दिल्ली में भूकम्प से भारी तबाही!? राउरकेला में भी संभावना?

पिछले कई दिनों से भारत में तबाही मचा देने वले भूकम्पों की अफ़वाहें, खबरें, भविष्यवाणियाँ पढ़-सुन रहा हूँ। आम तौर पर जन सामान्य की मंगलकामनाओं की दुआ लिए मैं अपने अगले कार्य की ओर अग्रसर हो जाता हूँ किन्तु आज कुछ सुबह-सुबह चीन और अमेरिका में आए भयंकर तूफ़ान, बारिश की खबरों पर नज़र पड़ी तो मन विचलित हो उठा और अगली ही फुरसत में कोयम्बटूर के श्री आर शन्मुगसुन्दरम द्वारा की जा रही भविष्यवाणियाँ देखनी प्रारम्भ की। (जिन्हें इस बारे में अनभिज्ञता हो वे मेरी पिछले दो आलेख देख सकते हैं 1: एक दीवार के बल पर भूकम्प की सटीक भविष्यवाणी? बिना किसी यंत्र के!? तथा 2: संगीता पुरी जी की भूकम्प वाली भविष्यवाणियाँ तथा एक अन्जान विज्ञान का अनुमोदन)

(स्वत: अपडेट होता एशिया क्षेत्र में पिछले घंटे से पिछले सात दिनों का भूकम्पीय लेखा-जोखा)

इस माह उन्होंने 1 अप्रैल को गणना द्वारा बताया था कि 6 से 7 की तीव्रता का भूकम्प अफ़गानिस्तान-तज़ाकिस्तान (36.5N 71.1E) में तथा 2 से 3 तीव्रता का भूकम्प तमिलनाड़ु में बरिश के साथ या बिना बारिश के आ सकता है। नतीज़ा आया 1 अप्रैल को ही जब 4.8 तीव्रता वाला भूकम्प आया अफ़गानिस्तान (36.515 70.929) में और 5 अप्रैल को तमिलनाड़ु में भारी बारिश हुई।

4 अप्रैल को उनका कहना था कि 5 से 6+ की तीव्रता का भूकम्प कच्छ, गुजरात (23.51N 70.56E), सिक्किम, भारत (27.3N 88.2E) में तथा 3 के आसपास की तीव्रता का भूकम्प सिलोन्दी, मध्य प्रदेश (23.33N 80.33E) में आ सकता है। परिणाम दिखा 5 अप्रैल को जब कच्छ के चोबारी/ चोबरी (23.45N 70.41E) में 3 की तीव्रता का भूकम्प आया और 7 अप्रैल को सिक्किम से सटे नेपाल के सरमाथन-सिंधुपाल्चोक (27.93 85.61) में 4.1 का भूकम्प महसूस हुआ।

5-6 अप्रैल को उनकी गणना कह रही थी कि 5 से 6 तीव्रता का भूकम्प नेपाल (29.7N 80.3E) बांगलादेश (24.7N 90.5E) में आयेगा। हुआ यह कि 5 अप्रैल को उत्तराखण्ड के पिथौरागढ़ (29.74N 80.37E) में 4.1 की तीव्रता तथा 7 अप्रैल को म्यांमार के क्यूंदा (22.11N 94.81E) में 4.4 की तीव्रता का भूकम्प आया।

7 अप्रैल को उनका निष्कर्ष था कि 5.5 से 7 की तीव्रता रहेगी म्यांनमार (22.7N 99.1E), असम – मेघालय (26.0N 90.2E) में आने वाले भूकम्प की और 5 से 6 रहेगा चमोली- उत्तराखंड (30.5N 79.1E) में असर। नतीज़ा दिखा 8 अप्रैल को जब म्यांमार (21.6N 95.2E) में 4.8 की तीव्रता रही भूकम्प की और आज 19 अप्रैल को भूकम्प था म्यांमार (24.512 94.622) मे 4.5 की तीव्रता का

8-9 अप्रैल को वह कह रहे थे कि बारिश या बिना बारिश हो सकता है 2 से 3 तीव्रता का भूकम्प तमिलनाड़ु- केरल- कर्नाटक -आंध्र प्रदेश में और 14 15 अप्रैल को हुई अच्छी खासी बारिश .तमिलनाड़ु- केरल- कर्नाटक के क्षेत्रों में

यह वेधशाला मात्र 0 से 180E डिग्री अक्षांश (लगभग) तथा 30S 50N देशांतर (लगभग) के मध्य घटित होने वाली घटनायों की भविष्यवाणी, कोयम्बटूर में श्री आर शन्मुगसुन्दरम द्वारा स्थापित वेधशाला के स्थान पर उपलब्ध पर्याप्त सूर्य की रोशनी से संभव हो पाती है। इसलिये कभी कोई त्रुटि हो सकती है।दर्शायी गयी जानकारी पर अमल करने की जिम्मेदारी स्वयं विजिटर की होगी और संभावित स्थान को छोड़ कर जाने आदि के लिये ही कहा जाता है, ही कहा जाएगा। सामान्यतया, बताये गये स्थान में, +/- 3 डिग्री अक्षांश/ देशांतर का अंतर और तीव्रता +/- 1 पाया जा सकता है।

10 अप्रैल की भविष्यवाणी देख मैं हैरान हुआ क्योंकि राऊरकेला कभी भी मेरे सामने नहीं आया था भूकम्प के नाम पर! उनका कहना है कि आंशिक गणना के तहत उड़ीसा के राऊरकेला (22.20N 84.90E) में 6+ तीव्र या हरियाणा (29.00N 77.10E) में 6+ तीव्र या काश्मीर-जिन्जियांग सीमा (36.3N 76.5E) में 4 से 6 तीव्र हो सकता है भूकम्प, लेकिन संभावना क्षीण है क्योंकि गणना आंशिक थी। अभी तक का परिणाम है 11 अप्रैल को काश्मीर के बारामूला,तंगधार (34.580 73.870) में 3.3 तीव्रत

लेख का मूल्यांकन करें

दिल्ली में भूकम्प से भारी तबाही!? राउरकेला में भी संभावना?” पर 15 टिप्पणियाँ

  1. हम तो बस यही दुआ कर सकते है कि प्रभु जी सब की रक्षा करें !!

  2. खुदा खैर करे!

  3. इन विधाओं का उपयोग भी होना चाहिये और बढ़ावा भी मिलना चाहिये..

  4. पुरी दुनिया मे सब सही रहे यही प्राथना करते हे जी

  5. आपने बिलकुल सही कहा पाबलाजी। किन्‍तु प्रभु। भूकम्‍प 'सम्‍भावना' कब से हो गया। यह तो 'आशंका' है।

  6. प्राकृतिक विपत्ति से बचे रहें …इस शक्ति के आगे हम तिनका भी नहीं है ! शुभकामनायें !

  7. तेरी है ज़मीं, तेरा आसमां,
    तू बड़ा मेहरबां, तू बख्शीश कर…

    (वैसे किधरे ऐ तै नहीं हो रया, मैं, तुसी, गुरुदेव समीर जी ते बरेली वाले धीरू भाई किधरे कठे जाके खलो गए होइए)…

    जय हिंद…

  8. जाट देवता की राम-राम,
    अगर दिल्ली में भूकम्प आया और वो भी दिन में, साथ ही दिन हो बिना छुट्टी का, तो फ़िर क्या होगा कौन जाने?
    दुआ करो कि उसकी ताकत कम हो?
    जै राम जी की।

  9. बम्बई के बारे में क्या कहना है उनका? सिर्फ़ भूकंप ही बताते हैं या राष्ट्र के स्वास्थय के बारे में भी कुछ कहते हैं?

  10. जब भी आये, सावधानी तो रखनी ही होगी।

  11. बात तब बने जब यह अलानियाँ कह दिया जाय कि फला तारीख को फला जगह भूकंप आके रहेगा -आने के बाद ऐसे आलेखों का कोई औचित्य मुझे समझ में नहीं आता ..
    मेरी मानें तो मई माह तक दिल्ली में ३ रिक्स्टर से जायदा का कोई भूडोल नहीं आने वाला ?
    आप इसका खंडन कराईये !

  12. राजधानी आजकल वैसे भी घोटालामय हो रही है। यह क्‍या किसी सुनामी भूकंप से कम है

  13. सर पिछले कुछ समय से चल रही भूगर्भीय गतिविधियां बता रही हैं कि जल्दी ही कुछ बडा , कुछ बेहद भयावह और कुछ ज्यादा खतरनाक सा होने वाला है ..अब इंसान को अपनी गलतियों का खामियाजा भुगतने का समय आ गया लगता है

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ