निकल पड़ा हूँ यात्रा पर, कहीं आपके शहर में तो नहीं पहुँच गया!?

आज यह लगभग एक तरह की माईक्रो-पोस्ट ही होगी।

पिछले कुछ सप्ताहों से, सड़क मार्ग द्वारा, उत्तर-पश्चिम भारत भ्रमण की योजना बन रही थी। जिसमें जबलपुर – इलाहाबाद – लखनऊ – नैनीताल – दिल्ली – अमृतसर – जयपुर – अहमदाबाद – सूरत – मुम्बई – पूणे – नागपुर का मार्ग शामिल था। तैयारी थी 18 जून को प्रारंभ करने की। संबंधित शहरों के कुछ ब्लॉगर साथियों को सूचना भी थी।

ऐन वक्त पर एक अनचाहा चिकित्सीय कार्य आ पड़ा। उससे पहले सलाहें मिल चुकी थीं कि बरसात के मौसम में दिक्कत होगी, नदी – तालाब -झील – जलप्रपात की प्राकृतिक सुंदरता नहीं मिलेगी, अभ्यारण्यों में प्रवेश नहीं मिलेगा, पहाड़ों पर गाड़ी चलाना मुश्किल होगा आदि आदि। इधर नई-नवेली मारूति इको के लिए, कम्पनी द्वारा 4 माह का इंतज़ार करने को कह दिया गया।

योजना पर पुन: विचार करते हुए पहले तो अवकाश की तिथियाँ आगे बढ़ाई गईं फिर यह रद्दोबदल किया गया कि मुम्बई की ओर के मैदानी हिस्सा का लुत्फ़ अभी उठाया जाए, बाकी स्थान का आनंद लिया जाए नई गाड़ी आने के बाद नवम्बर में।

इस तरह हम चल पड़े हैं अब अपनी पुरानी मारूति वैन में मुम्बई की ओर। संभावित शहर व मार्ग कुछ इस तरह के होगें।

इच्छा तो रहेगी कि मार्ग में अधिक से अधिक ब्लॉगर साथियों से, हिन्दी ब्लॉगों से संबंधित आने वाली कुछ योजनायों पर उनके विचार जानते हुए प्रत्यक्ष रूप से मुलाकात कर पाने का अवसर मिले। कुछ साथियों से सम्पर्क तो है, किन्तु अन्य इच्छुक साथी यहाँ क्लिक कर अपना संदेश मोबाईल नम्बर सहित मुझे भेज सकते हैं।

बीएसएनएल के जरिये पूरे समय ऑनलाईन रहने की कोशिश तो है। GPS का पूरा फायदा उठाया जायेगा, GTalk पर मौज़ूदगी रहेगी, शहर स्तर की जानकारी तो बाईं ओर ‘इस वक्त इस शहर में’ शीर्षक सहित इस निचले चित्र पर अपने आप ही अपडेट होती रहेगी।

ब्लॉग जगत पर सक्रियता पुन: प्रारम्भ होगी एक नई योजना के आकार लेने के साथ। तब तक के लिए विदा!

आप पढ़ सकते हैं यात्रा के पहले की तैयारी, नोकिया पुराण और ‘उसका’ दौड़ कर सड़क पार कर जाना

लेख का मूल्यांकन करें

निकल पड़ा हूँ यात्रा पर, कहीं आपके शहर में तो नहीं पहुँच गया!?” पर 28 टिप्पणियाँ

  1. Bsnl kaa data card badhiya kam kar raha hai. maine chek kar ke dekh liya hai.is rut par.

    parson maine apko bahut fon lagaya lekin laga hi nahi. ho sakata tha raaste me kahin mulakat ho jati.

    lekin ab ham pahunch rahe hain vapas.
    fir milte hain breck ke baad

    yatra mangalmay ho.

  2. आनंदमय यात्रा की शुभकामनांए.

  3. आनंदमय यात्रा की शुभकामनांए.

  4. आदरणीय इसमे जयपुर नही है कही नक्शे मे. या हमे दिखा नही

  5. हम तो राह तकते ही रह गए आपके…लंगड़ा अपने भाग को कोस रहा है !

  6. हमारी तो ढेर सी शुभकानाये है जी आप की यात्रा शुभ हो मजे दार हो, ओर खुब सारे ब्लांग मित्रो से मिलन हो

  7. यात्रा के लिए शुभकामनाएँ!

  8. बहुत बहुत शुभकामनायें …यात्रा मंगलमय हो !!

  9. ओ दूर के मुसाफिर हम को भी साथ ले ले रे,
    हम रह गए अकेले, हम को भी साथ ले ले…

    जय हिंद…

  10. वाह ..यात्रा की शुभकामनाये ..और गज़ब की हाई टेक अपडेटिंग है आपकी मान गए.

  11. अरे हम बैतूल क्या गये आप निकल ही गये हम ने तो सोचा था हरी झंडी हम दिखायेंगे खैर .. चलिये शुभकामनायें दे देते हैं । कब तक वापसी है ?

  12. वाह, आप तो हमारे शहर पहुँच गए। आशा है मिलना होगा।
    घुघूती बासूती

  13. तो आज आप नवी मुम्बई मे है …वाह फोटो-शोटो चल रहे है या नहीं ?

  14. paabla ji …ham to aapka intzaar kar rahe the….pata chala ki aapke saath durghatna ho gaee…aap jald se jald swasth ho jaaen…yahee kaamana kartee hu..

  15. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

  16. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

  17. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

  18. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

  19. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

  20. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

  21. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

  22. यात्रा शुभ हो । जन्म दिन की अनंत शुभ कामनाएं ।

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ