इंसानों जैसा दिमाग रख कर ठगी करने वाला शातिर वायरस

अभी तक तो मैं पढ़ते सुनते आया हूँ कि एक ठग ने कैसे किसी को सम्मोहित कर किसी इनसान से उसके हजारों लाखों रूपये हड़प लिए या फिर आधुनिक युग में बैंक में सेंधमारी करने वाले कैसे सीसीटीवी कैमरे बंद कर डाका डाल लेते हैं।

लेकिन मानव मशीन की जंग में इस बार एक दबंग कंप्यूटर वायरस के किस्से पता चले तो मैं हैरान हुआ बिना नहीं रहा सका। साइबर जगत में सक्रिय अपराधियों ने एक ऐसा अनोखा कम्प्यूटर वायरस बनाया है जो बिलकुल इक इंसान जैसे न सिर्फ आपके खाते से धन चुराता है, बल्कि भुक्तभोगी की आँखों में धूल डालने की कोशिश में यह झूठा यकीन भी दिला देता है कि आपकी राशि पहले की तरह बरकरार है। जब तक सच्चाई का पता चलता है तब तक तो बहुत देर हो चुकी रहती है।

credit card fraud

अगर आप धड़ल्ले से इंटरनेट बैंकिंग सुविधा का इस्तेमाल करते हैं, तो अब आपको काफी सतर्क रहने की जरूरत है। मैं बात कर रहा हूँ एक बेहद शातिर वायरस की जिसे स्पाईआई का नाम दिया गया है। जिस कम्प्यूटर पर यह मौजूद हो वहाँ यह पहले तो ऑनलाइन बैंकिंग का पासवर्ड या क्रेडिट कार्ड की जानकारी चुराता है फिर पैसे निकालता है, खरीदारी करता है। लेकिन इसके बाद शुरू होता है इसका कमाल! जब खाताधारक अपना बैलेंस जांचता है तो यह धूर्तों की तरह अपने निकाले गए धन को या की गई खरीदारी को छुपाते हुए नकली स्टेटमेंट दिखा देता है। बन्दा सोचता है कि सब ठीक है जबकि वह लुट चुका रहता है। उसे तब पता चलता है जब वह किसी एटीएम, अपने बैंक काऊंटर या बिना वायरस की चपेट में आए कम्प्यूटर पर अपना खाता देखता है।

‘SpyEye’ नाम के ट्रॉजन हॉर्स वायरस के इस नए संस्करण को अमेरिका और ब्रिटेन में देखा गया है। ‘Trusteer नाम की एक सुरक्षा कंपनी ने इस तरह के हमलों का पता लगाया है। कंपनी ने बताया है कि यह वायरस आपके खाते के पासवर्ड को चुरा लेता है और जब आप अपने खाते का इस्तेमाल करते हैं तो आपको भुलावे में रखता है।

इस कंपनी का कहना है:

“The next time the victim visits their online banking site, the malware hides the fraudulent transactions, as well as artificially changing the total balance. As a result, the deceived customer has no idea that their account has been ‘taken over’, nor that any fraudulent transactions have taken place.”


(गहन जिज्ञासुयों के लिए स्पाईआई संबंधित एक वीडियो )

विशेषज्ञों का कहना है कि इससे बचने के लिए इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने वाले लोगों को यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि उनके वेब ब्राउजर बिलकुल अपडेट है और  ‘एंटी फिशिंग’ विकल्प सक्रिय है।

अरे! क्या सोच रहे?

लेख का मूल्यांकन करें

25 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
[+] Zaazu Emoticons Zaazu.com