ब्लॉग मंडली में शामिल हो कर धूम मचायें रंग जमायें



प्रत्येक माह के भारतीय पर्व पर हिन्दी ब्लॉगिंग को समर्पित 11 वेबसाईट्स लाए जाने के प्रयासों में अब तक जनवरी में ब्लॉगस इन मीडिया, फरवरी में ब्लॉग मंच को आपके समक्ष लाया जा चुका है। इस बार भारतीय रंग-पर्व होली के अवसर पर आप शामिल हो सकते हैं ब्लॉग मंडली में।

ब्लॉग मंडली मूल रूप में सार्वजनिक लिंक डायरेक्टरी हैं। जिसमें उपयोगकर्ता, अपनी या मित्रों की पसंदीदा ब्लॉग पोस्टों, वेबसाईट लिंक्स को प्रदर्शित कर सकता है, व्यक्तिगत खाते में सहेज सकता है, दूसरों की लिंक पर अपनी पसंद बतला सकता है, नापसंदगी के रूप में अपनी प्रतिक्रिया दे सकता है और भी बहुत कुछ है यहाँ।

हिन्दी ब्लॉगिंग में यह अपनी तरह का पहला वेबपोर्टल है जिसमें अंग्रेजी के बदले हिन्दी इंटरफेस का उपयोग किया जा रहा है। इसका डिज़ायन विश्वप्रसिद्ध लिंक डायरेक्टरी Digg की तर्ज़ पर है। हालांकि ऐसा ही प्रयोग इंडली के रूप में किया जा रहा है किन्तु उसमें संचार की भाषा अंग्रेजी में है।

इसे कुछ इस तरह परिभाषित किया जा सकता है कि ब्लॉगरों का एग्रीगेटर, ब्लॉगरों द्वारा, ब्लॉगरों के लिए!

हालांकि इसका कुछ कार्य अभी बाकी है किन्तु आज से यह आप सभी के प्रयोग के लिए उपलब्ध है कोई कमियाँ या सुझाव हों तो blogmandali@gmail.com पर अवश्य बताएँ।


इसका लोगो अपने ब्लॉग पर लगा कर इस तक अपनी पहुँच आसान बनाने के लिए इस कोड का प्रयोग करें



आईए ब्लॉग मंडली में शामिल हो कर धूम मचाएँ रंग जमाएँ

लेख का मूल्यांकन करें

15 comments

  • ललित शर्मा says:

    वाह भाई साहब, मेरे जन्मदिन पर आपने सुंदर गिफ़्ट दिया है। आभार

  • प्रमोद ताम्बट says:

    वाह जनाब!!! शानदार। बहुत—बहुत बधाई हो।

  • यशवन्त माथुर says:

    मैं इस पर पंजीकरण चाहता हूँ लेकिन उपयोगकर्ता का नाम जब डालता हूँ तब यह सन्देश आता है-"अनुरोध किए गए उपयोगकर्ता नाम में अमान्य वर्ण का उपयोग किया गया है"
    मैंने हिंदी और अंग्रेजी दोनों में अपना नाम डालने की कोशिश की लेकिन असफल रहा.

  • बी एस पाबला says:

    @ यशवंत जी,

    कहीं ऐसा तो नहीं कि आप उस स्थान पर अपना ई-मेल डाल रहे हों। क्योंकि पंजीकरण तो लगातार हो रहे हैं

  • यशवन्त माथुर says:

    सर!मैं वहाँ अपना नाम डाल रहा हूँ.ई मेल का ओप्शन तो उसके नीचे दिया हुआ है.

  • नवीन प्रकाश says:

    बड़े संकोच के साथ एक बात आपके सामने रखना चाहूँगा
    मुझे लगता है की आपको से ब्लॉग मंच और ब्लॉग मंडली के उपयोग और उपयोगिता पर विस्तार से लेख देना चाहिए .
    क्यूँ ? जैसा की मैंने ब्लॉग मंच के साथ देखा ऑनलाइन फोरम एक बहुत उपयोगी साधन है पर इसके उपयोग के तरीकों और इसके लाभ की अधिक जानकारी न होने की वजह से इसका वैसा उपयोग नहीं हो पा रहा जैसा होना चाहिए था .
    शायद ये कहूँ की हीरे का उपयोग पेपरवेट की तरह हो रहा है .

    अभी ब्लॉग गर्व और ब्लॉग धारा भी आने वाले हैं जो शायद दो अलग तरह के विशुद्ध ब्लॉग एग्रीगेटर होंगे पर ब्लॉग मण्डली के कुछ विकल्प इसे अलग और बेहतर साबित करने में सक्षम है .
    ब्लॉग मण्डली में भी काफी सम्भावनाये है पर डरता हूँ की इसे इन्डली की तरह सिर्फ एक और ब्लॉग एग्रीगेटर की ही तरह उपयोग में लिया जा सकता है .

    वैसे ये विषय विस्तार चाहता है पर आशा है आप मेरा मंतव्य समझ गए होंगे .

  • Raviratlami says:

    बधाई! व शुभकामनाएँ.
    इसे लोकप्रिय होने में भले ही थोड़ा समय लगे, पर आने वाले वर्षों में इसकी उपयोगिता व लोकप्रियता अत्यधिक रहेगी.
    और, पोस्टों की भीड़ में इसी तरह के मानव-पसंद निर्मित एग्रीगेटर ही ज्यादा काम आएंगे, और ज्यादा सेंपलिंग के मान से ज्यादा विश्वसनीय भी!

  • वन्दना says:

    मैं इस पर पंजीकरण चाहती हूँ लेकिन उपयोगकर्ता का नाम जब डालती हूँ तब यह सन्देश आता है-"अनुरोध किए गए उपयोगकर्ता नाम में अमान्य वर्ण का उपयोग किया गया है"
    मैंने हिंदी और अंग्रेजी दोनों में अपना नाम डालने की कोशिश की लेकिन असफल रही.

  • बी एस पाबला says:

    सभी जिज्ञासु मित्रों के लिए विनम्र सूचना:

    सारी गलतफ़हमी हिन्दी के शब्दों को लेकर हो रही।
    इंगित स्थान पर
    इच्छित
    उपयोगकर्ता नाम
    प्रविष्ठ करना है
    ना कि
    उपयोगकर्ता का नाम

    अब यही सब अंग्रेजी में लिखा होता
    कि
    username
    तो क्या वहाँ
    Name of User
    लिखा जाता?

    किसी भी ऐसे स्थान पर
    bspabla
    स्वीकार्य होगा
    bs pabla
    को अस्वीकार कर दिया जाएगा

    फिर चाहे वह स्थान
    जी-मेल हो, याहू हो, माईक्रोसॉफ़्ट हो
    या फिर हो
    ब्लॉग मंडली

    इसका मतलब यही हुआ कि:
    उपयोगकर्ता नाम वाले स्थान पर
    बिना किसी रिक्त स्थान के
    कोई शब्द लिखें
    फिर चाहे वह हिन्दी में हो या अंग्रेजी में

    यशवन्त जी वाले मामले में ऐसा ही हुआ था, उनकी समस्या एक मिनट में ही सुलझ गई थी

  • बी एस पाबला says:

    @ नवीन प्रकाश जी

    संकोच कैसा!?
    आपका सुझाव बहुत ही बढ़िया है, मैं स्वयं भी इस दिशा में सोच रहा था।
    समय निकाल कर इस पर अमल करता हूँ

    आभार आपका

  • बी एस पाबला says:

    @ Raviratlami जी

    सही कहा आपने
    समय तो कुछ लगेगा ही

  • anitakumar says:

    congrats….badhiya concept

  • ZEAL says:

    आपका यह प्रयास भी सराहनीय है। यह पोस्ट भी बहुत उपयोगी लगी , आभार।

  • Bhaskar says:

    बधाई! व शुभकामनाएँ.

  • Kanishka Kashyap says:

    वाह ! बहुत सुन्दर .. ऐसे किसी मंच की आवश्यकता थी. यह अत्यंत सराहनीय कदम है और इसके लिए पाबला जी को हार्दिक शुभकामनाएं .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
[+] Zaazu Emoticons Zaazu.com