ब्लॉग पर कमाई करवा सकता है, टूलबार जैसा पिटारा

*** समय के साथ Conduit की यह टूलबार सुविधा बंद हो गई है

आपने अक्सर ही गूगल टूलबार या याहू! टूलबार जैसे कई जाने-अन्जाने टूलबार विभिन्न कम्प्यूटरों के ब्राऊज़रों पर लगे हुये देखे होंगे। एक सामान्य सेटअप में यह टूलबार ब्राऊज़र के एड्रेस बार के बिल्कुल नीचे लगा हुया दिखता है, अपने रंग-रूप को ब्राऊज़र के रंग से संयोजित करते हुये।

कई बार तो मैंने चारचार टूलबार लगे देखें हैं ब्राऊज़र पर! पिछले दिनों जब पिटारा टूलबार के दस हजार डाऊनलोड पूरे होने की घोषणा हुयी तो कईयों ने हर्ष ध्वनि की। ताज़ा ताज़ा ब्लॉगिंग में कूदी एक महिला मित्र ने जिज्ञासा के साथ चुहलबाजी करते हुये प्रश्न किया कि आप तो कहते हैं दुनिया में कुछ भी मुफ्त नहीं मिलता।

ऐसे कई टूलबार हैं अदालत का, हमर छत्तीसगढ़ का , ब्लॉगवाणी का, हिंदी गाथा का, इस इंटरनेट से आमदनी वाले ब्लॉग का। और भी कई हैं। यह सब मुफ्त में तो मिल रहे, इन्हें क्या मिलता है? जो कुछ मैंने इस बारे में साझा किया, सोचा यहाँ भी लिख दूँ।

मूल तौर पर टूलबार, विषय विशेष संबंधित बुकमार्क व शॉर्ट-कट्स को एक स्थान पर रखे जाने की सुविधा है। लेकिन कस्टमाईज़ सर्च का विकल्प इसके द्वारा आय के द्वार खोल देता है।
मात्र कंड्यूट डॉट कॉम के ही 180,000 टूलबार बनाये जा चुके हैं, जिसे 3 करोड़ 80 लाख व्यक्ति इस्तेमाल कर रहे हैं। प्रति सेकेंड 6 उपयोगकर्ता का औसत है। इस समय भी कोई टूलबार डाऊनलोड हो रहा है।
(इस संबंध में एक दिलचस्प वेबसाईट कम से कम दस मिनट तक लगातार देखिये जो दुनिया भर के उपयोगकर्तायों की तमाम गतिविधियों का जीवंत डाटा, ग्लोब पर दिखाती है। हो सकता है उसमें आपकी कोई ‘हरकत’ दिख जाये!)
हम अक्सर हिंदी ब्लॉग के जरिये कमाई न होने की बात करते हैं। हालांकि गूगल एडसेंस दा जवाब नहीं लेकिन वर्तमान परिस्थितियों में एडसेंस के अलावा भी कई तरीके हैं जिनका इस्तेमाल कर कुछ कमाई की जा सकती है। टूलबार बना कर, उसे डाउनलोड करवा कर, उपयोग करवा कर जो आय होती है, वह कुछ इस प्रकार है।
टूलबार बनाने के लिए रजिस्टर करवाने पर आपके PayPal खाते में 100 डॉलर (लगभग पाँच हजार रुपये) आ जायेंगे। लेकिन यह 100 डॉलर आपको तब तक नहीं मिलने वाले जब तक आप के खाते में कुल रकम 250 डॉलर (लगभग साढ़े बारह हजार रुपये ) नहीं हो जाती। यह रकम तब तक आपके खाते में जमा होती रहेगी।

हर एक नये टूलबार की स्थापना पर, भौगोलिक स्थिति के अनुसार आपके खाते में रकम जुड़ेगी, उपयोगकर्ता आपके टूलबार से सर्च करेगा व इंगित परिणाम को क्लिक करेगा। मतलब यह हुया कि न तो ब्लॉग पर कुछ लिखने की ज़रूरत न ही कमेंट करने की आपाधापी।

बस अपने टूलबार का प्रचार कर उसके डाउनलोड बढ़वाइये और आमदनी कीजिये।

इसके लिए अपने ब्लॉग/ साइट पर बैनर विज्ञापन जोड़ें, अपने ब्लॉग/ साईट के ऊपरी हिस्से में टूलबार डाउनलोड लिंक लगायें, ईमेल द्वारा इसकी जानकारी दें, इस बारे में डाउनलोड साइटों, मंचों, ब्लॉग्स, चैट पर चर्चा करें, अपने ईमेल हस्ताक्षर में टूलबार डाउनलोड पेज की कड़ी जोड़ें।

उस ताज़ा ताज़ा ब्लॉगिंग में कूदी एक मित्र की प्रतिक्रिया थी बहुत झंझट है ना!?
जनाब पैसे ऐसे थोड़े ही कमाये जाते हैं। गूगल एडसेंस (Google Adsense)तो यह सब करने की इज़ाज़त ही नहीं देता!! और फिर एडसेंस (Adsense) में तो इससे ज़्यादा मेहनत लगती है। पिटारा टूलबार को दस हजार डाउनलोड, जगदीश भाटिया जी की वर्षों की मेहनत का नतीज़ा है। आज इस टूलबार के रोज़ाना 25 से अधिक डाउनलोड होते हैं यानि प्रति घंटे 1 !
आप भी यदि इच्छुक हों तो इसके लाभ के बारे में जानकारी यहाँ से लें, FAQ की जानकारी यहाँ से लें या फिर सीधे ही Conduit.com की वेबसाईट पर जा कर आवश्यक जानकारी दीजिये, अपना टूलबार डिज़ाईन कीजिये, आवश्यक फीचर जोड़िये, बैनर चुनिये, अपने ब्लॉग पर कोड लगाइये।
हो सकता है कल को आपके टूलबार का भी हजारों की तादाद में इंस्टालेशन हो तो, हम भी तालियाँ बजायें!
*** समय के साथ Conduit की यह टूलबार सुविधा बंद हो गई है
ब्लॉग पर कमाई करवा सकता है, टूलबार जैसा पिटारा
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

ब्लॉग पर कमाई करवा सकता है, टूलबार जैसा पिटारा” पर 14 टिप्पणियाँ

  1. आपकी सूचना के लिए आभार…पर मुझे अभी तक उस पहले हिंदी ब्लॉगर से मिलना बाकी है..जो ब्लॉग पर विज्ञापनों की कमाई से एक कप चाय भी पाता हो. अलबत्ता, ब्लॉग की एकरसता के तोड़ने के बहाने ये अच्छे हैं.

  2. दावत के बाद, मय सबूतों के, चाय के दसियों कप** पीने के लिए, भिलाई में आपका स्वागत है।

    (**नियम व शर्तें लागू)

    🙂

  3. @काजलकुमार
    अब तो भिलाई जाना ही पड़ेगा पाबला जी से मिलने। हम तो मिल आए हैं।

  4. पाबला जी कमाल की जानकारी दी आपने ..मुझे तो जरा भी गुमान नहीं था की इस विषय पर भी आपको एक महारत हासिल है..मित्र काजल कुमार की टिप्प्न्नी से मुझे कोई आश्चर्य नहीं हुआ…दरअसल ये भी मुझ जैसे सैकडों उन ब्लोग्गेर्स में शामिल हैं..जो कलम उठाते हैं..लिख डालते हैं…और फिर दोबारा कलम उठाते हैं..या तो तिप्प्न्नियाँ करने के लिए या फिर अगली पोस्ट के लिए..अगली पोस्ट के लिए उठाते होंगे..क्यूंकि तिप्प्न्नियों के लिए तो सिर्फ उंगलियाँ चलती हैं..

  5. pablajee, aapne bahut achhi jankari di hai..par mere kuch sawal baaki hai..please aap apna mobile no. bheje…aabhari rahunga..(suresh.cartoon@gmail.com)

  6. रोचक जानकारी देने के लिए धन्यवाद वीनस केसरी

  7. यदि भिलाई तक आयेंगे तो रायपुर भी पधारें। कुछ सबूत मैं भी दे सकता हूँ।

  8. पाबला जी..
    पहली बार आपसे बात हो रही है सो सात-श्री-अकाल जी..
    भाई जी गलती से मेरा भी एक ब्लॉग "मेरी लेखनी..मेरे विचार" है जिसे कुछ लोग देख भी लेते हैं..
    मैं भी चाहता हूँ कि उससे कुछ आय भी हो जाये.. मगर उसके डेशबोर्ड के Monetize में देख कर भी पहली बार शुरू कैसे करूँ यह समझ नहीं आ रहा है..
    अगर आप path या इसी तरह कि कोई और मदद कर दें तो आभारी रहूँगा..
    जोगेंद्र सिंह..
    jogendra777@gmail.com

  9. आपका ब्लॉग जानकारी का खजाना है ।
    इसमें एक चीज को आप और जोड़ सके तो सोने पे सुहाग हो जायेगा ।
    यात्रा वृतान्त चित्रो बिना अधूरे से लगते है । आपकी लेखनी यात्रा को काल्पनिक दृष्टी देती है और चित्र उसे सजीव बनाते है ।
    तो अगर आप अपने ब्लॉग में फोटोग्राफी संबंधी जानकारी का भी एक विषय को जोड़े तो अच्छा रहेगा ।
    किसन बाहेती
    ९८३०४८७००९

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons