दीवार के आर-पार देखने वाला राडार आया

इजरायल के वैज्ञानिकों ने एक ऐसे राडार का आविष्कार किया है जो दीवार के पार देखने की क्षमता रखता है। इस राडार से दुनिया भर में सैन्य व राहत अभियानों के दौरान काफी मदद मिलेगी। इजरायल की एक फर्म केमेरो ने इस तकनीक को विकसित किया है। केमेरो इस तकनीक को कई देशों की सेनाओं व पुलिस को बेच भी चुकी है। यह उपकरण विशेष सैन्य बलों या किसी आग लगी इमारत में फंसे लोगों का पता लगाने सरीखे मानवीय अभियानों के दौरान काफी मददगार साबित हो सकता है।

केमेरो के तकनीकी निदेशक आमिर बीरी ने कहा, ‘दीवार के पार देखने का विचार साठ के दशक से ही लोगों के जेहन में है। लेकिन यह हकीकत अब बन पाया है।’ केमेरो कंपनी का यह राडार हाल ही में सामने आई Ultra Wide Band (यूडब्ल्यूबी) तकनीक और विशेष ‘लागरिथ्म’ पर आधारित है। यह अपने डिटेक्टर द्वारा संकलित किए गए डाटा से दीवार के पार मौजूद किसी भी चीज की उचित तस्वीर उतार सकता है।

नीचे दिये लगभग साढ़े तीन मिनट के वीडियो में इसका प्रयोग प्रदर्शन देखा जा सकता है।

केमेरो ने इससे पहले भी इस तरह का एक उपकरण बनाया था। करीब दस किग्रा वजन वाला वह बेडौल उपकरण इस्तेमाल के लिहाज से उपयुक्त नहीं था। लेकिन, कंपनी का नया उपकरण छोटा, हल्का और इस्तेमाल में काफी आसान है। हालांकि यह राडार कई तरह की दीवार के पार देखने की क्षमता रखता है। लेकिन, ठोस धातु से बनी किसी मालवाहक जहाज सरीखी दीवारों पर यह काम नहीं करता।

कुछ अधिक जानकारी यहाँ देख सकते हैं. तकनीक का संक्षिप्त विवरण भी (.pdf फाइल में) देखा जा सकता है।

लेख का मूल्यांकन करें

एक टिप्पणी on “दीवार के आर-पार देखने वाला राडार आया

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ