एडसेंस खाता (Google Adsense Account) बंद क्यों कर देता है गूगल!?

आईये आज बात की जाये उनकी , जिनका गूगल एडसेंस खाता (Google Adsense Account), गूगल ने ही बंद कर दिया है। गूगल सर्च से आमदनी संबंधित पिछली पोस्ट के बाद से ही दसियों ईमेल आ चुकी हैं कि गूगल ने एकाऊँट डिसेबल कर दिया है बंद क्या करें? सीधा सा ज़वाब यह है कि कुछ नहीं हो सकता

लेकिन यदि आप धैर्य रख सकते हैं तो कुछ उपाय हैं, लेकिन सबसे पहले यह विचार कीजिए कि खाता बंद क्यों कर दिया गया?  शुरूआती दौर को याद किया जाये तो हमारे सुपुत्र का भी चेहरा उतरा हुया था,  जिस दिन खाता बंद होने की सूचना ईमेल से मिली थी।

लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी क्योंकि वह जानता था कि उसने गूगल एडसेंस (Google Adsense) के नियम व शर्तों के साथ-साथ दो सुनहरे नियमों का भी पालनकिया था। दो सुनहरे नियम? ये क्या होते हैं? दिल पर हाथ रख लीजिए, बल्कि पत्थर ही रख लीजिए 🙂

ये दो सुनहरे नियम हैं:

  1. स्वयं अपने गूगल एडसेंस विज्ञापनों पर क्लिक न करें
  2. अपने किसी साथी/ परिचित/ संबंधी/ पड़ोसी/ दुश्मन आदि को न बतायें कि आपको, किसी के द्वारा ‘वहाँ’ क्लिक किए जाने पर, आमदनी होती है!

लो कर लो बात! पहला नियम तो समझ में आता है कि खुद क्लिक करते रहेंगे तो कूकीज़ व आई पी पते जैसी अत्यंत सामान्य प्रक्रियायों के कारण गूगल की बुद्धिमान प्रणाली बस चुटकी बजाते ही आपके खाते पर ताला लगा देगी। लेकिन दूसरा नियम? भई जब तक हम बतायेंगे नहीं किसी को, तो क्लिक कौन करेगा?

 

adsense-incomeइन दोनों नियमों में मानवीय स्वभाव व उत्कंठा का बहुत बड़ा दखल है। वो कहावत तो सुनी होगी आपने कि ‘हलवाई अपनी मिठाई खुद नहीं खाता’! बस पहले नियम को उससे जोड़ दीजिए। अब यहाँ कोई तकनीकी संगोष्ठी तो हो नहीं रही इसलिए इतनी सी बात गाँठ बांध लीजिए।

अब देखें दूसरा नियम। मान लीजिए आपने अपने किसी नज़दीकी को यह ‘राज’ बता दिया है कि आपको इससे पैसे मिलते हैं तो वह जी जान से कोशिश करेगा कि ज़्यादा से ज़्यादा क्लिक करके आपको जल्दी से अमीर बना दे फिर आपको बताये कि भैया/ बहना/ यारा वो तो मैंने ही दनादन क्लिक किए थे इसलिए आपको इत्ते सारे पैसे मिले। मेरी पीठ थपथपायो, मैं आपका शुभचिंतक हूँ। जबकि वह गूगल बाबा की तकनीकी दक्षता से अंजान, आपका बंटाधार कर चुका होता है!

अब गूगल बाबा बैठे बैठे यही देखते रहते हैं कि किसने इतनी तरफदारी कर दी है, कौन सिफारिशी क्लिक पेश कर रहा है? बस दन्न से दरवाज़े बंद, हमेशा के लिए। अरे वो भी कमाने बैठा है, लुटाने थोड़े ही आया है। जिसके विज्ञापन पर क्लिक होती है वो भी देखता है कि अगला तो बस खो-खो खेल कर चले जा रहा है, साईट वाईट को देखता ही नहीं, ना ही जानना चाहता है कि ये किस काम की साईट है। बस पलक झपकते ही दूसरा दरवाज़ा खटकाने चल पड़ता है।

अब अगर आपके दुश्मन को पता चल गया है कि आप तो बस अब महल खड़ा कर लोगे चंद क्लिक्स की बदौलत! तो वह भी अपना कम्प्यूटर संभाल कर, आपकी साईट या ब्लॉग पर, जहाँ पाये वहाँ क्लिक करना शुरू कर देता है , उत्तेजित होकर बुदबुदाते हुए। अब गूगल बाबा तो सबको एक ही नज़र से द्खते हैं। उनके लिए क्या दोस्त क्या दुश्मन? सबको बराबर मान कर फैसला लेते हैं कि ये हमारे काम का नहीं रहा अब।

विश्वास न हो हो खुद ही यहाँ पढ़ लो, जहाँ पाँचवें नम्बर पर लिखा है कि You shall not, and shall not authorize or encourage any third party to: (i) directly or indirectly generate queries, Referral Events, or impressions of or clicks on any Ad, Link, Search Result, or Referral Button (including without limitation by clicking on “play” for any video Ad) through any automated, deceptive, fraudulent or other invalid means, including but not limited to through repeated manual clicks, the use of robots or other automated query tools and/or computer generated search requests, and/or the unauthorized use of other search engine optimization services and/or software

वैसे अगर आप यह मानते हैं कि आपने इन दो सुनहरे नियमों का पालन किया है तो फिर अगली पोस्ट में देखेंगे कि इसके अलावा और क्या-क्या कारण हो सकते हैं गूगल एडसेंस खाता (Google Adsense Account) बंद होने के तथा बंद खाते को फिर से खुलवाने के लिए कौन से पापड़ बेलने पड़ेंगे!

एडसेंस खाता (Google Adsense Account) बंद क्यों कर देता है गूगल!?
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

एडसेंस खाता (Google Adsense Account) बंद क्यों कर देता है गूगल!?” पर 13 टिप्पणियाँ

  1. अच्‍छी जानकारी मिली .. अगले पोस्‍ट का भी इंतजार रहेगा।

  2. इस मामले में तो हिन्दी ब्लागर आप पर ही ज्ञान निर्भर हैं।

  3. द्विवेदी जी मजाक अच्छा कर लेते हैं 🙂

    कई ब्लॉगर लिख रहे हैं इन मुद्दों पर, उनके अपने पाठक समूह हैं।

  4. अच्छी जानकारी..हमारा खाता चालू है.

  5. विनय जी,

    बेशक इन कारणों से बंद ना किया गया हो खाता, लेकिन एक बार सक्रिय (Activate) होने के बाद गूगल एडसेंस का खाता, भाषा की किसी भी समस्या के कारण बंद नहीं होता। अन्यथा हिंदी ब्लॉगरों के सक्रिय एडसेंस खाते कब के बंद हो गये होते।

    स्वयं देखा जा सकता है कि गूगल ने अभी, हिंदी जैसी गैर समर्थित भाषायों पर व्यवसायिक विज्ञापन लम्बित रखें हैं, मात्र सार्वजनिक सेवा के विज्ञापन दिखाता है, जिस पर क्लिक करने पर धनार्जन नहीं होता। उसने खाता बंद नहीं किया।

    हाँ, यदि कोई कहे कि भाषा की समस्या के कारण, सक्रिय होने के पहले ही किसी का एडसेंस निवेदन निरस्त कर दिया गया है तो यह कथन स्वीकार्य है।

  6. प्रवीण त्रिवेदी...प्राइमरी का मास्टर on said:

    हमारा तो खाता हमारी खता से ही सही पर अब तक भाषा की समस्या के कारन अब तक स्वीकृत नहीं हुआ है

    बहारहाल जानकारी के लिए शुक्रिया !!

    प्राइमरी का मास्टरफतेहपुर

  7. हम भी इन दोनों सुनहरे नियमों का पालन कर रहे हैं ।
    टिप्पणीकर्ता विवेक रस्तोगी ने हाल ही में लिखा है: घर बैठे, शेयर बाजार से कमायें २५००० से ७५००० रूपये–क्या है यह !! (Earn 25000 to 75000 per month from Share Market, How ?)My Profile

  8. आदरणीय पाबलाजी,
    आज आपकी साइट पढना शुरू की तो बंद करने का मन ही नहीं हुआ । एक से एक रुचिकर जनकारियां खुलती जा रही हैं । आपको शत शत धन्यवाद । मैं सोचता था कि पाबलाजी कम लिखते हैं परन्तु जो लिखते हैं वो अद्वितीय होता है । आपको पुनः धन्यवाद । मैं हिन्दी लिखनें में बहुत कमजोर हूं परन्तु कोयी भी टिप्पणी अंग्रेजी में नहीं थी इसलिये हिन्दी में लिखना जरुरी समझा ।

    • THANK-YOU

      स्नेह बनाए रखिएगा अनुराग जी

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons