आपके ब्लॉग के लिए, स्वतंत्रता दिवस पर एक अनूठा, राष्ट्रीय ध्वज विज़ेट

26 जनवरी 2013:
यह लेख, गूगल ब्लॉग प्लेटफार्म पर लगभग 4 वर्ष पहले 2009 को लिखा गया था. तब से अब तक बहुत से तकनीकी परिवर्तन हो चुके हैं. अब किन्हीं कारणों से यह विजेट अपेक्षानुसार कार्य नहीं कर रहा जिसे ज़ल्द ही ठीक किए जाने की कोशिश करता हूँ. असुविधा के लिए खेद है. 🙂

आप सभी ने जिस तरह ब्लॉग बुखार को हाथों हाथ ले कर सराहा है, उससे मैं अभिभूत हूँ। आप की अपेक्षायों पर खरा उतर पाऊँ, यह प्रयास रहेगा मेरा।

भारत के स्वतंत्रता दिवस की वर्षगांठ चंद दिन ही दूर रह गई है। स्वतंत्रता दिवस की एक और वर्षगांठ की कल्पना कर मन प्रफुल्लित हो रहा है। याद करने का समय आया है राष्ट्रभक्त आजादी के दीवानों की कुर्बानियां, उनके द्वारा संजोये गए देश के स्वरुप की वो कल्पना, जिसके मूर्त रूप लेने में अभी भी वक्त लगेगा।
सांसद नवीन जिंदल के प्रयासों व सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के फलस्वरूप भारत के नागरिक को यह अधिकार मिल गया है कि वह सम्मानपूर्वक, अपने देश के गौरव, राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को अपने चाहे गए स्थान पर फहरा सके, प्रदर्शित कर सके।

 



 

 

 

 

 

 

 

 

इस मौके पर हिंदी ब्लॉगिंग की दुनिया में आज आपको एक अनूठे विजेट से परिचित करवा रहा हूँ। तिरंगे झंडे को फहराता हुआ दिखाने वाले इस विजेट को अपने ब्लॉग/ वेबसाईट पर लगाये जाने पर, जैसे ही आपका ब्लॉग खुलेगा आगंतुक को, 15 अगस्त से एक सप्ताह पहले से, प्रख्यात गायिका लता मंगेशकार के गाये गीत “ऐ मेरे वतन के लोगों … जरा आँख में भर लो पानी…” की चार पंक्तियाँ सुनाई पड़ेंगी, जो कुल 25 सेकेंड की हैं। पंक्तियाँ समाप्त होने के बाद भी ध्वज फहराता रहेगा। पुन: वह पंक्तियाँ तभी सुनाई पड़ेंगी, जब उस पृष्ठ को रिफ्रेश किया जायेगा या किसी दूसरे पृष्ठ पर जाना होगा।
प्रयोग के तौर पर इस विजेट से 15 अगस्त के बाद गीत की पंक्तियाँ नहीं सुनाई पड़ेंगी, किन्तु ध्वज अपनी शान से फहराता ही रहेगा। गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी के कुछ दिन पहले इस विजेट से, कुछ सेकेंड के लिए “विजयी विश्व तिरंगा प्यारा … झण्डा ऊँचा रहे हमारा …” की स्वर लहरियाँ गूजेंगी, जिन्हें 26 जनवरी के बाद नहीं सुना जा सकेगा।
इस प्रायोगिक प्रक्रिया के दौरान आपको कुछ भी नहीं करना है। यदि यह विजेट आप अपने ब्लॉग पर लगाये रखते हैं तो यह स्वर लहरियाँ, उद्घोष का बजना, बंद होना अपने आप ही कार्य करेगा।
तो देर किस बात की! अपनी देशभक्ति के ज़ज़्बे को अपने दिल के साथ अपने ब्लॉग पर भी जगह दें। नीचे दिए गए बटन पर क्लिक करें, अगले खुले पृष्ठ पर ADD WIDGET क्लिक कर विजेट को अपने ब्लॉग में शामिल कर, सम्मानजनक स्थान पर दर्शाएँ

 



 

 

 

 

 

 

 

यदि किसी वेबसाईट पर यह विजेट लगाना हो तो नीचे दिये गये HTML की नकल ले कर, एक सम्मानजनक स्थान पर प्रदर्शित करें


कैसा लगा यह विजेट, बताईयेगा। कोई सुझाव हों तो भी बेहिचक स्वागत है आपके विचारों का।
26 जनवरी 2013:
यह लेख, गूगल ब्लॉग प्लेटफार्म पर लगभग 4 वर्ष पहले 2009 को लिखा गया था. तब से अब तक बहुत से तकनीकी परिवर्तन हो चुके हैं. अब किन्हीं कारणों से यह विजेट अपेक्षानुसार कार्य नहीं कर रहा जिसे ज़ल्द ही ठीक किए जाने की कोशिश करता हूँ. असुविधा के लिए खेद है.
लेख का मूल्यांकन करें

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ