इंटरनेट एक्स्प्लोरर का इस्तेमाल करने वाल़े बुद्धिमान नहीं होते!!

लो भई अब चाहे कोई इसेअपनीबेइज्जतीमाने या गप्पबाजी कह हवा में उड़ा दे! लेकिन यह बात अब आधिकारिक तौर पर स्थापित हो गई है कि इंटरनेटएक्स्प्लोररकाउपयोगकरने वाल़े मूर्ख होते हैं! ओह! गलती हो गई तकनीकी भाषा में कहना चाहिए कि उनका IQ कम होता है।

browser iq chart

पहले तो मैं भी हैरान हुआ लेकिन एकलाखसेभीअधिकव्यक्तियोंपरचारसप्ताहतककिएगएप्रयोग दर्शाते हैं कि जो लोग इंटरनेट एक्स्प्लोरर का उपयोग करते हैं उनकी बुद्धिमत्ता का पैमाना निष्कृष्ट रहा। कोढ़ में खाज वाली तर्ज पर यह भी इसी रिपोर्ट से उजागर हुआ कि इंटरनेट एक्स्प्लोरर कासंस्करणजितनानीचेहोते गया, बुद्धिमत्ताकास्तरभीवैसेहीनीचे गिरता गया!! फायरफोक्स, गूगल क्रोम, सफारी वालों का प्रदर्शनठीकही रहा जबकि ओपेरा, कैमिनो (माइक के लिए) आदि का प्रयोग करने वाल़े बुद्धिमत्ताकाउच्चस्तर छू रहे थे।

browser-iq-use

यह जांच-परीक्षण प्रत्येक व्यक्ति से साक्षात किया गया था और केवल आमंत्रितलोगहीशामिलथे इसमें। अब अगर आपका इरादाहोरहाइनशोधकर्ताओंकोगलतसिद्धकरनेकातो अपने आप को प्रस्तुत करें और निमंत्रण का इंतज़ार करें या फिर जेब खाली कीजिए शामिल होने के लिए, हजारों रूपयों के साथ। याद रखिए कि ‘वे’ पहले ही कह चुके हैं कि इंटरनेट एक्स्प्लोरर का इस्तेमाल करने वाल़े बुद्धिमान नहीं होते।

कोई शक है तो उनकी रिपोर्ट देख लीजिए (6 पन्नों में पी डी एफ)

अब कुछ तो आप कहिए!

इंटरनेट एक्स्प्लोरर का इस्तेमाल करने वाल़े बुद्धिमान नहीं होते!!
3 (60%) 3 votes
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

इंटरनेट एक्स्प्लोरर का इस्तेमाल करने वाल़े बुद्धिमान नहीं होते!!” पर 25 टिप्पणियाँ

  1. बिल्कुल सही रपट है, पहला उदाहरण है भारत सरकार की वेबसाईटें जो कि इंटरनेट एक्सप्लोरर में ही अच्छी चलती हैं, सबसे बड़ा उदाहरण है इन्कमटैक्सईफ़ाईलिंग और पासपोर्ट ।

  2. सही कहा है आपने।
    हमारा भी अनुभव यही है।
    हम तो क्रोम यूज़ करते हैं अब।

  3. सुपररिन की खरीदारी में ही समझदारी है। जो पीसी से करे प्यार,फ़ायरफ़ाक्स,क्रोम,सफ़ारी से कैसे करे इंकार। :))

  4. सत श्री अकाल! जी,
    बहुत अच्छा आलेख है. आपके लेखों से काफी जानकारी मिलती है. मगर एक शिकायत है मुझे बुज्ज़ पर लेख आज ही मिल गया है और मुझे मेरी ईमेल पर यह लेख कल मिलेगा.ऐसा क्यों होता है. कृपया कोई ऐसी वेबसाइट या लिंक है. जहाँ पर अपनी निजी समस्याओं के आने वाली ईमेल और डाक से आने वाले दस्तावेजों को स्कैन करके उस पर डाल दूँ और उसका हिंदी में अनुवाद हो जाए. मेरी अंग्रेजी बहुत कमजोर है. मेरी समस्या से आप भली भांति परिचित है.मुझे सरकारी दस्तावेजों को पढ़ने में बहुत परेशानी होती है. इससे पुलिस और अदालत आदि में अपना पक्ष नहीं रख पाता हूँ. अब जैसे इस पोस्ट के साथ अटैच छह पेज है.अगर इनको पढ़ना चाहता हूँ. तब क्या किया जा सकता है?

  5. नेटस्केप नैविगेटर प्रयोग कर चुके लोगों के बारे में क्या?

  6. नेटस्केप नैविगेटर प्रयोग कर चुके लोगों के बारे में क्या?

  7. hm bhi moorkh the kintu ab buddhimano ki biradari me shamil ho gye hain ha ha ha padm ne chrom aur firefox ka yuz krna sikha diya .aap opera aur camino ka.
    'de daataa ke naam tujh ko allah rkhe'.ha ha

  8. मैं एक्‍स्‍प्‍लोरर इस्‍तेमाल नहीं करता, लेकिन अपवाद की कमी नहीं होगी और काबुल में गदहे तो पाये ही जाते हैं.

  9. चलो हमे भी कुछ राहत मिली कि आई क्यू हम मे है। फायरफाक्स, क्रोम यूज़ करते हैंआभार।

  10. @ Smart Indian – स्मार्ट इंडियन जी

    नेटस्केप की खूब याद दिलाई आपने
    पिछले दशक के शुरूआती वर्षों में हमने भी खूब मजा लूटा इसका

  11. इसका कोई कारण भी तो होगा ।
    मैं भी सोचूं कि जब एक्स्प्लोरर यूज कर रहा था तो ब्लॉगजगत का कुछ समझ क्यों नहीं आता था । 🙂

  12. IQ का तो नहीं पता…पर एक्स्प्लोरर स्लो लगता है..इसलिए काफी पहले ही स्विच ओवर कर लिया…

  13. वाह …हम तो फायर फोक्स या क्रोम यूज करते हैं , मतलब बुद्धिमानी का सर्टिफिकेट मिल गया !

  14. Hi I really liked your blog.
    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner of our website and the content shared by different writers and poets.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on ojaswi_kaushal@catchmypost.com

  15. हमारी क्म्पनी मे डी ऎम एस तो सिर्फ़ इंटरनेट एक्सप्लोरर पर ही चलता है .

  16. एकदम सही रिपोर्ट है. अभी बिटिया के लिए ऑनलाइन काउंसिलिंग के लिए एमपी ऑनलाइन नामक सरकारी वेब साइट को एक्सेस कर रहा था तो मेरे डिफ़ॉल्ट ब्राउज़र ऑपेरा में खुला ही नहीं और पॉप अप स्क्रीन में बताया गया कि आप इंटरनेट एक्सप्लोरर का इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं – इस साइट का प्रयोग करने के लिए इंटरनेट एक्सप्लोरर का प्रयोग जरूरी है!
    हद है! क्या इस ब्राउज़र ने घूस दे रखी है कि भई, बाकी दूसरों को ब्लॉक करो ताकि अपनी दुकानदारी चलती रहे!
    चेतावनी देना अलग बात है कि यह इंटरनेट एक्सप्लोरर में ठीक चलेगा, परंतु दूसरे अन्य ब्राउजरों में किसी सरकारी साइट को पूरी तर ब्लॉक करना कहाँ की अकलमंदी है?

  17. That's why I never use IE. I use Mozilla Firefox for daily use. Chrome sometimes, and Opera for slower connection.

  18. अपनी अपनी दुकानदारी चलाने के नुस्‍खे हैं और कुछ नहीं।

  19. मैं एक्‍स्‍प्‍लोरर इस्‍तेमाल नहीं करता फायरफाक्स यूज़ करता हूँ
    बहुत अच्छा आलेख है

  20. बुद्धिमानी का ठप्पा लगा ही दिया…क्रोम वाली लिस्ट में हम भी हैं जी….
    बहुत बढ़िया…

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons