कॉपी-पेस्ट छोड़िये, अब सीधे हिंदी लिखिये GMail पर

पिछले कई दिनों से गूगल की विभिन्न सेवायों, विशेषकर जीमेल के गड़बडाने की घटना के बाद एक सुखद परिणाम नज़र आया है। अब आप सीधे जीमेल में न सिर्फ हिंदी में लिख सकेंगे, बल्कि तमिल, तेलुगू, कन्नड़ और मलयालम भी धड़ल्ले से लिख सकेंगे। करना सिर्फ यह है कि – 

  • जीमेल में लॉगिन कर, सेटिंग्स (Settings) लिंक पर क्लिक करें। 
  • सामान्य (General) टैब पर, लिप्यंतरण सक्षम (Enable Transliteration) के पहले बने निशान बक्से को चुनें। 
  • यदि आपको यह विकल्प दिखाई नहीं दे रहा है तो डिफ़ॉल्ट लिप्यन्तरण भाषा (Default transliteration language) के सामने ड्रॉप डाउन मेनू पर क्लिक करें, सभी भाषा विकल्प दिखेंगे, ड्रॉप डाउन मेनू से अपनी भाषा चुनें।
  • परिवर्तन सहेजें (Save changes) पर क्लिक करें। 
बस अब वैसे ही मेल लिखते जायें, जैसे blogger.com के ब्लॉग पर लिखते है.
कॉपी-पेस्ट छोड़िये, अब सीधे हिंदी लिखिये GMail पर
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

कॉपी-पेस्ट छोड़िये, अब सीधे हिंदी लिखिये GMail पर” पर 27 टिप्पणियाँ

  1. मेरा जीमेल खाता आज गडबडा गया था. पूरे १० मिनट बाद जाकर ठीक हुआ. ठीक होते ही देखा कि हिंदी में ईमेल लिख सकता हूँ. हे जीमेल देवता, अगली बार तेरे गडबडाने का बेसब्री से इंतजार रहेगा! जानकारी के लिये धन्यवाद!

  2. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  3. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  4. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  5. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  6. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  7. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  8. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  9. यह तो बहुत अच्छा हुआ बताने के लिए शुक्रिया

  10. क्षमा कीजियेगा आलेख तो अच्छा है मगर एक गलती हो गयी है.
    आपने लिखा है
    “”बस अब वैसे ही मेल लिखते जायें, जैसे ब्लॉगर पर लिखते हैं।””
    जबकि होना चाहिए था
    “”बस अब वैसे ही मेल लिखते जायें, जैसे ब्लॉग पर लिखते हैं या
    बस अब वैसे ही मेल लिखते जायें, जैसे ब्लॉगर लिखते हैं।””
    कृपया उचित लगे तो ठीक कर लें.

  11. anoop जी

    टिप्पणी के लिए धन्यवाद। मुझे खुशी हुयी आपकी टिप्पणी देख कर।

    आपके मुताबिक होना चाहिए था
    “बस अब वैसे ही मेल लिखते जायें, जैसे ब्लॉग पर लिखते हैं
    या
    “बस अब वैसे ही मेल लिखते जायें, जैसे ब्लॉगर लिखते हैं।

    अब (हिंदी के) ब्लॉग तो वर्डप्रेस, बिगअड्डा, टेक्राती और सैकड़ों वेबसाईट पर भी लिखे जाते हैं
    या
    (हजारों मेरे आपके जैसे) ब्लॉगर, वर्डप्रेस, बिगअड्डा, टेक्राती और सैकड़ों वेबसाईट पर भी लिखते हैं!

    आपके अनुसार लिखा जायेगा तो गड़बड़ा नहीं जायेगा? क्योंकि यह सुविधा मात्र blogger.com पर ही है।

    इसलिये मैंने अपनी समझ से ब्लॉगर (www.blogger.com) पर लिखने की बात कही है।

    आपने इतनी बारीकी पर ध्यान दिया, धन्यवाद
    आगे भी, आपकी बहूमूल्य टिप्पणियों की प्रतीक्षा रहेगी।

  12. इस मंदी में मुफ्त की सलाह …….. .
    शुक्रिया …पाबलाजी !!!

  13. शुक्रिया पाबला जी.हिन्दी को बढावा देने के लिये ये एक अच्छी पहल है.

  14. हम तो बहुत दिन से लिख रहे हैं हिन्दी बजरिये बाराहा!

  15. enable translation वाला कालम नहीं दिख रहा। इसलिये यह संभव नहीं है। बहुत करके देख लिया।
    दीपक भारतदीप

  16. हम शुरू से ही सीधे हिन्दी में मेल लिखते हैं। इनस्क्रिप्ट से।

  17. योगेश गुलाटी जी, जिस तरह के एड आप देख रहे हैं, उनके बारे में जल्द ही एक श्रृंखला लिखूंगा.

    हिन्दी में टिप्पणी करने का सबसे आसान तरीका है, गूगल का जिसे आप यहाँ पा सकते हैं. बस लिखिए और कॉपी पेस्ट कीजिए

    वैसे मैं, भारतीय भाषायों के लिए आवश्यकतानुसार, फायरफोक्स के विभिन्न एड ऑन / हिन्दी राइटर नामक सॉफ्टवेयर का उपयोग करता हूँ. हिंदी राईटर की सहायता से तो, सभी तरह के एप्लीकेशन जैसे वर्ड , एक्सेल, पावर पॉइंट , नोटपैड, जीमेल, जीटाक आदि पर सीधे हिन्दी लिख लेता हूँ.

  18. … और गुलाटी जी, आपकी प्रोफाइल आपकी उम्र 151 साल दिखा रही है. माज़रा क्या है? अप्रैल फूल तो नहीं बना रहे!?

  19. पाबला जी
    आपका जवाब अच्छा लगा पर यह बता दूं कि मैंने यह क्यों लिखा.
    सामान्यतः लोग, ब्लोग्स पर ब्लॉग लिखने वाले के लिए ब्लागर शब्द का प्रयोग करते है और लिखे हुए आलेख के लिए ब्लॉग शब्द का. आप द्वारा बताई गए स्थिति में अगर आप लिख दें कि “”जैसे blogger.com के ब्लॉग पर लिखते है क्योंकि यह सुविधा मात्र blogger.com पर ही है “” तो शायद लोगो को समझने में कन्फ्यूज़न नहीं होगा. मेरा ऐसा सोचना है. फिर भी मेरा सुझाव पढने के लिए धन्यवाद.

  20. anoop जी, किंचित संपादन के साथ आपकी 2 अप्रैल वाली सारगर्भित टिप्पणी की सहायता से पोस्ट अपडेट कर दी गयी है।

    रूचि बनाये रखिये, मुझे स्वस्थ आलोचनात्मक टिप्पणियों से परहेज नहीं है। 🙂

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons