अजय झा के स्नेह भरे शब्द और मेरा दिल्ली पहुंचना

पिछले महीने की एक शाम अजय कुमार झा जी से जीटाक पर बातचीत चल रही थी। किसी बात पर अजय जी ने बड़े स्नेह से कह दिया कि अब तो आपसे गले मिलने की तमन्ना है। मैं कुछ क्षण सोचता ही रह गया कि ब्लॉग जगत को आख़िर कब तक आभासी माना जाता रहेगा? बस उन्ही क्षणों में मैंने निश्चय कर लिया कि इस बार दिल्ली की यात्रा हिंदी ब्लॉग्गिंग के नाम पर की जाए।

कुछ ही मिनटों में मैंने रेल आरक्षण कर अजय जी को सूचित कर दिया कि मैं ख़ास आपसे मिलने के लिए दिल्ली पहुँच रहा हूँ, 13 नवम्बर की शाम को, दो-एक दिन रह कर लौट जाऊंगा।

बाद में जब बात फैलनी शुरू हुई तो अजय जी घबड़ाये कि अगर बाक़ी साथियों को पता चला तो उनकी टांग खिचाई होनी निश्चित है! तो उन्हों एक छोटा सा ब्लॉगर मिलन कार्यक्रम रख लिया 15 नवम्बर का।

दिनेश राय द्विवेदी जी संयोगवश इन्ही दिनों दिल्ली में हैं। सो, मैं और द्विवेदी जी इस कार्यक्रम में शामिल रहेंगे। कुछ दिल्ली के ब्लॉगर है, कुच्छेक ब्लागरों के उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा से आने की भी संभावना है।

आप भी यदि इच्छुक हों तो आपका इस अनौपचारिक कार्यक्रम में स्वागत है। पूर्व निर्धारित कुछ नहीं है। बस आपस में मिल बैठ कुछ समय बिताने की मंशा है।

कार्यक्रम कुछ ऐसा है:

दिन: रविवार 15 नवंबर 2009
समय: दिन के 11 बजे से शाम चार बजे तक
स्थान : GG’s FAST FOOD & BANQUET
Plot No. 14, Laxmi Nagar ,
District Centre ,Vikas Marg,
Delhi 110092

फोन: 424448803

सांकेतिक रूप में कार्यकम तक पहुँचने हेतु मानचित्र नीचे दिए गए हैं

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से लक्ष्मी डिस्ट्रिक सेंटर



View Larger Map

नोएडा से लक्ष्मी डिस्ट्रिक सेंटर



View Larger Map

गुडगाँव से लक्ष्मी डिस्ट्रिक सेंटर


View Larger Map

निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से लक्ष्मी डिस्ट्रिक सेंटर



View Larger Map

गाज़ियाबाद से लक्ष्मी डिस्ट्रिक सेंटर



View Larger Map

फरीदाबाद से लक्ष्मी डिस्ट्रिक सेंटर



View Larger Map

प्रगति मैदान से लक्ष्मी डिस्ट्रिक सेंटर


View Larger Map

कार्यक्रम में आपका स्वागत है
आपकी प्रतीक्षा रहेगी

ऐसी ही नयी पोस्ट अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

अपने मोबाईल फोन पर SMS के द्वारा ताजी पोस्ट की जानकारी प्राप्त करें

अजय झा के स्नेह भरे शब्द और मेरा दिल्ली पहुंचना
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

अजय झा के स्नेह भरे शब्द और मेरा दिल्ली पहुंचना” पर 13 टिप्पणियाँ

  1. ये अड्डा हमारे ऑफिस से लगा हुआ है। मैं तीन साल वहाँ रहा और अड्डाबाजी भी किया। अब पते नहीं था और न ब्लॉगबाजी शुरू किए थे लिहाजा झा जी से मुकालात नहीं हो पाई।
    जब आप मिलें तो झा जी को हमरी तरफ से एक ठो कसकी झप्पी दीजिएगा। बाकी सरदार तो आप है हीं ! हमरे गुरमीत सिंघ बौत दिन बाद मिलने पर झप्पी देते हवा में टांग दिया करते थे। साढ़े छ: फुट्टा जट्ट! हमरी जान सूख जाती थी। बहुत बाद में जाना कि ई तरीका सरदार मार्का प्रेम जताने का होता है।
    बाकी जुट गए बिलागरों को हमरी तरफ से राम राम कहिएगा। झप्पी तो आप देंगे ही।

  2. पावला जी बहुत बहुत बधाई रिपोर्ट का इन्तज़ार रहेगा।

  3. पावला जी बहुत अच्छा लगा, चलिये अब चित्रो की को रिपोर्ट की इंतजार है, शुभकामान्ये, सभी साथियो को नमस्कार

  4. कल की हसीं मुलाकात के लिए,
    आज रात के लिेए,
    हम तुम जुदा हो जाते हैं,
    अच्छा चलो सो जाते हैं…

    जय हिंद…

  5. आप सचमुच भाग्यशाली हैं!
    बधाई!

  6. रायपुर से वंहा का नक्शा मिल जाता तो………………… पाब्ला जी आपके साथ नही आ पाने का अफ़सोस है।

  7. पाबला जी .. अब तक तो यह मीट हो गई है बस अब हमे इंतज़ार है तस्वीरो का ।

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons