सोशल नेटवर्किंग के बाद, अब आया सोशल एक्सरे वाला चश्मा

बेशक आजकल इंटरनेट पर सोशल नेटवर्किंग का बोलबाला है लेकिन वास्तविक दुनिया में आने वाले किसी दिन कोई आपको अजीब सा रंगीन चश्मा पहन कर मिले तो ऊलजलूल बाते सोचना बंद कर दें, हो सकता है कि चश्मा पहनने वाला व्यक्ति आपके दिमाग को पढ़ ले। जी हां, ये कोई मजाक नहीं है, वास्तव में मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की मीडिया लैब में ऎसे चश्मों पर शोध किया जा रहा है, जो सामने वाले के हाव-भाव, संवेदनाओं को जान सकेंगे। फिलहाल इस चश्मे का नाम सोशल एक्सरे ग्लास दिया गया…

Read More

इंसान के अहसासों को समझ कर समाज का हिस्सा बनेंगे रोबोट

आईए विज्ञान का एक और अजूबा देखा जाये। आने वाले समय में हमारे सुख में हंसने, दुख में दिलासा देने वाले रोबॉट अब हकीकत बनने वाले हैं। यूरोपियन शोधकर्ता ऐसे रोबॉट विकसित कर रहे हैं जो हमारे अहसासों के साथ ताल-मेल बैठा सकें। इसके लिए खास तौर पर इनके तंत्रिका तंत्र पर काम किया जाएगा। (फीलिक्स का एक कॉपीराईटेड चित्र, साभार: FEELIX Gallery) इस अनोखे प्रॉजेक्ट का नाम ‘फीलिक्स ग्रोइंग‘ है। इसके तहत ऐसे रोबॉटों पर काम हो रहा है जो अपने आस-पास के इंसानों को देख कर, उनके शारीरिक…

Read More