क्या आपने अपनी कार के टायर को कभी पढ़ा है?

आभासी दुनिया पुकारे जाने वाले फेसबुक, ब्लॉग वगैरह पर अपने लिखे पर प्रतिकियाएं टिप्पणी, ई-मेल के सहारे मिलती तो रहती हैं लेकिन कई मित्र ऐसे हैं जो मेरी वेबसाइट पर लिखे को पढ़ कर, उस पर चर्चा आमने सामने मिलने पर ही करते हैं.

दो दिन पहले, बार कोड और मेमोरी कार्ड जैसी पोस्ट्स पढ़ चुके एक मित्र कॉफ़ी हाउस में मिले. बातचीत के दौर में नाइट्रोजन वाले टायर का उल्लेख करते उन्होंने ‘उकसाया’.कि किसी गाड़ी के लिए कौन सा टायर ठीक रहेगा यह कैसे पता लगाया जाए?

टायर खरीदने वाले लगभग सभी व्यक्ति केवल अपनी गाड़ी की कंपनी और मॉडल के बारे में बताते हैं और टायर बेचने वाले 165  14 जैसे कोई दो अंक का उच्चारण कर एक टायर थमा दते हैं. टायर फटने जैसी घटनाओं की बात करते उन्होंने जोर दिया कि कुछ हो जाए टायर की बारीकियों पर

बात उनकी सही भी है. शायद ही कोई टायर की साइज़ से आगे बढ़ कर कोई जाँच परख करता हो, टायर को पढता हो, जबकि हरेक टायर में उसकी कुंडली छपी रहती है.

टायर का खाका

आम तौर पर जो सामान्य सी जानकारी मालूम होनी चाहिए वह स्पष्ट रूप से उभरी रहती है हर टायर पर. जैसे कि ऊपर दिए गए चित्र में है 165/ 65R14  79T.

इसमें 165, टायर की (मिलीमीटर में) वह चौड़ाई है जो सड़क के संपर्क में रहती है. और उस चौडाई का 65 (प्रतिशत) दर्शाता है टायर की ऊँचाई. यह ज़्यादा हो गाडी ‘संभालना’ मुश्किल लेकिन आराम ज़्यादा, कम हो तो ड्राइविंग आसान, आराम कम! कई लोग इसके बीच का रास्ता निकालते हैं.:)

R बताता है कि टायर, रेडियल है. 14 का मतलब है कि यह टायर, 14 इंच की रिम के लिए बना है. 79 एक कोड है जो उस टायर द्वारा वहन किये जाने वाले भार के लिए है (विस्तृत विवरण नीचे दिया गया है) और T भी अपने कोड के सहारे बताता है कि उस टायर को दौड़ाए जाने की अधिकतम गति क्या है. (विस्तृत विवरण नीचे उपलब्ध है)

टायर पर दिए गए वजन का कोड, एक ही टायर के लिए है. मतलब कि अगर कोड है 79 तो ऐसे चार टायर एक वाहन में लगाए जाएं तब कहीं जा कर 437 x 4 = 1748 किलो का वज़न सुरक्षित तरीके से झेल पायेंगे टायर्स. अब अगर गाड़ी का खुद का वजन 1000 किलो है (एक टन) और 100 – 100 किलो वाले पांच लोग सवार हैं तो 1500 किलो यहीं हो गया. 😀

टायर लोड व गति कोड

इसके अलावा भी कई चीजें हैं जिन पर ध्यान दिया जाना चाहिए. जैसे कि टायर बना कब का है? कहीं ऐसा ना हो कि किसी किनारे में पड़ा ऐसा टायर झाड़ पोंछ कर आपको थमा दिया जाए जो मौसम की मार से, चूहों के प्रकोप से अपनी सही क्षमता खो चुका हो!

या फिर किस देश की किस फैक्ट्री में बना है? आपको दिया गया टायर किसी नामी विदेशी फैक्ट्री का बना हुआ कह कर दे दिया जाए जबकि वह हो घटिया सामान बनाने वाले किसी और देश का.  विश्व की टायर निर्माता फैक्ट्रीज के उनके शहर/ देश के विस्तृत कोड यहाँ क्लिक कर देखे जाने जा सकते हैं.

टायर का देश

 

कई बार टायर में एक तीर का निशान भी बना रहता है जो बताता है कि चलते समय टायर को उसी दिशा में घूमना चाहिए, वरना वह अपना काम ढंग से नहीं कर पाएगा. कई बार इसकी पहचान बरसात के दिनों में होती है जब अगली गाडी के टायर से सड़क का पानी, छीटों के रूप में सीधे हमारी ओर तेजी से आता है. मतलब वह टायर उलटा फिट है 😀

आजकल के ज़्यादातर टायर एक विशेष तकनीक वाले सूचक के साथ आते हैं जो बताते हैं कि टायर की सतह पर बने ट्रेड, कितने घिस चुके हैं और क्या टायर बदलने की नौबत आ गयी है?

इसके अलावा टायर पर सीधी सादी भाषा में यह भी लिखा रहता है कि उसमें हवा का दबाव ज़्यादा से ज़्यादा कितना किया जा सकता है. अगर M&S लिखा मिल जाए तो वह टायर Mud & Snow के लायक है. कुछ टायर्स में निर्माण सामग्री का भी उल्लेख किया जाता है.

टायर की ढेर सारे तकनीकी विवरण यहाँ क्लिक कर देखे पढ़े समझे जा सकते हैं.

इतनी पढ़ाई ठीक है ना?

क्या आपने अपनी कार के टायर को कभी पढ़ा है?
4.5 (90%) 6 votes

क्या आपने अपनी कार के टायर को कभी पढ़ा है?” पर 14 टिप्पणियाँ

    • :Heart:
      शुक्रिया सोनी जी

      देखी आपकी वेबसाइट
      लेकिन उसको बनाने वाले किधर गायब हो गए !

  1. फिर एक बार कमाल का लेख । आपके ब्राउजर के हिस्ट्री रिकार्ड्स निकालने पड़ेंगे । पता नहीं कहाँ कहाँ से ये सब निकाल लाते हैं । आपकी मेहनत, ज्ञान और लगन को सलाम ।
    टिप्पणीकर्ता नवीन प्रकाश ने हाल ही में लिखा है: गूगल प्ले से एप्प (apk) फाइल डाउनलोड करेंMy Profile

    • :THANK-YOU:
      शुक्रिया नवीन जी

      स्नेह बनाए रखिएगा

  2. इन सब अद्भुत जानकारियों के लिए आपका धन्यवाद ।

  3. टायरों के बारे में इतनी बेहतरीन जानकारी पहली बार पढ़ने को मिली ,धन्यवाद

  4. टायर पर इतना कुछ लिखा होता है यह तो पता था और कुछ मतलब भी होगा अनुमान था पर इतनी सटीक जानकारी । अब गाड़ी के टायर में यह जरूर चेक करेंगे
    जानकारी के लिए धन्यवाद ।

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ