जिनका पहले से ही छोटा है, या काला है, वे यहाँ न देखें

अभी दो दिन पहले ही उस लड़की ने मुझे उकसाया, जिसके बारे में बातें मुम्बई से रवाना होते हुये प्लेटफॉर्म पर की गयी थीं। उसका कहना था कि होली पर किसी तरह की शरारत न किये जाने पर त्यौहार का मज़ा कहाँ रह जायेगा? टाँग खिंचाई का यही एक मौका रहता है जिसका कोई बुरा नहीं मानता और मान भी ले तो उसकी परवाह नहीं की जाती! मुझे भी वो दिन याद आ गये जब अपने आस-पास के चुनिंदा व्यक्तियों को तरह तरह की उपाधियाँ देकर एक लिस्ट निकाली जाती थी। जिसका गूढ़ अर्थों के साथ, आनंद भी लिया जाता था।

उसके उकसावे पर हमें भी ताव आ गया। एक चित्र, हजार शब्दों के बराबर होता है, की धारणा पर सोचा गया। आस-पास नज़र दौड़ाई गयी। कई चेहरे याद आये। महिला दिवस चल ही रहा था, इसलिए हमेशा की तरह डरते हुये उनकी ओर देखने से परहेज किया गया। लेकिन सब गड़बड़ सा होता नज़र आया। कईयों ने तो अपना मुँह पहले से ही काला किया हुया है, कईयों का इतना छोटा है कि किसी काम का नहीं है, चित्र। कईयों का तो टटोलने पर भी नहीं मिला, चित्र।

सोचा, थोड़ा समय निकाल कर तलाश की जाये कि कहाँ कहाँ से मिल सकते हैं उनके, चित्र! लेकिन पहुँच गये अस्पताल, पारिवारिक सद्स्य की तबीयत खराब होने पर। रतजगा हुया, सुबह लौटे, ऑफिस भी नहीं गये। नींद पूरी कर ऑनलाईन हुये, तो एक ब्लॉगर साथी को ऑनलाईन पाया। अपनी शरारत के बारे में बताया तो मचल गये कि महिलायों को भी शामिल करो, वरना अदालत में मुकद्दमा ठोक दिया जायेगा। महिला दिवस गुजर चुका है, अब सब एक लाइन में ही हैं। राधा के बिना कृष्ण होली खेलेंगें? कौन देखेगा हीरोईन के बिना फिल्म? हमारे इंकार करने पर दूसरा दांव खेला गया -कम से कम मुझे तो शामिल कर लो मैं जनम से खरा बंदा हूँ, अब भी कुमार लिखा जाता है मेरे नाम के सामने! हमने हथियार डाल दिये और वे धमका कर गायब हो गये।

इधर अनिल पुसदकर जी धमका चुके थे कि होली नहीं खेलोगे तो क्या वेलेंटाईन डे मनायोगे? गीली होली ही होनी चाहिये, पानी आप बाकी 364 दिन बचाते रहना, तबियत से। अब डर तो उनसे भी लगता है, बजरंग बली के भक्त जो ठहरे! इसलिये पहले प्रयोग किया गया कि कितने पानी का प्रयोग कर होली मनायी जाये। होली वाले दिन यह अनुभव काम आयेगा। नतीजा आप नीचे देखिये या फिर सीधे यहाँ क्लिक कर पूरा एलब्म देखें। मैं तो चला।


(किसी चित्र को बड़ा कर देखने के लिए उस पर क्लिक करे)


ताजा अपडेट: गल्ती से मिस्टेक हो गयी जी। लगता है थोड़ा बहुत पानी बचाने के चक्कर में मीट के साथ नीट हो गयी। कई प्यारे, अच्छे साथी छूट ही गये हैं। अब जाने दीजिये, जो हो गया सो हो गया। बुरा मत मानियेगा। वैसे आपकी भी गीली होने को होगी, होली।

हाँ भई, होली है होली। लेकिन आप किस-किस को पहचान पाये?

ऐसी ही नयी पोस्ट अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें

लेख का मूल्यांकन करें

जिनका पहले से ही छोटा है, या काला है, वे यहाँ न देखें” पर 32 टिप्पणियाँ

  1. पाबला जी, आपने हमारे साथ अन्याय किया है, हमारी फ़ोटो सुन्दरी के चरणों में, और बाकियों की फ़ोटो सीने पर… बहुत बेइंसाफ़ी है ये… होली की अच्छी रमक ली है आपने… होली की बधाई और शुभकामनायें, मेरी तरफ़ से एक दो लार्ज पैग और गटक लीजियेगा ताकि अगली बार से मेरी तस्वीर और थोड़ा सा ऊपर लगायेंगे… 🙂 🙂 शास्त्री जी, ज्ञानदत्त जी, संजीत, बालेन्दु जी, फ़ुरसतिया जी सब सही जगह पर फ़िट किये हैं आपने…

  2. सुरेश जी, आप थोड़ा सा ऊपर जाना चाहते हैं। लेकिन सुन्दरी आपको (पिंक) जूती के बराबर समझना चाहती है 🙂

    आप दोनों समझौता कर लीजिये, हम कुश नई बोलेगा 😀

    कुछ और पानी बचाने की कोशिश करता हूँ 🙂

  3. Very creative !!!
    होली की बधाई और शुभकामनायें जी !

  4. बहुत खूब जी, बहुत खूब!
    होळी प’ घणी घणी बधायाँ!

  5. वाह; यह बनाया कैसे जी!
    बहुत बधाई होली की।

  6. रंगों के पर्व होली की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामना .

  7. हा हा हा हा! इस साल का होली की मस्ती का पहला इनाम जाता है भिलाई आप के नाम , पिछले साल के विजेता (बेंगणी ब्रद्रस) से इल्तजा है कि वो पिछले साल वाली ट्रॉफ़ी इधर पास कर दी जाए।
    ही ही ही, होली मुबारक और आप के परिवार के जो भी सदस्य जी बिमार हो गये थे उनके स्वास्थय की मंगल कामना करते हैं । बहुत बड़िया मौज रही, सब ब्लोगरस सही सही स्थान पर विराजमान हैं। ही ही ही

  8. न हमारा छोटा है

    और
    न काला है

    श्‍वान हमारा बड़ा

    और

    श्‍वेत है

    फिर भी नहीं दे रहा दिखाई

    जाने कहां घुस गया भाई
    पुचकारें तो शायद बाहर आ जाए।

    सबसंग को होली की रंगकामनाएं।

  9. वाह !! क्या बात है..क्या आर्ट है…बहुत सुन्दर.

  10. अविनाश जी, मैने पहले ही स्वीकार कर लिया है कि कई प्यारे, अच्छे साथी छूट ही गये हैं। आपका बिल्कुल साफ साफ है 🙂 लेकिन बस, चूक हो गयी।

  11. आपको और आपके परिवार को होली की रंग-बिरंगी ओर बहुत बधाई।
    बुरा न मानो होली है। होली है जी होली है

  12. शानदार। हम अपनी श्रीमतीजी को दिखाये फोटो तो वो पूछ रही थीं कि ये कौन हैं जिनके दिल के पास तुम रहते हो!

  13. फुरसतिया तो अपनी फोटु देख इतने खुश हो लिये कि चर्चा अधूरी छोड़ आफिस को भाग लिये सबको फोटु दिखाने के लिये। लेकिन जितनी भी चढ़ायी असर निखर के आया है।

  14. इसे कहते है होली मनाना। आनंद आ गया जी। होली की आपको और आपके परिवार को रंगबिरंगी बधाई।

  15. बहुत मेहनत की है पाबला जी आपने इस होली को सूखी और सुखी बनाने के लिए। पानी के तो कई रंग है, तो आज भंग ही सही। होळी की शुभकामनाएं।

  16. रंगों के पर्व होली की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामना .

  17. अरे! तो वह बेचारे कहां देखें ?
    समय निकाल कर अलगसा पर आएं। ‘होलिका’ को दूसरे नजरिए से आंका है। आपकी राय महत्वपूर्ण होगी।

  18. होली के अवसर पर इस रंगबिरंगी रचनात्मक प्रस्तुति के लिये आपका बहुत आभार । इस चित्र-गैलरी में मैं भी हूं – गो इंडिया के नारे के साथ । धन्यवाद । आपको होली की हार्दिक शुभकामनायें ।

  19. परा जी कमाल कर दित्ता तुसी…किन्नी मेहनत कित्ती है तुसी वाह जी वा…स्वाद आ गया…असली होली ते जनाब ज्ञान जी अनुराग जी अनूप जी ते राज भाटिया जी दी मनवा दित्ती है तुसी…बाकि ते सारे एवें ही रह गए बिचारे…हाँ अनीता जी नु वि तुसी बड़ा फेमस कर दित्ता जी…
    त्वाणु ते पूरे परिवार नु साडे वलों होली दियां शुभ कामनावां

    नीरज

  20. न तो मेरा छोटा है और न काला है ( वैसे मेरी पत्नी के विचार अलग हैं ! )इसलिए मैं भी देखने आ पहुंचा ! और खूब दिखाई आप ने मूरख लोग झुक झुक क्र झाँक भी रहे हैं -मैं तो चला भैया पाबला जी ! होली है !

  21. पाबला जी, अगर फुरसतिया जी के लहजे में कहा जाए कि “भई आप तो होली के सरूर में खूब मौजिया रहे हैं” तो शायद ज्यादा सही रहेगा…..साडे ऎत्थे पंजाब च ए कहया जांदा ए की ‘जित्थे सरदार जी, ते ओत्थे कादी तकरार जी’….बस ऎवें ई हंसी-खुशी जिन्दगी दियां मौजां माणी जावो….नाल की लै जाणा जे.
    तुहानू वी होली दियां लख लख वधाईयां……

  22. ये तो नाइन्साफी है जी। मुझे आपने भी अकेला टाँग दिया? वह भी घेरा लगाकर ताकि किसी को बुला भी न सकूँ। खैर कॊई बात नहीं। अपनी तो बेइज्जति खराब होने से बच गयी। शु्क्रिया।

    होली की असीम मंगल कामनाएं।

  23. बेहतरीन सजाया सबको!! 🙂

    होली की बहुत बधाई एवं मुबारक़बाद !!!

  24. क्या कहूं कुछ कहा नई जाए !
    बिन कहे भी रहा नई जाए !

  25. Aapke blogpe pehlee baar aayee hun….awwal to mere blogpe tippaneeke liye shukr guzaree karnaa chahungee…!
    Holi kee anek shubhkamayen bhee saathme…!

    Sach to ye hai ki mai sahanubhootee bhee nahee chahtee…ek vishesh maqsad saamne rakh ke is maalikaa ko likhnaa shuru kiyaa thaa…wo tha, bachhon kee mansiktaape hota pichhalee peedhiyonkaa parinaam…jitnaa tehtak jaanekee koshish kartee gayee, utnaa adhik sachhaayiyon se avgat hotee rahee…

    Aapkaa blog aur adhik padhna chahungi…abhi to bas 2 post padheen hain….achhaa laga…bade dinon se tanaav me hun..!Dhanywaad!

  26. होली पर्व की आपको परिवार एवम इष्ट मित्रों सहित हार्दिक शुभकामनाए और घणी रामराम.

  27. हमने नहीं माना बुरा !!

    आप भी मत माने बुरा !!!

    बुरा न मनो ….होली है !!!

  28. हमने नहीं माना बुरा !!

    आप भी मत माने बुरा !!!

    बुरा न मनो ….होली है !!!

  29. होली के इस रंग-बिरंगे पर्व पर आपको व् आपके परिवार के समस्त सदस्यों को हार्दिक बधाई ……..

  30. अहो, अहो, अहा-अहा।

    अब इसके सिवा और क्या कहूं 😉
    अजी इस आवारा बंजारा को तो आपने किसी सुंदरी का वस्त्र ही बना दिया। 😉

    चलो प्रभु( सुरेश) जी से प्रमोशन में ही है सुनील (संजीत) 😉

    हे हे।

    मस्त है। तबियत से हैप्पी वाली हो-ली जी

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ