आपातकालीन परिस्थितियों के दौरान भी फोन और इंटरनेट द्वारा बाकी दुनिया से जुड़े रहिये

दुर्घटनाएँ होती रही हैं और आगे भी होती रहेंगी. हम दुर्घटनाओं को होने से रोक नहीं सकते परन्तु दुर्घटना के समय राहत और बचाव कार्यों को सुचारू रूप से अंजाम देना हमारे हाथ में है. दुर्घटना के समय कम से कम जानहानि हो इसके लिए जरूरी है कि आम लोग तथा बचाव दल आपस में हर समय जुड़े रहें तथा सूचनाओं का आदान प्रदान अच्छी गति से जारी रहे. यह सम्भव हो सकता है मोबाइल और इंटरनेट संचार माध्यमों की मदद से. लेकिन होता यह है कि जब भी कोई बड़ी दुर्घटना होती है यही दोनों माध्यम काम करना बंद कर देते हैं. भूकंप, सुनामी, बम धमाका, विमान का गिरना आदि दुर्घटनाओं के समय मोबाइल सम्पर्क का कट जाना आम बात है.

इस स्थिति से निपटने के लिए अब यूरोप के संशोधकों ने एक नई तकनीक विकसित की है. इस तकनीक की मदद से गम्भीर से गम्भीर दुर्घटना के दौरान भी बचावकर्मी अपने फोन और इंटरनेट के माध्यम से बाकी दुनिया से जुड़े रह पाएंगे.

(तकनीक का खाका बताता एक चित्र, जिसे क्लिक कर वृहद रूप में देखा जा सकता है)
DeHiGate (Deployable High Capacity Gateway for Emergency Services) नामक इस तकनीक मे एक विशेष राउटर और एक विशेष कमांड वेहिकल का इस्तेमाल किया जाता है. यह राउटर उस कमांड वाहन को किसी भी उपलब्ध तार-विहीन इंटरनेट सम्पर्क का इस्तेमाल करने की शक्ति प्रदान करता है. यहाँ तक कि उपग्रह सम्पर्क भी स्थापित किए जा सकते हैं. राउटर अपने तंत्र पर उपलब्ध बैंडविथ की गणना करता रहता है और उसमें कमी दिखाई देने पर दूसरे नेटवर्क पर चला जाता है या फिर सीधे उपग्रहों से सम्पर्क स्थापित कर लेता है. स्थानीय नेटवर्क को आपस में जुड़ा हुआ रखने के लिए शहर भर के खम्बों आदि जगहों पर नोड लगाए जाते हैं जो बैटरी से चलते हैं. इससे मोबाइल स्थानीय नेटवर्क भी बन जाता है.

इससे होता यह है कि बचाव कार्यों में लगे सुरक्षाकर्मी एक पल के लिए भी नेटवर्क से बाहर नहीं जाते. बचावकर्मी जीपीएस के माध्यम से अपनी व साथियों की भौगोलिक उपस्थिति जान पाते हैं. वे अपना खुद का स्थानीय नेटवर्क भी स्थापित कर पाते हैं. इससे ध्वस्त हो चुकी इमारत में फंसे लोगों तक पहुँचना आसान हो जाता है क्योंकि फंसे हुए लोग अपने मोबाइल के माध्यम से बाकी दुनिया से जुड़े रहते हैं.

यह तकनीक फ्रांस की कम्पनी थालेस ने विकसित की है. कुछ सम्बंधित बातें यहाँ पढ़ी जा सकती हैं.

आपातकालीन परिस्थितियों के दौरान भी फोन और इंटरनेट द्वारा बाकी दुनिया से जुड़े रहिये
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

आपातकालीन परिस्थितियों के दौरान भी फोन और इंटरनेट द्वारा बाकी दुनिया से जुड़े रहिये” पर 14 टिप्पणियाँ

  1. अच्छी तकनीक है, आशा है सस्ती रहेगी व दुनिया भ्रर में प्रयोग के लिए उपलब्ध होगी.

  2. बहुत अच्‍छी खोज है .. अपने संबंधियों का हालचाल न मिलने से आपातकालीन परिस्थिति में होनेवाली अफरा तफरी से भी इससे राहत मिलेगी !!

  3. बिलकुल सही कहा जी आप ने, ओर काजल कुमार जी की बात से सहमत हुं कि यह तकनीकी बहुत सस्ती है, शुरु मै मंहगी थी, लोग कम जुडे थे अब बहुत सस्ती भी है

  4. आपातकाल में सेवा की उपलब्धता का मूल्य आँका नहीं जा सकता।

  5. यह समस्त मानवता के हित में बहुत अच्छी बात है ।

  6. प्रशंसनीय………लेखन के लिए बधाई।
    आपात कालीन परिस्थिति में होनेवाली अफरा तफरी में
    इससे राहत मिलेगी!
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

  7. हे भगवान! 'कोई उलझन है?' पूछ कर इतने लोगो के मन की जान ली.जवाब एक को नही दिया.कितने भोले हो!
    मेरा एक प्रश्न -'मुझे पलक झपकते ही अपने वीरजी के पास जाना है.चुपके से घर का सारा काम करके,खाना बना के,ढक के वापस घर आ जाऊं.मेरा वीर घर आये और चौंक जाए.धीरे धीरे आदि हो जायेगा.जिस दिन घर बिखरा मिलेगा,खाना भी नही बना होगा.पलक झपकते आएगा.माथे पर हाथ लगा कर कहेगा-'ओहो! मेरी नानी बीमार हो गई.चलो खाना पेक कर लेता हूँ.डोली! पुत्तर जल्दी खाना पेक कर दे.तीस सेकंड में मुझे वापस घर पहुंचना है.पापाजी को अकेले छोड़ कर

  8. Bahut acchi jankari mili aapki post padhkar….is tarah ki technology bahut kuch bacahya ja sakega aapda ke samay mein!!!

  9. बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने,
    आभार.

  10. पावला जी कितने दुःख की बात है मुझे बेटे की मौत कस पता ही नहीं चला शायद जिन दिनों ब्लॉग पर काम ठप कर दिया था। अपने जवान बेटे की याद आ गयी। भगवान् आपके बेटे की आत्मा को शान्ति दे। धन्य है आपका साहससाहस और हमारा भी।

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons