभी तो हैप्पी न्यू ईयर 2009 कहा था और इतनी जल्दी हैप्पी न्यू ईयर 2010 कहना पड़ रहा है!! और दो दिन पहले ही तो 21वीं सदी का स्वागत किया था हैप्पी मिलेनियम कह कर। इस बार तो सच में लगता है कि समय बड़ी तेजी से बीत गया। इस ब्लॉग जगत की बात की जाए तो नि:संदेह मेरे लिए ब्लॉगिंग का यह वर्ष बहुत आनंददायक रहा है। तमाम खट्टे मीठे अनुभव और नए मित्रों के साथ से जीवन के ढ़ंग, सोच व मानसिकता में उल्लेखनीय परिवर्तन महसूस…

Read More

ब्लॉग बुख़ार से पीड़ित हैं? अपना इलाज़ खुद कीजिए

बी एस पाबला द्वारा अपनी वेबसाईट पर, ब्लॉगिंग से संबंधित लेखों के लिए एक अलग श्रेणी, ब्लॉग बुख़ार बनाये जाने पर लिखी गई भूमिका

Read More