गूगल की नई ‘सुविधा’ से परेशान हैं कई ब्लॉगर

ब्लॉगिंग के लिए ब्लॉगस्पॉट जैसा मुफ़्त मंच देने वाले गूगल ने अब धीरे धीरे पंख कतरने शुरू कर दिए हैं। हाल ही में उसने एक सुविधा शुरू की है जिससे दावा है कि ब्लॉग ज़ल्दी खुलने लगेंगे। इसे नाम दिया गया है आटो पेजीनेशन (Auto Pagination)। यदि मैं गलत नहीं हूँ तो इसे हिन्दी में कहा जाएगा स्वत: पृष्ठांकन! गूगल की यह सुविधा, इस अवलोकन के बाद आई है कि संबंधित लेबल वाली पोस्टों तथा पुरानी पोस्टों को खोलते समय ब्लॉग देर से लोड होता है। अब ब्लॉग देर से…

Read More

टिप्पणियों Comments के बदले बधाई व शुभकामनाएँ? ऐसा कैसे हो गया!!

टिप्पणियों से हालांकि आए दिन बवाल मचा रहता है, किन्तु टिप्पणियों के सम्पर्क में रहने हेतु कुछ व्यवहारिक व कुछ तकनीकी बातों से लाभ उठाने वाले पाठकों ने इसकी परवाह नहीं की है। इस बार जब मैंने हिन्दी ब्लॉगरों के जनमदिन वाले ब्लॉग का टेम्पलेट बदला तो ख्याल आया कि अलग अलग तरह के ब्लॉगों में कई बार रूखे-सूखे से दिखने वाले टिप्पणी लिंक को अपने मनमुताबिक शब्दों से बदलने की तकनीक के बारे में कई पाठकों ने जानना चाहा है। वैसे भी कई सप्ताह से पोस्ट नहीं लिख पाया…

Read More

टिप्पणियों के सम्पर्क में रहने हेतु कुछ व्यवहारिक बातें

हमेशा की तरह विभिन्न प्रकार के मुद्दों पर इन दिनों हिंदी ब्लॉग जगत में हलचल हो रही है। कई विवादित मुद्दे भी हैं। ऐसे ही एक मुद्दे वाली पोस्ट पर एक ब्लॉगर साथी द्वारा की गई टिप्पणी पर आ रही उत्तेजित प्रतिक्रियायों के बारे में, मैंने बात करनी चाही तो वह हैरान परेशान हो गया। उसका कहना था कि मैं तो टिप्पणी लिख कर आ गया था, अब बाद में क्या हुआ मुझे कुछ मालूम नहीं। वह पोस्ट कौन सी थी यह भी वह भूल चुका था! मुझसे उसने उस…

Read More

अपना मनचाहा टेम्पलेट खुद बनाएँ , कुछ ही क्लिक्स में

ब्लॉग जगत में विचरण करते हुए अक्सर ही ऐसे ब्लॉग दिख जाते हैं जिनका रंग-रूप देख कर मन खुश हो जाता है। फिर तलाश की जाती है कि वह टेम्पलेट मिलेगा कहाँ? मिल जाए तो दिल बल्लियों उछलता है। उपयोग कर लिया जाए तो फिर महसूस होता है कि फलां कॉलम नीचे होता तो कितना अच्छा था, फलां चित्र के बदले वो वाला चित्र होता तो बढ़िया रहता! आइए आज आपको बताया जाए कि अपना मनचाहा टेम्पलेट कैसे बनाया जाए। मनचाहा मतलब 2 कॉलम, 3 कॉलम, सबसे नीचे 3 कॉलम,…

Read More