अरविन्द मिश्रा जी ने सुबह-सुबह किया ‘परेशान’ क्योंकि वह थे हैरान

आज सुबह आराम से उठने का मन था। रात को भी कुछ जल्दी सो गया। सात बजे नींद खुली तो अनवरत चलने वाले कम्प्यूटर पर सरसरी निगाह डालकर खिसकने लगा। लेकिन अरविन्द मिश्रा जी द्वारा भेजी गई एक ई-मेल दिखी तो ठिठका। मेल खुली तो उनके द्वारा मेरे मोबाईल बंद होने का उलाहना देते हुए एक अजीब सी बात बताई गई थी। मोबाईल वाकई में बंद पाया। कमबख्त रात को कब फर्श पर गिर कर बंद हो गया पता ही नहीं चला!

अरविन्द जी से संवाद-सम्पर्क हुआ तो उन्होंने बताया कि कल रात सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी जी की एक ब्लॉग पोस्ट पर उन्होंने कुछ टिप्पणियाँ कीं थी उसी क्रम में एक टिप्पणी पर कुछ विवाद की स्थिति बनी और फिर बात काफ़ी आगे बढ़ गई। अरविन्द जी का कहना था कि वह विवादास्पद टिप्पणी उनके द्वारा नहीं की गई थी। उन्होंने मेरी एक पोस्ट पढ़ी थी जिसमें मैंने अपने ई-मेल खाते को हैक कर लिए जाने की जानकारी दी थी। उसी आधार पर ख्याल था कि शायद उनका ईमेल भी किसी ने हैक कर लिया है। वे इसी मामले पर मुझसे बात करना चाह रहे थे।

मैंने जब उस पोस्ट पर कथित टिप्पणी पर निगाह डाली तो यह निश्चित हो गया कि वह टिप्पणी गूगल खाते में लॉगिन करके ही की गई है। अरविन्द मिश्रा जी ने फोन पर ही दिशा-निर्देशों का अनुसरण करते हुए यह ढूँढ निकाला कि 22 मई की संध्या लगभग 7 बजे अमेरिका में कैलिफ़ोर्निया के सैन जोस शहर से, Paycounter इंटरनेट सेवा प्रदत्त आई पी पते 64.255.164.13 द्वारा मोबाईल पर किसी ने लॉगिन किया था। उसी समय वह विवादास्पद टिप्पणी नमूदार हुई थी सत्यार्थमित्र ब्लॉग पर।

अरविन्द मिश्रा जी हैरान थे कि कैलीफोर्निया से उनकी आईडी हैक कर हिन्दी में टिप्पणी करने वाला कौन होगा। अब मैं भी चुप था। क्या कह सकता था? बस यही कह पाया कि अपना पासवर्ड तुरंत बदलें और उसमें a b c r t जैसे अक्षरों के साथ 2 4 7 8 अंक तथा # ^ * $ जैसे विशिष्ट चिन्हों का भी प्रयोग करें।

आप भी ऐसा ही करेंगे ना?
अरविन्द मिश्रा जी ने सुबह-सुबह किया ‘परेशान’ क्योंकि वह थे हैरान
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

अरविन्द मिश्रा जी ने सुबह-सुबह किया ‘परेशान’ क्योंकि वह थे हैरान” पर 15 टिप्पणियाँ

  1. हमको तो आपका एक सैनिक बाडीगार्ड भिजवा दिजिये.:)

    रामराम.

  2. सुबह सुबह क्लांत करने के लिए माफी चाहता हूँ -मगर ये मामला ही ऐसा था -मेरे होश उड़ गए थे ..पासवर्ड बदल दिया है ! अब देखते हैं !

  3. कई बार ऐसा होता है की आप अपने खाते में लॉगिन नहीं कर पाते लेकिन थोड़ी देर बाद यह संभव होता है . ऐसा क्यों ?

  4. मैंने तो पहले ही कहा था आपके दम पर ही हम जैसे लोग टिके हुए है !!

  5. अच्छी जानकारी दी….मेरा भी मेल आई डी हैक हुआ था…फिलहाल तो पास वर्ड बदल दिया है

  6. अच्छी जानकारी दी है.मेरा होट्मेल अकाउंट हेक हुआ था ,मुझे तब मालूम चला जब एक दिन अचानक मैं ने भेजे हुए सन्देश देखे–जहाँ वो सब इमेल दिखे थे जिन्हें मैं ने भेजे ही नहीं कभी.
    और वे सभी किसी अंग्रेजी साईट के विज्ञापन के प्रचार के लिए भेजे गए और भिन्न नामों से ..जितने मेरे संपर्क लिस्ट में पते थे सब को..
    ——–
    सब से पहले मैं ने संपर्क से सारे पते हटाये फिर पासवर्ड और पासवर्ड का सवाल बदला.
    —-फिलहाल उसके बाद कुछ ऐसा दिखा नहीं..लेकिन यह समस्या वाकई गंभीर है इन दिनों.

  7. I thin all Gmail users should use this facility of google to know their log in history-

    Activity on the account-
    This feature provides information about the last activity on this mail account and any concurrent activity.

  8. यह अन्तर्जाल तो सीधे और शरीफ़ लोगों की इज्जत पर डाका डालने वाला है…! राम बचाए।

  9. सर जी, कल से मेरे कम्प्यूटर पर ब्लॉगस्पॉट पर कोई ब्लॉग नहीं खुल पा रहा है। हां, वर्डप्रैस वाले ब्लॉग और जीमेल, याहू वगैरह सब चकाचक चल रहे हैं।
    इसका कोई सीधा, सरल उपाय है?
    इसके अलावा आपके ब्लाग पर मेरी लोकेशन आस्ट्रेलिया और ब्राऊज़र -ब्लैंक- दिखा रहा है, जबकि मेरी लोकेशन जगरांव, पंजाब है।

  10. @ मो सम कौन ?

    यह समस्या पड़ोसी देश से जुड़े राज्यों के आसपास से प्राप्त हो रही है तथा आपके (गैर-सरकारी) इंटरनेट प्रदाता द्वारा ही यह ब्लॉगर बंद किया हुया मिलता है। यह समस्या अलबेला खत्री जी, अजय कुमार झा और रविन्द्र गोयल जी को हो चुकी है देखिए
    http://albelakhatris.blogspot.com/2010/05/blog-post_22.html
    http://ravindra-goyal.blogspot.com/2010/05/blog-post_22.html
    किसी दूसरे इंटरनेट प्रदाता का उपयोग कर देखें सब ठीक मिलेगा

  11. हम तो आपकी घटना से ही डरे सहमे थे..तब तक अरविन्द जी का आई-डी हैक होना परेशान कर गया ! शुक्र है, आप हैं !

  12. i also faced the same problem last month, quickly changed the password. now it's fine since then.

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons