क्या जनमदिन वाला ब्लॉग बंद कर दिया जाए?

बस यूँ समझ लीजिए कि किसी भावावेश में आ कर सुधी पाठकों से यह प्रश्न कर रहा हूँ कि

क्या जनमदिन वाला ब्लॉग बंद कर दिया जाए?

क्या जनमदिन वाला ब्लॉग बंद कर दिया जाए?
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

क्या जनमदिन वाला ब्लॉग बंद कर दिया जाए?” पर 111 टिप्पणियाँ

  1. ऐसी क्या मन में आ गयी?
    हरगिज नहीं बंद करना,हड़ताल हो जाएगी।

  2. बिलकुल भी नहीं …. जब तक के आप उसका कोई और विकल्प ना ले आयें !

  3. ये एक भावनात्मक जुड़ाव वाला ब्लॉग है..इसे बंद करना मेरे हिसाब से समझदारी वाली बात नहीं होगी…

  4. @ shikha varshney

    आपका आर्तनाद!!!!!!!!!!!!!!!!!!
    मैं डर गया

  5. @ ललित शर्मा

    कौन करेगा हड़ताल? मरते आदमी पर मीठी गोलियाँ खिलाने वाले?

  6. @ शिवम् मिश्रा

    विकल्प?

    ताली एक हाथ से कैसे बजे?

  7. @ honesty project democracy

    भावनात्मक जुड़ाव? किसका?

  8. पाबला जी, और किसी का तो पता नहीं ……….पर हाँ……. मेरे दोनों हाथ आपके साथ है !

  9. क्यों भाई, जब ब्लोग्गेर्स जन्म लेना नहीं बंद कर रहे तो यह जन्मदिन मानाने वाला ब्लॉग क्यों बंद होने की कगार पे आया. ? इमानदारी से मनाया जाए सब का जन्मदिन यहाँ.

  10. क्यो जी ? किसी ने कुछ कहा हो तो उसे भुल जाये, लेकिन इसे युही चलता रहने दे, धन्यवाद

  11. जी हां बिल्कुल बंद कर देना चाहिए सर ….क्योंकि अब ये एक दस्तूर बन गया है कि जो इस तरह से बिना किसी खास मकसद के बिना किसी स्वार्थ के …बिना की लाभ हानि का लेखा जोखा किए ..ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं ..वे सभी इस हिंदी ब्लॉगजगत में ….ऐसे ही पत्थरों के निशाने पर रहते आए हैं ..अरे सर जब ब्लॉगवाणी को भाड में झोंकते किसी को शर्म नहीं आई ..और सबने रख रख उसे शूल चुभोए ..तो फ़िर आप तो उस ब्लॉग के संचालक मात्र हैं …मेरे विचार से तो जन्मदिन वाला ही क्यों ..ब्लॉग्स इन मीडिया और इस तरह के तमाम ब्लॉग्स को बंद ही कर दीजीए …आखिर कोई कब तक अपना सर फ़ुडवाता रहेगा ..चलिए छोडिए सर आजकल तेवर जरा डेंगूमय हो रहा है …

  12. मेरी पत्नी को भी मुझसे शिकायत रहती है जन्मदिन भूलने की. शादी के पहले साल ही भूल गया था, रात में सासू जी से बात हुई तो पता चला कि क्या जुल्म कर दिया..
    जैसे-तैसे मनाया अर्धांगिनी को… तब से मोबाइल में नियत कर दिया है…
    ब्लाग चालू रखें…

  13. @ एस.एम.मासूम

    ईमानदारी से मनाया जाए सब का जन्मदिन यहाँ.

    जिसका जनमदिन मनाया जाना है वही बेईमानी करे तो?

  14. प्रभु ऐसा कदापि ना करे आप ही के कारण तो इस वर्ष जन्‍मदिन पर ढेरों बधाईयां पा सका हूं बच्‍चों के साथ मनाया भी यह सब आपही के कारण हो पाया है इसे और निखारे मेरी शुभ कामनाये आपके साथ है

  15. @ अजय कुमार झा

    बेहतर होगा आपकी बात का जवाब व्यक्तिगत मेल पर दूँ

  16. @ भारतीय नागरिक – Indian Citizen

    आप तो पहले भूले होंगे। यहाँ तो लोग बधाईयाँ पाने के बाद कहते हैं कि मेरा नाम, तारीख भूल जायो

  17. @ रौशन जसवाल विक्षिप्त

    इसे और निखारे

    ये तरीका भी ठीक है

  18. bilkul nahee sirrrrrrrrrrrrrrrrrrrrr………………………………………………………………………………..

  19. मेरे खयाल से तो सर आप इसे बंद ना करें कम से कम इसी के बहाने हम दुसरों की खुशी में शामिल हो पाते हैं, अतः आप से विनम्र निवेदन है कि आप इसे बंद ना करे.

  20. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  21. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  22. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  23. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  24. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  25. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  26. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  27. पाबला जी,
    अभी तो हमें केवल एक ही बधाई मिली है,
    हमने तो सोचा था कि कम से कम 80 और
    मिलनी चाहिए …..
    उसके बाद आप चाहे तो बंद कर दे

  28. @ आशीष मिश्रा

    आप जैसे साथियों की भावनाएँ सराहनीय हैं। लेकिन यहाँ ऐसे भी हैं जो बधाई लेना तो चाहते हैं बधाई देना नहीं

  29. @ गजेन्द्र सिंह

    क्यों मिथ्या बातें कर रहें हैं 🙂
    पूरी 46 बधाईयाँ मिली हैं, 1 नहीं

    हा हा हा

  30. ना बाबा ना, बन्द नही करना..किसी एक के बेईमानी करने से सबके लिए बन्द क्यों भला??

  31. अरे!…पाबला जी…ऐसा गज़ब बिलकुल ना कीजिएगा

  32. गजब…गजब….गजब दादागिरी मचा रखी है भाई.कोई कहने सुनने वाला नही है इसलिए? बंद करके देखो देखें?
    कभी सोचा है कितने गैरों को इसने अपना बना दिया है ?जिन्हें जानते तक ना थे वे आज इतने अपने हुए कि उनके शब्द पढते नही सुनते हैं मुझ जैसे पागल. वीरजी! आप आपस में जोड़ने का काम कर रहे हैं.एक दुसरे को ना जानते हुए भी हम एक दुसरे की खुशियों और दुःख से कैसे जुड गए हैं ये महफूज़ से पूछियेगा जब वो चंगा हो कर आ जाये तब. ये क्या सूझी आपको? गलत बात एकदम.

  33. अरे बाप रे इस तरह क्यों सोचा जी
    कोई कारण ज़रूर है दादा

  34. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  35. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  36. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  37. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  38. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  39. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  40. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  41. कारण ज़रा और स्पष्ट किया जाए !…..भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !….जानने की बड़ी उत्कंठा है ….कि कहाँ और किससे चूक हो रही है ?

  42. जन्मदिन वाला ब्लॉग बंद नही होना चाहिए,क्यूंकि इससे ब्लोगरों में आपसी प्रेम बढा है….

  43. सुझाव-
    1. इस ब्लाग पर ब्लागर अपना जन्मदिन खुद दर्ज कराएँ।
    2. एक हद तक इसे स्वचली कृत बनाया जाए।

  44. @ Archana

    किसी एक के बेईमानी करने से सबके लिए बन्द क्यों भला??

    कोई एक हो तो मन को समझा भी लूँ

  45. @ राजीव तनेजा

    यहाँ तो अजब ब्लॉगरों की गजब कहानियाँ हैं

  46. @ इंदु पुरी गोस्वामी

    जरा फोन पर बात कीजिएगा, पता चल जायेगा कि दादागिरी कौन कर रहा

  47. @ प्रवीण त्रिवेदी

    भावुकता अब तक ख़त्म हो गयी होगी !

    जो चीज देर से आती है वह जाती भी देर से है 🙂

  48. @ RAJNISH PARIHAR

    इससे ब्लोगरों में आपसी प्रेम बढा है….

    कईयों को यह फूटी आँख नहीं भा रहा

  49. @ दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

    सुझाव बढ़िया है। इस पर कैसी प्रतिक्रियाएँ आती हैं, प्रतीक्षा है।

  50. @ दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

    सुझाव बढ़िया है। इस पर कैसी प्रतिक्रियाएँ आती हैं, प्रतीक्षा है।

  51. From Feedburner:

    भावावेश बंद, ब्‍लॉग चालू.

    -Rahul Singh

  52. मेरे हिसाब से इस तरह के निर्णय चिट्ठास्वामी क खुद करने चाहिए बनिस्बत पाठक गण के धर्मसंकट के !

  53. बिलकुल बंद कर देना चाहिए ! व्यक्तिगत तौर पर जिनके जन्मदिन को याद रखने के लिए आपने उनके लिए पोस्ट लिखी, उनमें से कितने दिल से आभारी होंगे !
    ब्लाग जगत में अच्छे कार्यों और अच्छे विचारों का कोई मोल नहीं ! सिर्फ दुकान चमकाना आना चाहिए फिर चाहें जूस के गिलास में जहर ही क्यों न पिलायें !
    अजय कुमार झा से सहमत हूँ !
    शुभकामनायें !

  54. @ Coral

    अभी मेरा जन्मदिन आने में देर है 🙂

    कब है आपका जनमदिन?

  55. @ Arvind Mishra

    इस तरह के निर्णय चिट्ठास्वामी क खुद करने चाहिए

    इस चिट्ठे में मेरा अपना है क्या?

  56. @ सतीश सक्सेना

    मेरा भी ऐसा ही कुछ ख्याल है

  57. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  58. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  59. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  60. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  61. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  62. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  63. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  64. पाबला जी,
    मेरा कहने का अर्थ यह था कि अभी तो हमें केवल एक ही बार (वर्ष में ) बधाई मिली है …. और हमें कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही ….. उसके बाद चाहे तो आप बंद कर दीजियेगा ……

  65. @ राम त्यागी

    mera janmdin bataakar hi karana

    केक का हिस्सा मिलेगा ना?

  66. मेरा जन्‍मदिन बाकी है अभी इस वर्ष में .. इतने लोगों की शुभकामनाओं से वंचित नहीं होना चाहूंगी !!

  67. @ गजेन्द्र सिंह

    कम से कम 70 -80 बार (70 -80 वर्षो ) तक और बधाई मिलनी चाहिए आपके ब्लॉग पर ही

    इसी बहाने कम से कम 70 -80 वर्षो और जीने की तमन्ना बढ़ गई मेरी

  68. जी हां, कर देना चाहिए।
    वैसे उम्र एक साल कम ही होती है
    उम्र कम होने की शुभकामनाएं

    सच्‍चाई तो यही है
    इस असलियत से कब तक
    मूंदे रहेंगे अपनी आंखें और दिमाग
    दिमाग जिस में लग रही है आग
    आग ऐसी जो बुझे न पानी से
    पानी डालो तो और भड़क जाए।

    मालूम है सब गाली ही देंगे मुझे
    पर सच्‍चाई के लिए गाली इत्‍यादि
    सब मंजूर है मुझे।

  69. @ संगीता पुरी

    चलिये आपने एक शानदार इशारा तो किया तारीख का 🙂

  70. सुनिये सब की
    कीजिये अपने मन की

    जै रामजी की

  71. अब मेरी बारी आई तो बंद करने चले … न न ऐसे नहीं चलेगा … ब्लॉग भले आप लिखते हो … है तो हम सबों का … चलने दीजिए …

  72. pawala ji sab kuchh chal raha hai to yah bich me band kahan se aa gaya ?
    hamane to yah jana hai ki chalana hi jindagi hai !

  73. किसी ब्लॉगर का नाम शामिल करने के पहले एक बार मेल अथवा टिप्पणी से अनुमति ले लें. ऐसे कम लोग हैं जिनको आपत्ति है अपना नाम और जन्मदिन सार्वजनिक होने में पर ऐसे लोग मौजूद हैं. आप उनको जानकारी देकर/अनुमति लेकर किसी प्रकार के विरोध से बचेंगे. यूँ तो ब्लॉग पर अधिकतर लोगों का जन्मदिन प्रदर्शित होता है पर जो करीबी हैं वही इस बात पर ध्यान देते हैं.

  74. @ Puja Upadhyay

    एक बार मेल अथवा टिप्पणी से अनुमति ले लें.

    बधाई देने के लिए अनुमति? चलिए एक बार मान भी लिय जाये
    लेकिन
    उनका क्या किया जाये जो खुशी-खुशी बधाईयाँ बटोरने के बाद आपत्ति करते हैं अपना नाम यहाँ देख कर?

  75. अरे नही बावला जी ऐसे कैसे बंद कर देंगे अभी मेरा जन्मदिन आना बाकि है कितनो को मैंने बधाईया दी है इस ब्लॉग पर अभी तो किसी ने मुझे दी ही नहीं है | टिप्पणी के बदले टिप्पणी का प्रचलन है तो बधाइयो के बदले बधाईयाका का भी प्रचलन पूरा होने दे | अभी जिसको पसंद नहीं है उसका ना दे जिसको पसंद हो उसका दे | और जो आप को सारी शुभकामनाये लेने के बाद भी धन्यवाद ना दे उसका भी जन्मदिन बताना बंद कर दे |

  76. @ Arvind Mishra

    इस ब्लॉग का स्वामी कौन है?

    इस ब्लॉग का स्वामी गूगल है, मैं केयरटेकर हूँ 🙂

  77. पाबला जी, एक बात समझ में नहीं आई कि आपको इसका ख्याल क्यों आया? जब आपने इस तरह का सवाल रखा है, तो कारण भी सामने रखना चाहिए था। जहाँ तक मेरा निजी ख्याल है, इसे बंद करने का कोई तुक नहीं बनता है।

  78. @ anshumala

    अभी मेरा जन्मदिन आना बाकि है

    ऐसे ही कई मामले हैं जहाँ उम्मीद की जाती है कि बधाईयाँ मिलेंगी लेकिन अपना जनमदिन बताए बिना! अब आप भी मुझे बता ही दो कब है जनमदिन आपका 🙂

    जो आप को सारी शुभकामनाये लेने के बाद भी धन्यवाद ना दे उसका भी जन्मदिन बताना बंद कर दे |

    ऐसे मानवीय मुद्दों पर धन्यवाद प्राप्ति की चाह मुझे कभी नहीं रही यह सब तो आपसी प्रेम-भाव, स्नेह प्रदर्शित करने और खुशियाँ बांटने का अपनी खुशी से किया जा रहा निस्वार्थ प्रयास मात्र है।

  79. @ ज़ाकिर अली ‘रजनीश’

    जब आपने इस तरह का सवाल रखा है, तो कारण भी सामने रखना चाहिए था।

    कारण एकाध हो तो रख दूँ…।

  80. वैसे मैंने तो गूगल कलेंडर को सबस्क्राइब कर रखा है.. रोज इमेल आ जाती है.. जिसे बधाई देनी होती है दे देते है.. ब्लॉग पर तो कम ही आना होता है.. ब्लॉग बंद करें न करे आपकी इच्छा.. गूगल कलेंडर चालु रखें..

  81. मर्जी आपकी , मैं तो अपना मनाता ही नहीं 🙂

  82. कितने लोगों के जन्मदिन का पता ,इस ब्लॉग से चला है….और उन्हें शुभकामनाएं दी हैं…प्लीज्ज़ इसे बंद मत कीजिये.

  83. @ रंजन

    गूगल कलेंडर, ब्लॉग से ही तो जुड़ा है। यह बंद तो वो भी बंद 🙂

  84. @ Sanjeet Tripathi

    thoda clear to kar dete

    tippaniyon me itna kuchh to clear kar chuka hoon prabhu

  85. पाबला जी!
    दिल तोड़ने वाली बाते मत कीजिए!

    आप तो हमारे दिल में घर बना चुके हैं!

  86. @ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)

    मेरे पास भी एक 'टूटेबल' दिल है 🙂

  87. पाबला जी , आप नेक काम कर रहे हैं ।
    अगर वज़ह एक से ज्यादा है तो फिर कुछ संशोधन की ज़रुरत है ।

  88. .
    .
    .
    ऐ लो जी,

    हुण आप भी टंकी ते चढ़ोगे ?… ऐदा वदिया काम कर रहे हो तुस्सी… लगे रहो वीर जी…

    और वह पोस्ट कहाँ है जिसका जिक्र आप मेरे ब्लॉग पर कर आये हैं ?

  89. @ प्रवीण शाह

    हा हा हा

    एक टंकी से मेरा क्या होगा, कुल 20 टकियाँ चाहिएं मुझे तो 🙂

    जिस पोस्ट का जिक्र कर आया हूँ वह ड्राफ़्ट में है अभी

  90. नही ……. मै क्षमा प्रार्थी हूं नियमित आ नही पाता वहा .

  91. @ dhiru singh {धीरू सिंह}

    आप शर्मिंदा कर रहे हैं क्षमा प्रार्थी हो कर

  92. नही जी बिलकुल नहीं क्योकि हमारा जन्म दिन तो अभी तक नहीं आया ! हमारे साथ ऐसा अनर्थ बिलकुल भी नहीं कीजियेगा ! जब कॉलेज में पड़ते थे तब हमने सीनियर को फेरवेल पार्टी दी! सीनियर हुए तो जूनियर को वेलकम पार्टी दी! परन्तु न तो हमें वेलकम ही मिला और न ही फेरवेल और जब ब्लॉग में हमने बहुतो को जन्म दिन की बधाई दी और अपने जन्म दिन का इंतजार करने लगे परन्तु आपने डरा ही दिया ………………………………….

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons