अरे! ये ऐश्वर्य मुझ पर इमोशनल अत्याचार क्यों कर रही!! कोई तो बचाये!

पिछले तीन दिन से परेशान हूँ। सबसे पहले तो ऐश्वर्य को ‘स्वयंवर 2000’ में लिलीपुट के साथ देखा था, मिस वर्ल्ड बनाये जाने के पहले। फिर देखा पत्रिकायों, फिल्मों में। सपने में तो कभी दिखी नहीं, असल में क्या दिखती? फिर दिखीं तो अपने पति के साथ। अब इतना सब कुछ हमने देखा तो पता नहीं, शायद उसे कोई गलतफहमी हो गयी कि मैं कितना शरीफ और सज्जन हूँ!

हालत यह है कि पिछले तीन दिन से जब भी Google Chrome पर अपना GMail खाता खोलता हूँ, ये सुँदरी एक किनारे से मुझे देखती रहती है। चाहे कोई संदेश compose करूँ, sent हुये संदेश देखूँ या draft पर जाऊँ। इनकी आँखे मुझ पर ही टिकी रहती हैं। विश्वास नहीं होता तो नीचे दिया वीडियो देखिये। यकीन मानिये इस मामले में तो मैं ईमानदार ही हूँ, यह कोई कलाकारी नहीं है। 


<

इस डर से कि किसी ने देख लिया तो सारी बेइज़्ज़ती खराब हो जायेगी, हमने तमाम उपाय कर लिए, cache पता नहीं कितनी बार साफ किया,  cookies हटा दी, temp फाईलों को ठिकाने लगाया, registery साफ कर दी, तमाम फ़्री के और तोड़े गये software दौड़ा दिये। पर नहीं, ये तो यहीं धरना देकर बैठी हैं।

मजे की बात है कि जब इसी computer पर तुरंत अपने बच्चों को Gmail पर लॉगिन करवाता हूँ तो पूरी screen मासूमियत से बिना किसी के नज़र आती है। मैं लॉगिन करूँ तो फिर वही निगाहें, पता नहीं क्या ढ़ूंढ़ती हैं!

और हाँ, जब अग्नि लोमड़ (Fire fox) पर सवार होता हूँ या बिल गेट्स की मेहनत से बना IE आजमाता हूँ तो इन्हें पता नहीं क्या हो जाता है।

कोई बताये भई, मुझ पर यह इमोशनल अत्याचार क्यों हो रहा है?

लेख का मूल्यांकन करें

अरे! ये ऐश्वर्य मुझ पर इमोशनल अत्याचार क्यों कर रही!! कोई तो बचाये!” पर 8 टिप्पणियाँ

  1. ब्लॉग पर बहुत विद्वान और धुरंधर लोग हैं कोई न कोई आपकी समस्या का निदान कर ही देगा…इंतज़ार कीजिये….
    नीरज

  2. लगे रहो पाब्ला जी। लगता है, आपके बारे मे खोज़-खबर लेने आना ही पड़ेगा।

  3. पाबला जी, दुसरी तरफ़ सलमान खान की फ़ोटू लगा दो , खुद ही भाग जाये गी..:)
    नही तो दस बारह कविता सुना दो…

    मुझे लगता है आप ने सपाम मेल खोल दी होगी,आप सब से पहले वीरुस भी चेक कर ले, ओर उस के बाद सेटिंग मे जा कर ध्यान से देखे, कही आप के चित्र की जगह यह फ़ाईल ना हो जो किसी वीरुस ने अपने आप खोल कर वहां लग दी हो, बेहतर होगा आप गुगल मेल की सेटिंक को बहुत ध्यान से देखे, यह असम्भव नही लेकिन थोडा कठिन जरुर है,

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ