एक ब्लॉगर को खामोश करने के लिए जबर्दस्त सायबर हमला, दुनिया भर में हाहाकार

कल, 7-8 अगस्त की रात भर सो नहीं पाया। ईमेल, ज़ीटाक, स्कायप, याहू मैसेंजर के अलावा मोबाईल पर SMS और कॉल्स के द्वारा, भारत के लगभग हर हिस्से से, ढ़ेरों SOS संदेश मिले। समस्याएँ अनेक थीं। -मेरा ब्लॉग नहीं खुल रहा/ किसी का ब्लॉग नहीं खुल रहा। ट्विटर नहीं खुलता, यूट्यूब नहीं काम करता, गूगल का कुछ अजीब सा लिखा हुआ आता है।

मुझे सब कुछ ठीक मिल रहा था। कहीं कोई गड़बड़ नहीं। लेकिन मुझसे सम्पर्क करने वाले कुछ भी देख नहीं पा रहे थे।

दिन में ही ट्विटर व फेसबुक पर हुए Denial of Service हमले के बाद गूगल की कुछ सेवायों में व्यवधान की खबरें मिलीं थी। बाद में हालात कुछ सुधरे लेकिन ब्लैकबेरी उपभोक्ता अभी भी असहाय हैं।

हमले का संभावित स्त्रोत रूस को बताया जा रहा है। जानकार इस हमले का मकसद ट्विटर की तबाही बताते हैं।

लेकिन अब तक यह स्पष्ट हो चुका है यह जबरद्स्त हमला सिर्फ एक (राजनैतिक) ब्लॉगर को खामोश करने के लिए किया गया जिसका खाता जी-मेल, ट्विटर, फेसबूक, यू-ट्यूब व लाइवजनरल पर है। यह इकलौता ब्लॉगर जॉर्जिया से है।

रात को सम्पर्क करने वाले यह भी जानना चाहते थे कि पता चले यह Denial of Service होता क्या है? यह काम कैसे करता है, ये हमले क्यों होते हैं, ऐसे हमलों से अपने कम्प्यूटर को कैसे बचाएँ,

रात भर साथियों के कम्प्यूटर को सुरक्षित बनाते, ब्लॉग का सुरक्षित बैक-अप लेने की आसान सी तरकीब समझाते-बताते अब सुबह होने आई तो सोने का मौका मिला है।

देखिए उठना कब हो पाता है।

जाते जाते, अपडेट मिले हैं कि

अपना कम्प्यूटर सुरक्षित रखिए। क्या पता आप अनजाने में इस सायबर हमले के सहयोगी सैनिक बन जाएँ।

एक ब्लॉगर को खामोश करने के लिए जबर्दस्त सायबर हमला, दुनिया भर में हाहाकार
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

एक ब्लॉगर को खामोश करने के लिए जबर्दस्त सायबर हमला, दुनिया भर में हाहाकार” पर 13 टिप्पणियाँ

  1. सुरक्षित करने और बैक अप लेने के कुछ आसान उपाय यहाँ भी आम ब्लॉगर हिताय बता दें, तो ठीक रहेगा अगले हमले के पहले.

  2. प्रभू हमले से रक्षा करने के उपाय तो बता देते ..

  3. 'राजनैतिक!' जरूर मायावती का किया धरा हो्गा …… (हा हा)

    भाई साहब कल रात को मैं जब ब्‍लागर्स इन ड्राफ्ट में पोस्‍ट लिख रहा था तो पोस्‍ट राइटिंग के सभी फीचर काम नहीं कर रहे थे सिर्फ एचटीएमएल टैग काम कर रहा था, कम्‍पोज तो बिल्‍कुल भी नहीं, आज सुबह तक वो समस्‍या बरकरार है तब हमने ब्‍लागर से पोस्‍ट किया. क्‍या यह भी उसी हमले के कारण तो नहीं हुआ.

  4. मेरे यहाँ रात 12.30 तक सब कुछ ठीक था। यह सब इस के बाद हुआ होगा। पर है यह खतरनाक चीज। पूरी रिपोर्ट जानने की इच्छा है।

  5. ओह्हो ..पाबला जी .तो कल क्या मेरे ब्लॉग पर यही हो रहा था ..चलिए अच्छा हुआ आपने बता दिया..

  6. हम पर हमला सम्भावित तो नहीं; पर बैकअप जुगाड़ में रुचि जरूर है।

  7. मुझे तो ये खबर पढ़कर अच्छा लगा…आह कभी तो अकेले होने का मौक़ा मिले. मैं तो आज भी अक्सर मोबाइल दूर छोड़ कर चले जाना पसंद करता हूं.

  8. हमला तो हमला है, कभी भी हो सकता है, कहीं भी वायरस छोडा जा सकता है- सावधान रहने की आवश्यकता है। सूचना के लिए आभार पाबलाजी।


  9. अच्छा जी, तो यह आप नहीं थे.. ?
    मैं उस वक्त आपके पोस्ट अनुसार GMail में बर्गलर एलार्म लगा रहा था, फिर विडीयो शिडियो दिखना बन्द !
    बड्डा बड्डा सारी लिख कर आगया.. एक बार दो बार तीन बार..
    फिर चारा क्या था, मैं अपने कम्प्यूटर जी को साड़ी ओढ़ा कर सो गया ।
    शायद वह यही चाह रहे थे, क्योंकि सुबह देखा तो खिले खिले स्वागतम बघार रहे थे..
    लो जी, हो गयी तसल्ली कि, यह आप नहीं थे.. !

  10. ओह मुझे तो ऐसी किसी समस्या का ज्ञात नहीं था | बताने का बहुत बहुत शुक्रिया पर अब बचाव कैसे हो!!

  11. ham bhi to the aapko pareshan karne me.. 2.30 baje tak pareshan karke so gaye the aur aap jage rah gaye.. 😀

  12. पाबला जी को नमस्कार
    आपके कंप्यूटर की तकनीकी जानकारी
    अच्छी बात है पर ऐसा लगता है कि यदि गुरु बाजू में
    न बैठा हो तो जल्दी भेजे में नहीं घुस रहा.
    और सर उस दिन कि एकाध हमारी तस्वीर
    सुरक्षित हो तो suryakant.gupta256@mail.com par
    भेजने कि कृपा करेंगे.

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons