मानव-कंप्यूटर, एक दूसरे में घुल-मिल जायेंगें!२०२० तक!?

क्या आप नहीं चाहते कि वर्ष 2020 तकइंटरफेसऔरयूजरजैसे शब्दों का प्रचलन समाप्त हो जाए? ऐसा सम्भव हो सकता है, मानव जीवन में कंप्यूटर के तेजी से बढ़ते दखल के मद्देनजर। इस बात की भविष्यवाणी, कंप्यूटिंग, साइंस, सोसियोलॉजी और साइकोलॉजी जैसे क्षेत्रों के 45 विशेषज्ञों की राय के आधार पर तैयार की गई रिपोर्ट में, की गई है।

माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च के तत्वाधान में तैयार की गई रिपोर्ट में तथाकथित ह्यूमन-कंप्यूटर इंटरएक्शन (एचसीआई) के क्षेत्र में मौलिक परिवर्तन की भी भविष्यवाणी की गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2020 तक मानव, मशीनों से सवाल करते नजर आएंगे। बदले में कंप्यूटर यह पता करने में सक्षम होंगे कि आखिर हम उनसे चाहते क्या हैं। बहरहाल, मशीनों के साथ हमारे बढ़ते ‘संबंधों’ के बारे में नए नियमों की जरूरत होगी।

Being Human: Human-Computer Interaction in the year 2020′ शीर्षक वाले रिपोर्ट में इस बात पर भी रोशनी डाली गई है कि अगले दशक तक किस तरह तकनीकी के विकास मानवीय मूल्यों को बेहतर ढंग से दर्शाएंगे। माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च के बिल बक्सटन ने कहा कि यह दरअसल इस बारे में है कि प्रतिक्रियात्मक होने के बजाए हम तकनीकी के इस्तेमाल का किस तरह अनुमान लगाते हैं। फिलहाल मानव को इस प्रक्रिया का हिस्सा नहीं समझा जाता है।

बहरहाल, रिपोर्ट के लांच के मौके पर कुछ विशेषज्ञों ने अपने आधुनिक तकनीक को भी दर्शाया। गोल्डस्मिथ कॉलेज में प्रोफेसर बिल गैवर और उनकी टीम ने एक ड्रिफ्ट टेबल विकसित किया है। इसकी मदद से लोग अपने आस-पास के इलाकों की ‘एरियल फोटोग्राफी’ देख सकते हैं। गैवर ने बताया कि इस तकनीक को विकसित करने के पीछे कुछ खास मकसद नहीं था। लोग इसका इस्तेमाल मनोरंजन अथवा जानकारी बढ़ाने के लिए कर सकते हैं। मानव जरूरतों को पूरा करने वाली तकनीकी में ‘वेयरएबाउट क्लॉक’ भी शुमार है। इसे कैम्ब्रिज स्थित माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च के लैब में तैयार किया गया है। इस क्लॉक की मदद से लोग इस बात का पता लगा सकते हैं कि उनके परिवार के दूसरे सदस्य किस वक्त कहां हैं।

वैसे, अगर आप भी देखना चाहें तो १०० पृष्ठ की रिपोर्ट यहाँ हाजिर है।
साइज़: ३.१२ एमबी

मानव-कंप्यूटर, एक दूसरे में घुल-मिल जायेंगें!२०२० तक!?
लेख का मूल्यांकन करें
Print Friendly, PDF & Email

मेरी वेबसाइट से कुछ और ...

मानव-कंप्यूटर, एक दूसरे में घुल-मिल जायेंगें!२०२० तक!?” पर 4 टिप्पणियाँ

  1. भाई, बड़ी चमत्कारिक जानकारी है। इसे पढ़ कर अभिभूत हुआ जा सकता है।

  2. वर्ष 2020 तक … कंप्यूटर यह पता करने में सक्षम होंगे कि आखिर हम उनसे चाहते क्या हैं।
    *****************

    और कब तक यह पता करने में सक्षम होंगे कि हम औरों से/अपने से क्या चाहते हैं?

  3. बात सही है पर लगता है इसे होने में अभी अनुमानित वक्त से बहुत ही ज्यादा समय लग जाएगा. तब तक..?

इस लेख पर कुछ टिप्पणी करें, प्रतिक्रिया दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *


टिप्पणीकर्ता की ताज़ा ब्लॉग पोस्ट दिखाएँ
Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
[+] Zaazu Emoticons