हाईकोर्ट की 19 फर्जी वेबसाईट्स का सहारा ले रहे हैं हैकर

पिछले सप्ताह एक सामान्य सी ई-मेल मिली मुझे जिसमें बस दो मासूम सी पंक्तियाँ लिखी हुई थीं कि अपने शहर में किराए का मकान तलाशने के लिए Click Here .

एक सामान्य सी जिज्ञासा से जब माऊस कर्सर लिंक पर ले जा कर देखना चाहा कि यह लिंक है कहाँ की? किसकी है? तो दिखा कि यह किसी वेबसाईट की लिंक ना हो कर जावास्क्रिप्ट की कड़ी है।

जिसका मतलब दुर्भावना ग्रस्त वायरस या अन्य प्रोग्राम भी हो सकता है। चूंकि मैं अपने एक मित्र के कम्प्यूटर पर था सो वह लिंक क्लिक किए बिना छोड़ दी।

 

आज इससे मिलती जुलती खबर दिखी कि चीनी हैकरों ने कंप्यूटर वायरस फैला कर डाटा चुराने के लिए भारत के 19 हाईकोर्ट की वेबसाइट्स से मिलती-जुलती वेबसाइट्स बनाई हैं। इस वेबसाइट्स में जाने पर कंप्यूटर सिस्टम नष्ट हो जाता है।

दरअसल पटना हाईकोर्ट की फर्जी वेबसाइट के जरिए नौकरी देने का घोटाला सामने आने के बाद जांच में इन बेवसाइट्स का पता चला।

हाल में सीबीआई की साइबर अपराध शाखा के विशेषज्ञों को इन कथित हैकरों द्वारा बनाई गई जो डिजाइन दिखाईं गई उसमें वास्तविक दिल्ली हाईकोर्ट की वेबसाइट का पता दिल्ली हाईकोर्ट डॉट एनआईसी डॉट इन है जबकि फर्जी वेबसाइट का पता दिल्ली डॉट हाईकोर्ट डॉट इन है। वेबसाइट के ‘स्क्रिप्ट’ से सर्वर की लोकेशन डॉट .cn (चीन के लिए प्रयुक्त) पता चली है। वायरस प्रोग्राम के स्क्रिप्ट से तैयार ये साइट्स खतरनाक साबित हो सकती हैं क्योंकि यदि किसी ने इस वेबसाइट को खोला तो वायरस उनके सिस्टम को नष्ट कर सकते हैं।

इस वायरस को इस तरह बनाया गया है कि कंप्यूटर वैसे तो सामान्य तरीके से काम करेगा। लेकिन हैकर बिना व्यक्ति की जानकारी के कोई भी सूचना उसके कंप्यूटर से ले सकते हैं। यह वेबसाइट्स ऐसी कोई वित्तीय जानकारियां नहीं मांगती, जिससे व्यक्ति को संदेह हो।

जब इस वायरस स्क्रिप्ट वाली वेबसाईट्स की विस्तृत समीक्षा की गई तो पता चला कि इसका उद्देश्य विभिन्न हाईकोर्ट की वेबसाइट्स पर जाने वालों के कंप्यूटरों में सेंध लगाना है। आम तौर पर सीबीआई, पुलिस, सरकारी कानून विभागों के वकील और याचिकाकर्ता इन साइट्स पर जाते हैं। इनके कंप्यूटरों पर नियंत्रण हासिल करना भी हैकर्स का उद्देश्य हो सकता है।

 आप खबरदार हैं ना!?
लेख का मूल्यांकन करें

हाईकोर्ट की 19 फर्जी वेबसाईट्स का सहारा ले रहे हैं हैकर” पर 5 टिप्पणियाँ

  1. जागरुक रहना जरुरी है, चीनी हैकरों का दल बदनाम है हैकिंग के लिए।

  2. आज का आकर्षण बना है आपका ब्लोग है ज़ख्म पर और गर्भनाल पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा । http://redrose-vandana.blogspot.com

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ