क्या आपका ब्लॉग देर से खुलता है या नहीं खुलता है!?

ब्लॉग देर से खुलने या न खुलने वाली शिकायतों की रफ़्तार बढ़ती जा रही है। कोई ऐसा दिन नहीं होता जब किसी जाने अनजाने ब्लॉगर साथी द्वारा इस बारे में सम्पर्क नहीं किया जाता। हालांकि थोड़ी हिचकिचाहट तो होती है अपने ही एक लोकप्रिय साथी द्वारा प्रदत्त सुविधा वाले कोड को हटा देने की बात करते हुए, लेकिन तुरंत-फुरत और कोई चारा भी तो नहीं!

लगभग सभी शिकायतों का समाधान करते हुए पाया गया कि ऐसे धीमे लोड होने वाले ब्लॉग्स में, हिन्दी ब्लॉग टिप्स द्वारा बताई गईं दो युक्तियों में से किसी एक का वह कोड लगा हुआ है जो दर्शाता है कि यह पेज …. बार पढ़ा गया। इस कोड में प्रयुक्त एक वेबसाईट का अस्तित्व नहीं रह गया है इसलिए ब्लॉग स्क्रिप्ट उसकी तलाश में भटकती रहती है। नतीजतन ब्लॉग का लोड होना रूक जाता है व काफी समय तक ठिठके रहने के बाद ही पूरा ब्लॉग खुल पाता है तब तक लंबे इंतज़ार से उकता कर पाठक भाग खड़ा होता है।

यदि आप भी ऐसी ही समस्या से जूझ रहे हैं तो यह जाँच कर लें कि इन दोनों युक्तियों पोस्ट की पाठक संख्या का हिसाब-किताब और भी आसान (per post hit counter widget) या कितनी बार पढ़ी गई आपकी हर पोस्ट (per post hit counter) में से किसी एक का प्रयोग तो नहीं किया हुआ आपने ब्लॉग़ में? यदि हाँ तो उसे हटा कर ब्लॉग सहेजें। संभवत: आपकी ब्लॉग देर से खुलने या ना खुलने की शिकायत दूर हो जायेगी।

जिन ब्लॉग्स में यह कोड सबसे ऊपर लगा है वह ब्लॉग़ शीर्षक दिखाने के बाद ही ठिठक जाता है जबकि नीचे की ओर लगे कोड के कारण ब्लॉग आधा खुल कर ठिठक जाता है।

यदि उपरोक्त युक्ति में आशाजनक सुधार हो जाए तो इसे हटाने की आवश्यकता नहीं है।

क्या आपका ब्लॉग देर से खुलता है या नहीं खुलता है!?
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

क्या आपका ब्लॉग देर से खुलता है या नहीं खुलता है!?” पर 9 टिप्पणियाँ

  1. बी.एस. पाबला जी नमस्कार, मेरा ब्लोग भी नहीँ खुलता था लेकिन आपकी सलाह से अब वह ठीक तरह से खुलता हैँ। धन्यवाद जी। -: VISIT MY BLOG :- तुम ऐसे मेँ क्यूँ रुठ जाती हो?…………इस कविता को पढ़ने के लिए आप सादर आमंन्त्रित हैँ। आप इस पते पर क्लिक कर सकते हैँ।

  2. अच्छी जानकारी दी है आपने

    आभार

  3. बढ़िया…जानकारी भरी पोस्ट…मैंने तो काफी पहले ही हटा दिया था

  4. इस जानकारी के लिये आभार

    प्रणाम

  5. एक ऐसा बुखार
    जिसे सब चाहें
    कि हमारे ब्‍लॉग को
    हो जाए
    चढ़ जाए पारा
    ब्‍लॉग हमारा बने
    ब्‍लॉग जगत का सितारा
    चमकता हुआ
    जैसा यह चमक रहा है
    पर यह तो डॉटकॉम लग रहा है।

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons